हमें चाहने वाले मित्र

24 जनवरी 2021

भाजपा और भाजपाई , खुद अपने अंदर आंतरिक रूप से अपने खोये हुए अस्तित्व से चिंतित है

 भाजपा और भाजपाई , खुद अपने अंदर आंतरिक रूप से अपने खोये हुए अस्तित्व से चिंतित है ,,, साम्राज्यवाद की चाह में भाजपा ने ,,,, सियासत में कुर्सी पकड़ने के लिए सभी मर्यादाएं भंग कर , बेईमान , भ्रष्ट , गद्दारों , मौक़ापरस्तों को , पार्टी में मौक़ा देकर ,कुर्सी हथियाने की गंदी सियासत का इतिहास बनाया है ,, आज स्थिति यह है के भाजपा ,, खुद अपनी भाजपा में अपना अस्तित्व तलाश रही है , भाजपा में भाजपा नहीं ,, दूसरी पार्टियों की गंदगी , गद्दारी ,, या फिर भ्रष्टाचारी के आरोपी से ज़्यादा कुछ नहीं ,,, लोकनीति सी एस डी एस के रिसर्च फेलो स्टडी रिपोर्ट में साफ कहा गया है , के निर्वाचित 168 सांसद विधायक , सीधे भाजपा में चले गए हैं , उनमे कुछ पर भ्रष्टाचार के आरोप रहे , तो कुछ में सरकार में बैठे रहने की चाह ,,भूख ,रही तो कुछ में गद्दारी और बगावत , मौक़ापरस्ती का स्वभाव रहा ,, दल बदल करने वालों में 138 लोग यानी 82 प्रतिशत का इतिहास रहा ,, कांग्रेस में जिसने कहा मुझे राज्य सभा में लो , अगर कांग्रेस ने नहीं दिया , तो भाजपा से जाकर वोह राज्य सभा में चला गे ,, ,मंत्री बनाओं ,, नहीं बनाया तो भाजपा में जाकर वोह मंत्री बन गया ,,, मेरे मुक़दमे वापस लो , नहीं लिए तो भाजपा में जाकर उसने अपनी ज़मानत करवा ली या फिर ,मुक़दमे वापस करवा लिए , महाराष्ट्र में ऍन सी पी का बढ़ा उदाहरण है , जिस अजित पंवार के खिलाफ भाजपा उन्हें जेल भेजने के लिए हर सम्भव प्रयास में थी , वोह भाजपा सरकार बनाने के लिए एक दिन का उन्हें मुख्यमंत्री बनाती है , और फिर उसी दिन उनके सारे मुक़दमे वापस लेती है , दूसरे दिन मुक़दमे वापस लेने के बाद ,,तमाचा पढ़ता है , सरकार गिर जाती है , और फिर से अजित पंवार जिसके खिलाफ भ्रस्टाचार के भाजपा के आरोप थे , वोह खामोश हो जाती है ,,,, ऐसे कई दल बदल ,, उत्तर प्रदेश ,, गुजरात ,, मध्य्प्रदेश , मणिपुर ,मिजोरम ,, गोआ , कर्नाटक , पश्चिमी बंगाल , आसाम में इतिहास है ,, खुद हरियाणा में , भाजपा की सरकार किस गठबंधन की किन , शर्तों पर बनी , ,देश जानता है ,,, इन दल बदलुओं में से 57 प्रतिशत लोग कांग्रेस के सांसद ,, कांग्रेस के विधायक है , वोह तो राजस्थान भाग्यशाली है ,, जो यहाँ अभी तक इस तरह के भाजपा के,, गद्दारों को सम्मानित कर उनके पाप धोने उन्हें सत्ता में शामिल करने के प्रयोग सफल नहीं हो पा रहे है , यह आंकड़ा तो सिर्फ निर्वाचित पद पर बने हुए दल बदलुओं के हैं , इसके अलावा इस्तीफा देकर , भाजपा में शामिल हो कर ,,भाजपा के टिकिट पर चुनाव लड़ने वाले ,, पूर्व विधायक ,,पूर्व सांसद , पूर्व मंत्री ,, पार्टी के पदाधिकारियों की तो लम्बी फहरिस्त है , इसे कहते है ,,, कांग्रेस मुक्त भारत का सपना देखने वाली ,, भाजपा ,, अब कांग्रेस युक्त हो गयी है , लेकिन ,, कांग्रेस आज भी अपनी जगह डटी हुई है ,, देश में जो कुछ भी कांग्रेस ने बनाया है , उसे ठेके पर देने , बेचने के ,खिलाफ , जनता के शोषण के खिलाफ ,, किसानों को न्याय दिलवाने के पक्ष में ,,लगातार कांग्रेस ,, भाजपा के सभी दबाव ,, सी बी आई , प्रवर्तन निदेशालय ,, ई डी ,, फ़र्ज़ी मुक़दमों में गिरफ्तारियों के खौफ के बावजूद ,, आम लोगों के लिए , देशवासियों के लिए संघर्ष करने वाली एक मात्र पार्टी , कांग्रेस है ,, कांग्रेस जय जवान ,,, जय किसान है ,,, अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोटा में नशे के आदतन पुलिसकर्मियों को चिकित्सा व्यवस्था के तहत , नशा मुक्त कर ,,चिकित्सकीय अभियान , कोटा के पुलिस अधीक्षक डॉक्टर विकास पाठक का एक सराहनीय क़दम है

