हमें चाहने वाले मित्र

14 अक्तूबर 2020

जब तुम मेरा ख़त पढ़ोगी अल्फ़ाज़ के वक्फों में बैठा

 

जब तुम मेरा ख़त पढ़ोगी
अल्फ़ाज़ के वक्फों में बैठा
मैं देख रहा होंगा तुमको
पढ़ते-पढ़ते भवें चढ़ेंगी एक बार तो
फिर होठों के कोनों पर एक हल्की सी मुस्कान आकर रुक जाएगी
और तुम्हारी आदत को मैं जानता हूं
छोटी सी ज़बां होठों पर आकर फिर ग़ायब हो जाएगी
फिर सांस की लय में फर्क़ आएगा
दरवाज़े की जानिब मुड़कर देखोगी
कोई आया तो नहीं
फिर पढ़ने लगोगी, शिकन माथे की और गहरी हो जाएगी
आहिस्ता आहिस्ता आंखों में भर आएंगे आंसू
आंसू पोंछ के कुछ जुमले दो बार पढ़ोगी
कि आंसू लफ्ज़ों के वक्फों में आकर टपकेंगे
अब इससे ज़्यादा क्या समझाऊं दोनों एक फ़लक पर हैं हम
शाम की सुर्ख शफ़क़ हूं मैं, तुम सुबह की लाली हो
तुम्हें तो फ़लक़ चढ़ना है अभी
मैं कुछ देर में ओझल हा जाऊंगा
इससे ज़्यादा क्या समझाऊं…?

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...