हमें चाहने वाले मित्र

22 जून 2020

धैर्य , संयम ,अनुशासन ,, तत्परता , कर्तव्यनिष्ठा ,निर्भीकता ,का समन्यव एक बेहतर प्रशासनिक अधिकारी के लिए ज़रूरी होता है ,कमोबेश ,हाड़ोती में बारां ज़िले के मूल ,राजस्थान प्रशासनिक सेवा में चयनित कोटा में अतिरिक्त नगर दंडनायक पद पर तैनात अधिकारी रामदयाल मीणा ,उर्फ़ आर डी मीणा पर लागु होता है

धैर्य , संयम ,अनुशासन ,, तत्परता , कर्तव्यनिष्ठा  ,निर्भीकता ,का समन्यव एक बेहतर प्रशासनिक अधिकारी के लिए ज़रूरी होता है ,कमोबेश ,हाड़ोती में बारां ज़िले के मूल ,राजस्थान प्रशासनिक सेवा में चयनित कोटा में अतिरिक्त नगर दंडनायक पद पर तैनात  अधिकारी रामदयाल मीणा ,उर्फ़ आर डी मीणा पर लागु होता है ,,, प्रशासनिक कार्यों को चुनौती के रूप में स्वीकार करना , सभी प्रशासनिक कार्यों की बारीकियां समझ कर अपने  अधीनस्थों से उनकी विशेषज्ञ रिपोर्ट लेकर ,वरिष्ठ अधिकारीयों , जिलाकलेक्टर से समन्वय स्थापित कर ,निर्विवाद तरीके से काम करना इनकी पहचान है ,यही वजह रही है के हाड़ोती के कई महत्वपूर्ण पदों पर इनकी  ज़िम्मेदार नियुक्तियों के बावजूद भी इनके खिलाफ किसी के पास भी कहने के  कोई शब्द नहीं है ,,उलटे ,इनकी कार्यशैली की दबंगता ,विश्वसनीयता , ईमानदारी  ,अनुशासन इनकी अनुकरणीय पहचान है ,,,रामदयाल मीणा ,,जिन्हे  अब आर डी मीणा के नाम से प्रशासनिक अधिकारी के रूप में जाना जाता ,है हाड़ोती मूल के बारां ज़िले के ,है जिनका जन्म 19 नवम्बर 1965 को हुआ ,बारां में  उन्होंने अव्वल नम्बरों से ,प्राथमिक ,, मिडिल ,हायरसेकेंडरी  परीक्षा  विज्ञानं में ,पास की ,खेलकूद में भी यह बैडमिंटन के शौक़ीन ,रहे ,बारां  कॉलेज से 1986 में आर डी मीणा ने इकोनॉमिक्स ,पोलिटिकल साइंस , फिलॉसफी में ग्रेजुएशन किये , फिर कोटा राजकीय महाविधयालय से 1987 में इकोनॉमिक्स में मास्टर की डिग्री की पास कर ,, आर डी मीणा ,राजस्थान प्रशानिक सेवा की तय्यारियों  में लग गए ,, दूसरे कामकाज के साथ ,आर डी मीणा ,लगातार अपनी कोशिशों में जुटे रहे ,इनकी महनत रंग लायी ,,10 जनवरी 1996 को इनकी परीक्षाओं का परिणाम सुखद रहा , इनका लक्ष्य कामयाब हुआ ,,आर डी मीणा खुद भी आशावादी है ,और दूसरों को भी हर तरह की निराशा से अलग हटकर , आशावाद के साथ लक्ष्य हांसिल करने के लिए पूरी , महनत ,लगन ,ईमानदारी से जुट जाने की सीख देते है ,,वोह ज़िंदगी को एक प्याज के छिलके की तरह स्वीकार करते है ,,इसे जितना छीलोगे छिलती जायेगी ,इसमें गंध  भी होगी ,,इसकी ज़रूरत भी होगी ,स्वाद भी होगा ,वोह कहते है ,ऐसे में निराश ,होने चिंतित होने की ज़रूरत नहीं है खुद भी ,, खुश रहो , दूसरों को भी खुश रखो ,उनका विचार ,है एक कामयाब ज़िंदगी के लिए खुशमिजाज़ी के साथ , अपने लक्ष्य के प्रति  सकारात्मक सोच के साथ ईमानदाराना मेहनत