 

कोटा में नशे के आदतन पुलिसकर्मियों को चिकित्सा व्यवस्था के तहत , नशा मुक्त कर ,,चिकित्सकीय अभियान , कोटा के पुलिस अधीक्षक डॉक्टर विकास पाठक का एक सराहनीय क़दम है , इस क़दम से कोटा के कई पुलिसकर्मयों के घर परिवार , और उनकी ड्यूटी व्यवस्था में बदलाव आएगा , सुधार आएगा ,, यूँ तो खुद डॉक्टर विकास पाठक ,, चिकित्सक रहे है ,, वोह नशा मुक्ति आंदोलन के बारे में बेहतर समझते है , लेकिन इस मामले में कोटा में चिकित्सा सेवा समिति के रिछपाल पारीक ,,, डॉक्टर आर सी साहनी , डॉक्टर , एम एल अग्रवाल ,स्वर्गीय कौशिक जी महाराज ,के ऐतिहासिक कार्य रहे है ,, पुलिस अधीक्षक , ऍन आर के रेड्डी के कार्यकाल और इसके पूर्व , हर नशेबाज़ के लिए एक अभियान चलाकर पुनर्वास योजना थी , ऐसे अभियान में , खुद पुलिसकर्मी , पुलिस अधिकारी , नशा मुक्ति आद्नोलन का हिस्सा बने , बिना झिझके ,उन्होंने खुद की आदतन नशे की आदत स्वीकार की और उन्होंने ,, नशामुक्ति शिविर में इलाज कराकर , खुद को हमेशा के लिए नशा मुक्त कर लिया , इससे उनका स्वास्थ्य भी सुधरा ,,, उनकी ड्यूटी परफॉर्मेंस भी परफेक्ट हुई ,, पारिवारिक , कार्यालय व्यवहार में भी उनका अपमानकारी व्यवहार सम्मानजनक व्यवहार में बदला ,,,, डॉक्टर विकास पाठक पुलिस अधीक्षक कोटा ,, का यह अभियान हर हाल में कामयाब हो इसके लिए कोटा के जन प्रतिनिधि ,, कोटा की चिकित्सा टीम ,, ,कोटा के मीडिया कर्मी ,, कोटा के सभी ज़िम्मेदारों को ,, खुद आगे आकर इस प्रयोग के मददगार बनकर इसे सफल करना ही होगा ,,,, सभी जानते है ,स्वर्गीय कौशिक जी महाराज के कार्यकाल में ,, क़लम का कुआं ,, छबड़ा ,, बारां ,, छीपाबड़ोद ,, झालावाड़ ,, बूंदी के कई ज़िलों के कंजरो ने चोरी करना त्यागा तो , ,कई सरकारी ,अधिकारी कर्मचारियों सहित ,, कृषक , मज़दूरों सहित , आदतन अवैध शराब बनाकर , अवैध शराब बेचने के व्यवसाय में लगे लोगों ने इस अपराध को त्याग दिया ,,,, यूँ तो विरोधाभासी व्यवस्था में , यह काम बहुत मुश्किल है , एक तरफ जहाँ सरकार खुद खुलकर ,शराब बिक्री की व्यवस्थाओं में जुटी हो , वहां , चोर से कहो , चोरी करो ,साहूकार से कहो जागते रहियो , वाली कहावत प्रमाण्ति है ,, लेकिन फिर भी ,, हमे डॉक्टर विकास पाठक के इस सराहनीय क़दम के साथ कंधे से कंधा मिलाकर , इसकी प्रशंसा करना चाहिए , और इसे सिर्फ पुलिस विभाग तक ही सीमित नहीं रखकर ,प्रशासनिक स्तर पर , समाजसेवा स्तर पर , जनप्रतिनिधि स्तर पर ,, अभियान के रूप में चलाना चाहिए ,,, अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

