हमें चाहने वाले मित्र

24 जुलाई 2019

तो वो उदास होकर बोले ~

. 😳😘 😇 😘😳
गफूर भाई गुमसुम बैठे थे,
पूछा ~ क्या हुआ ? तो ... बोले ~
शुक्लाजी ... *आपकी भाभी शबनम ने*
*नाक कटवा दी.*

मैंने पूछा ~ वो कैसे ?
तो वो उदास होकर बोले ~
हम दोनों *टॉयलेट फिल्म* देखने गए थे,
ट्रेफिक के कारण ....
फिल्म में कुछ देर से पहुँचे.
मैंने पूछा ~ इसमें क्या नाक कटवा दी ?
वो बोले ~ शुक्लाजी !
शबनम सारे मोहल्ले में
कहती फिर रही है कि ....
*मैं और मेरे पतिदेव टॉयलेट गये थे.*
*लेट हो गए, तो ....*
*थोड़ी सी निकल गई.*
अब मैं किस-किस को समझाऊँ

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...