की ज़रूरत है ,, आर डी मीणा ,1996 में चयनित प्रशासनिक सेवा के बाद हरीश चंद्र माथुर प्रशिक्षण संस्थान में ,प्रशिक्षु रहे ,इन्होने अधिकारियों के निर्देशों की शत प्रतिशत पालना करना ,, अपनी प्रशासनिक ज़िम्मेदारियों को ईमानदारी ,निर्भीकता ,बिना किसी दबाव के ,विधि नियमों के तहत सम्पादित करने की शपथ ली ,इस व्यवस्था को खुद के प्रशासनिक कार्यों के संपादन में , अंगीकार किया ,,आर डी मीणा सीकर में सहायक कलेक्टर रहे ,इन्हे जालोर में एस  डी एम लगाया गया ,,जैसलमेर में कोलोनाइजेशन सहायक कमिश्नर की ज़िम्मेदारी संभालने के ,बाद आर डी मीणा बूंदी, ,भीलवाड़ा बनेड़ा ,,बड़ीसादड़ी चित्तोड़  में एस डी एम रहे , इन्हे 2004 में झालवाड़ अतिरिक्त कलेक्टर नियुक्त किया गया ,, कोटा में आर डी मीणा रसद अधिकारी के पद पर कार्यरत रहने के बाद , भरतपुर राजस्व अपील अधिकारी के  पद  पर नियुक्त हुए ,, आर डी मीणा कोटा नगरनिगम में आयुक्त पद पर रहने के ,बाद इन्हे अतिरिक्त कलेक्टर सीलिंग ,बूंदी ज़िले में लगाया गया ,वहीँ से  परिषद भरतपुर , चित्तौड़गढ़ , नागौर , इनकी नियुक्ति हुई ,, आर डी मीणा ,रजिस्ट्रार एग्रीकल्चर यूनिर्वर्सिटी से , कोटा अतिरिक्त नगर दंडनायक के पद पर तैनात हुए ,, अलग अलग ज़िलों में ,गांव की सरकार , शहर की सरकार ,व्यवस्था में इनका अपना अनुभव रहा ,, कई बार राजनीतिक विवाद ,चुनौतियां ,शिकवे शिकायत इनके प्रशानिक जीवन में मुखर होकर आयी ,लेकिन खामोशी से ,बिना घबराये , ईमानदारी ,क़ानूनी व्यवस्थाओ के साथ आर डी मीणा ने हर चुनौती  को स्वीकार ,किया,  मुक़ाबला किया , उस पर जीत ,,हांसिल की , कोटा अतिरिक्त नगर दंडनायक का पद वैसे ही ,चुनाव व्यवस्थाएं ,, प्रशासनिक लाइसेंसिंग व्यवस्थाएं ,,क़ानून व्यवस्था प्रबंधन , न्यायिक व्यवस्था सहित कई मायनों में चुनौतीपूर्ण  पद ,है ऐसे में जब कोटा जिला संवेदनशील हो ,यहाँ सियासत की द्विपक्षीय पेतरेबाजियां हो ,  पार्टियों के वरिष्ठ ज़िम्मेदार वी आई पी लीडरशिप हो , पार्टियों में भी अलग अलग गुटबाज़ियाँ हों ,ऐसे में ,,यहाँ व्यवस्थाएं संभालना निश्चित तोर पर   चुनौतीपूर्ण है ,,लेकिन आर डी मीणा ,,धैर्य ,संयम ,विश्वास ,वरिष्ठ अधिकारीयों खासकर , जिलाकलेक्टर का विश्वास जीतते , उनसे मागर्दर्शन करते ,है हर तरह के विवादित कार्यों को लेकर ,अधीनस्थ कर्मचारियों से पूरी पत्रावली की पोस्टमार्टम रिपोर्ट लेते है ,,विधि अधिकारी की राय लेते ,है फिर ज़िम्मेदारी से ,उस काम को बिना अटकलबाज़ी के ,  बिना सिफारिशबाज़ी के , विधिक व्यवस्था के तहत ,करते ,है ऐसे में उनके  खिलाफ कहने के लिए कुछ नहीं ,है नियमित सभी ज़िम्मेदरियों का सम्पादन ,,क़ानून व्यवस्था प्रबधन  के लिए शहर की व्यवस्थाओं ,मुद्दों  का  फीडबैक ,कच्चा चिटठा इनके पास मौजूद रहता है ,हर पत्रावली में सभी