डिजिटल वर्ल्ड,शॉपिंग सेंटर के सबसे पुराने कैमरा व्यवसायी श्री कन्हैयालाल जी गेहानी ने अपनी पत्नी कलावती गेहानी और बेटी नीलम गेहानी को प्रेरित कर, सभी ने सम्मिलित रूप से देहदान का संकल्प लिया।

डिजिटल वर्ल्ड,शॉपिंग सेंटर के सबसे पुराने कैमरा व्यवसायी श्री कन्हैयालाल जी गेहानी ने अपनी पत्नी कलावती गेहानी और बेटी नीलम गेहानी को प्रेरित कर, सभी ने सम्मिलित रूप से देहदान का संकल्प लिया।

कन्हैयालाल जी 7 वर्ष पूर्व में देहदान जैसे नेक कार्य के लिये,शपथ ले चुके है,आज उनकी धर्मपत्नी वह बेटी को भी उन्होंने देहदान के लिये प्रेरित किया, कोरोना के डर,व स्वास्थ्य की चिंता के कारण उन्होंने अपना देहदान संकल्प-पत्र कोटा संभाग में कार्य कर रही संस्था शाइन इंडिया फाउंडेशन को भर कर सौंपा । इस कार्य में लायन्स क्लब के जोन चेयरमैन भुवनेश गुप्ता का भी सहयोग रहा । 

सम्पूर्ण परिवार इस पुनीत कार्य की सराहना करते हुए कहता है कि, यह हमारे लिए हर्ष का विषय की हमारे परिवार में एक नेक कार्य के लिए पहल हुई है,साथ ही इसके लिये हमको ज्यादा प्रयास नहीं करना पड़ा,1 घंटे में ही घर पर फॉर्म भरने से पंजीकरण होने तक का काम हो गया । हमको खुशी है,की मृत्यु के बाद हमारे शरीर से भावी चिकित्सक अपनी पढ़ाई कर सकेंगे ।

आज नेत्रदान, अंगदान व देहदान के लिए संभाग से आये दिन, संकल्पित होने के लिए संस्था के पास दिन भर में सभी तरह के संकल्प करने के लिये कई फोन कॉल आते है,संस्था बिना समय गवायें,उनसे व्यक्तिगत मिलती है,और परिवार के सभी सदस्यों की समझाईश के साथ उन लोगों की इच्छापूर्ति करती है ।  पहले की अपेक्षा आज संभाग में इस पुनीत कार्य के प्रति लोगों में काफ़ी अच्छा रुझान है, 

