हमें चाहने वाले मित्र

22 जून 2020

ऐसे भी जिंदगी से निभाना पड़ा मुझे।

गज़ल:- हलीम " रैहान " एडवोकेट
ऐसे भी जिंदगी से निभाना पड़ा मुझे।
रूठा तो खुद ही खुद को मना ना पड़ा मुझे।
भाई ने एक दिन यूहीं दहलीज लांघ ली।
फिर यूं - हुवा दीवार गिराना पड़ा मुझे।
सूरज की पार साई अबस रास आगई।
रातों के हादसात भुलाना पड़ा मुझे।
एक राह रो को राह दिखाने के वास्ते।
मानिंद-ए-दीप घर को जलाना पड़ा मुझे।
"रैहान" अब दिलों के रिश्ते कहां रहे।
ज़हनो में बसना और बसाना पड़ा मुझे।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...