हमें चाहने वाले मित्र

14 अक्तूबर 2020

पति-पत्नी दोनों सरकारी अधिकारी थे.

 

💁पति-पत्नी दोनों सरकारी अधिकारी थे...
जिसमें पत्नी जो थीं वे एक रैंक छोटी अधिकारी थी ।
एक बार उनमें ऐसी खटपट हो गई की बोलचाल भी बन्द..!! !😇
घर में तीसरा कोई नहीं था तो बड़ी तकलीफ हो गई ।
खैर, चूँकि दोनों सरकारी सेवक थे सो इस चुप्पी का भी हल निकाल लिया ।
नोट-शीट के माध्यम से लिखा-पढ़ी करके बातचीत होने लगी ।
एक शाम जब पति महोदय घर आये तो पत्नी ने नोट शीट पेश कर दी : थके हुए लगते हैं, क्या चाय लेना चाहेंगे?
पति ने लिखा : यथा प्रस्तावित
😀
पत्नी ने आगे भी लिखा : आदेश हो तो साथ में बिस्किट भी संलग्न किये जावे..?
पति ने लिखा :- अनुमोदित, किन्तु मात्र 2 ही स्वीकृत
इसी प्रकार नोट शीट पर लिख-लिख कर चाय-पानी, खाना पीना वगैरह चलने लगा..
किन्तु बातचीत बन्द ही थी😥
अचानक एक दिन पत्नी ने नोटशीट प्रस्तुत की :
मेरी माताजी का स्वास्थ्य ठीक नहीं है, चार दिनों के लिए मायके जाना चाहती हूँ, कृपया अवकाश स्वीकृत कर रिलीव करें।😦
पति ने लिखा : स्वीकृत, किन्तु "वैकल्पिक व्यवस्था" सुनिश्चित करने के पश्चात् ही अवकाश पर जावें ..
और फिर क्या था.....😜😛😛😅😅उसके बाद पानीपत का चौथा युद्ध प्रारंभ हुआ
👊🏻👊🏻👊🏻👊🏻👊🏻
अब पतिदेव मेडिकल लीव पर हैं......😝

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...