73 वर्षीय कन्हैयालाल जी आज भी इतने सक्रिय है कि उन्हें  खाली बैठना और बेकार बैठे बैठे समय बर्बाद करना पसंद नही है, उनका कहना है कि मेरे भरे-पूरे परिवार का असीम प्रेम उनपर रहा है, जिसके कारण वह आज हर्ष-पूर्ण जीवन बिता रहे हैं। देहदान के इस कार्य में उनके दोनों पुत्र सुरेश व सतीश की पूर्ण सहमति है ।

शुरुआत से ही उनको फोटोग्राफी में दिलचस्पी रही है, ओर सामाजिक कार्यों में भी रुचि रखते हैं,यह नहीं चाहते कि हमारे जाने के बाद ,हम किसी फ़ोटो में कैद बनकर रह जाएं।

 

पूर्व अतिरिक्त जिला कलेक्टर का मरणोपरांत नेत्रदान

 

पूर्व अतिरिक्त जिला कलेक्टर का मरणोपरांत नेत्रदान 
थोड़े समय पहले जता चुके थे,नेत्रदान की इच्छा

कल शाम 88 वर्षीय दादाबाड़ी निवासी श्री कुंजबिहारी लाल नंदवाना जी का आकस्मिक निधन हो गया । सरल स्वभाव व मृदुलभाषी नंदवाना जी सदा लोगों के अधिकारों के लिये काम करते रहे है। अपने जीवन में उन्होंने एक ही लक्ष्य बना रखा था कि,उनके संस्कारों के कारण सभी की जितनी ज्यादा मदद हो सके,वह कर सकें ।

कल शाम को उनके देहांत के बाद उनके बड़े मँझले पुत्र राजकुमार नंदवाना ने शाइन इंडिया फाउंडेशन को पिता के नेत्रदान के लिये सम्पर्क किया। कुंजबिहारी जी प्रशासनिक सेवा में अतिरिक्त जिला कलेक्टर के पद पर प्रदेश में कई जिलों में रह कर अपनी सेवाएं दे चुके थे,कोटा में भी वह जॉइंट रजिस्ट्रार के पद पर रह चुके है ।


बार बार तबियत खराब रहने के कारण ,पाँच बेटों गिरीश,अनिल,संजय, राजकुमार व मनोज के पिता कुंजबिहारी जी ने बीते दिनों में ही बच्चों और पत्नि शीला को अपने नेत्रदान की इच्छा जता दी थी । मरणोपरांत परिवार वालों की सहमति से घर पर ही आई बैंक सोसायटी के तकिनीशियन ने नेत्रदान की प्रक्रिया पूरी की।

सर्व जन हित समाज सेवा समिति द्वारा सेक्टर 70 में बालिका दिवस मनाया गया

 

सर्व जन हित समाज सेवा समिति द्वारा सेक्टर 70 में बालिका दिवस मनाया गया
संगीता चौधरी जी ने बताया सेक्टर 70 में गरीब मजदूर अपने बच्चों को स्कूल नही भेज पाते इस लिए पार्क में करीब 60 बच्चो को अपने खर्च पर पढ़ाते हैं समिति के अध्यक्ष राम नरेश पाल ने कहा हम हमेशा ऐसे बच्चों की मदद करते रहेंगे बच्चो को कॉपी पेंसिल शोपनर रबड़ समोसे फ्रूटी देकर बालिका दिवस मनाया इस मौके पर रऊफ अहमद सिद्दीकी राजकुमार अग्रवाल पवन राजसिंह व सेक्टर के गणमान्य लोग उपस्थित रहे संस्था 26 जनवरी को भी फेस 3 के स्कूल में बच्चों को मिठाई बांट कर झंडा फहरायगी
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...