विधिक फोर्मलिटीज़ होने के बाद ,एक मिनट भी किसी का काम नहीं रुके , ऐसा अधीनस्थ  कर्मचारियों को  निर्देश है ,अधीनस्थ कर्मचारियों के कामकाज की पूरी मॉनिटरिंग भी लगातार क्रॉस टेली करने का इनका स्वभाव ,है ताकि कोई भी व्यक्ति इनके कार्यालय में अनावश्यक परेशान ,प्रताड़ित न हो , नौकर शाही का शिकार न हो ,सके अभी कोरोना संक्रमण ,लोकडाउन के वक़्त ,कोटा कोचिंग छात्र छात्राओं को कोटा से पहुंचाना , उनके कोटा में रहते वक़्त उनकी देखभाल ,, पास  व्यवस्था सहित अन्य व्वयस्थाये निश्चित तोर पर  चुनौतीपूर्ण थी ,लेकिन समाजसेवक हो ,सियासी प्रतिनिधि हों ,अधीनस्थ कर्मचारी ,हो , कोरोना कंट्रोल रूम व्यवस्था हो ,, जिला कलेक्टर हो ,सभी से इनका समन्वय स्थापित रहा ,, नतीजे सकारात्मक रहे , जब कोटा में कुछ लोगों द्वारा पास व्यवस्था में दलाली करने की शिकायते इन्हे मिली तो इन्होने ज़िम्मेदारी , निर्भीकता से ,जिला कलेक्टर सहित कई ज़िम्मेदारों को इस अव्यवस्था ,लूटपाट की घटना की जानकारी दी , व्यवस्थाओं में बदलाव हुआ ,सरलीकृत व्यवस्थाएं ,हुई बिचौलियों की कढ़ी को तोडा गया ,ज़रूरतमंद  आवेदक को सीधा ही ऑन लाइन रेस्पोंस मिला ,,नतीजन हज़ारों हज़ार लोगों का लोकडाउन में ,आवागमन सुलभ ,सरल हो सका ,, अनावश्यक संक्रमित लोगों के आवागमन पर भी रोक लगी , आर डी मीणा अभी कोटा में अतिरक्त कलेक्टर नगर के पद पर तैनात ,है जहाँ यह प्रोटोकॉल ऑफिसर का काम हो ,चाहे लाइसेंसिंग कार्य ,हो ,चाहे क़ानून व्वयस्था प्रबंधन हो ,चाहे विधिक मामलों की सुनवाई के मामलों सहित , दूसरे ज़िम्मेदारी वाले कार्य हो ,सभी की मॉनिटरिंग ,,मासिक बैठकें ,उनकी व्यवस्थाएं यह लगातार ज़िम्मेदारी से कर रहे ,है ,, अनेकों बार इनके अनुशासन , कर्तव्यनिष्ठा  , विधिक व्यवस्था के तहत कार्य सम्पादन में ,कुछ छोटे टकराव होते ,है जिन्हे यह , विधिक व्यवस्था से समझाइश कर ,संबंधित व्यक्ति को संतुष्ट कर ,समझाइश करने में सक्षम भी है , लोगों में ,अधीनस्थों ,में आर डी मीणा की पहचान है ,,आर डी बॉस से गलत काम कोई भी हो करवा नहीं सकता ,,जबकि सही , विधिक व्यवस्था के तहत सम्पादित होने वाला काम कोई भी इनसे रुकवा सकता नहीं ,,,आर डी मीणा धर्म कर्मकांडों के भी आस्थावान है ,, वोह गीता का अध्ययन भी करते ,तो रामायण का भी अध्ययन करते है , वह पूजा पाठ व्यवस्थित तरीके से सम्पादित करते है ,, ईश्वर का खौफ उनके दिल दिमाग में है ,, वोह अनावश्यक किसी को सताने से बचते है , गंभीर स्वभाव के साथ ,  खुद को अपने कामकाज में परफेक्ट  रखते है ,जबकि स्ट्रेस होने पर ,,बैडमिंटन खेलते  हैं , तो ज्ञानवर्धक पुस्तकें पढ़ते है ,, धार्मिक पुस्तकों का अध्ययन कर हर तरह की चुनौतियों का जवाब उसमे तलाश कर लेते है ,,,   अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...