हमें चाहने वाले मित्र

05 नवंबर 2017

चलो खिचड़ी की बात करें

चलो खिचड़ी की बात करें ,,इसमें शलवार बाबा का उत्पाद क्यों नहीं डाला ,,मसाले भी टाटा के ,,,चांवल किस क्वालिटी के थे यह ही बता दो ,,चलो इस खिचड़ी को पकाने से लेकर ,,वितरित करने का टेंडर क्या जारी क्या गया था ,,अगर टेंडर जारी हुआ था तो न्यूनतम खर्च वाले को क्या यह टेंडर मिला ,,या मन चाहे व्यक्ति को बिना टेंडर नियम के राठोड़ी कर यह काम दिया गया ,,,सरकार का मामला ,है ,कैसे बनी ,,खिचड़ी ,,कितने खर्च की बनी खिचड़ी ,,चावल उत्पाद किस क्वालिटी के थे ,,घी तेल किस कम्पनी के थे ,,यह सब तो देखना होगा ,,सार्वजनिक रिकॉर्ड है दिखाना होगा ,,अखबार ,,टी वी सभी को इस पर बहस करना चाहिए ,,इस मुद्दे को खुलासा करना चाहिए ,,क्योंकि अजमेर शरीफ में ख्वाजा के दरबार में हर रोज़ इस खिचड़ी से चार गुना ज़्यादा ,,वेज खिचड़ी ,,,आस्थावानों द्वारा बिना धर्म मज़हब के बंधनो के बनाई जाती है ,,जो बहुत सस्ती और क्वालिटी वाली बनती है ,,एक देग में जो खिचड़ी पकाकर इतरा रहे है इससे चारगुना खिचड़ी एक टाइम पर बनती है ,,और मिडिया दल्ला गिरी करके कहता है ,,खिचड़ी का विश्वरिकॉर्ड बना है ,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...