हमें चाहने वाले मित्र

22 मई 2017

एक कुल्हाड़ी कमज़ोर होती है ,लेकिन

एक कुल्हाड़ी कमज़ोर होती है ,,लोहे की होती है ,,धारधार होती है ,,लेकिन लकड़ी की एक डाली भी काट नहीं सकती ,,बस इस लोहे की कुल्हाड़ी में इसी लकड़ी का एक हिस्सा लगाकर ,,वार किया जाए ,,तो लकड़ी की डालियाँ तो किया ,,बढे बढे लकड़ी के पेड़ इस कुल्हाड़ी में लकड़ी का डंडा लगने के बाद काट दिए जाते है ,,एक लकड़ी जो कुल्हाड़ी में लगती है ,लकड़ी को काटने का कारण बनती है ,,उत्तर प्रदेश के मंत्री मोहसीन रजा ,,को भाजपा ऐसी कुल्हाड़ी बनाने में कामयाब हो गयी है ,,बाक़ी आर एस एस मुस्लिम मंच के लोग और कुछ दलाल तो यह कुल्हाड़ी की लकड़ी पहले से ही बन चुके है ,,मोहसीन साहिब ,,उत्तरप्रदेश में कुल्हाड़ी की लकड़ी बनकर ,,बढे बढे पेड़ काटने के लिए शुक्रिया ,,आपको प्रमोशन मिलेगा ,,वाह वाही मिलेगी ,,जी टी वी के मालिक सुभाष चंद्रा की तरह राज्य सभा की सदस्य्ता ,,बाबा रामदेव की तरह मंत्री दर्जा के बाद जेड सुरक्षा ,,रजत शर्मा पत्रकार जी की तरह पदम् श्री और न जाने क्या क्या आपको मिल सकता है जनाब ,,अख्तर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...