हमें चाहने वाले मित्र

03 सितंबर 2016

निज़ाम कुरैशी ने ,,,इनकी नियुक्ति के बाद,,,, सो से भी अधिक कस्बो ,,ज़िलों और विधानसभा क्षेत्रो में ,,,कई बार सियासी बैठके ली है

राजस्थान में एक तरफ ,,भाजपा के खिलाफ और दूसरी तरफ ,, कोंग्रेस के पक्ष में उत्साहित माहौल है ,,लेकिन ,,के परम्परागत वोट ,,,अल्पसंख्यको में गलतफहमी बढ़ जाने ,,,और कुछ कोंग्रेस के नेताओ की,,, नज़रअंदाज़ी से ,,अल्पसंख्यक समाज में ,,कोंग्रेस के प्रति जो नाराज़गी,, पिछले चुनाव में देखने को मिली थी ,,उसे कोंग्रेस के पक्ष में करने के लिए ,,राजस्थान प्रदेश कोंग्रेस कमेटी ,,,प्रदेश अल्पसंख्यक विभाग के सुप्रीमो ,,चेरयमैन ,,,निज़ाम कुरैशी,,, अपनी टीम के साथ ,,,राजस्थान भर के दौरे पर है ,,वोह पुरे दम खम से ,,अल्सपंख्यकों की,,,, हर परेशानी के समाधान के लिए,,, संघर्ष कर रहे है,, और पुरे राजस्थान में अल्पसंख्यको को ,,,फिर से कोंग्रेस के साथ,,,, जोड़ने में कामयाब भी हुए है ,,निज़ाम कुरैशी ने ,,,इनकी नियुक्ति के बाद,,,, सो से भी अधिक कस्बो ,,ज़िलों और विधानसभा क्षेत्रो में ,,,कई बार सियासी बैठके ली है ,,जबकि पूरी दो सो विधानसभा ,,चार सो ब्लॉकों में,,, निज़ाम कुरैशी ने अपने अल्पसंख्यक कार्यकर्ताओ का ,,,एक नेटवर्क कोंग्रेस के पक्ष में ,,,खड़ा कर कॉग्रेस को मज़बूती दी है ,,,निज़ाम कुरैशी ,,,पिछली गहलोत सरकार में ,,,राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त ,,खेल विकास प्राधिकरण के चेयरमेन रहे है ,,वोह फुटबॉल के राष्ट्रीय खिलाडी रहे है,,, इसलिए सियासत को ,,,वोह खेल की तरह देखते है ,,,कोंग्रेस ज़िंदाबाद के साथ साथ ,,,,निज़ाम कुरैशी को ,,अल्पसंख्यको की समस्याओ ,,,उनके समाधान ,,उनके मान सम्मान और उचित प्रतिनिधित्व की भी,,, पूरी फ़िक्र है ,,,निज़ाम कुरैशी ने ,,,सभी ज़िला कार्यकारिणी और प्रदेश कार्यकारिणी में ,,,गंगा जमनी तहज़ीब के तहत ,,सिक्ख ,,क्रिश्चियन और जेन बन्धुओ को उचित प्रतिनिधित्व भी दिया है,,, और उनके धार्मिक ,,सामजिक कार्यक्रमो में शामिल होकर ,उनमे अपनत्व का भाव भी जाग्रत किया है ,,,कोमी एकता के संगम की अनूठी ,,,यह शुरुआत ,,निज़ाम कुरैशी ने की है ,,,जो सभी ज़िलों में,,, मॉडल के रूप में जारी है ,,,,निज़ाम कुरैशी के नेतृत्व में ,,,प्रदेश स्तर की ,,,बीस से भी अधिक बैठके ,,दर्जनों प्रशिक्षण कार्यक्रम ,,,सो से भी अधिक ,ज़िला ,,ब्लॉक और संभाग के कार्यकर्ता सम्मेलन हो चुके है ,,,निज़ाम कुरैशी की लोकप्रियता का अंदाज़ा इसी से लगाया जा सकता है,,,, के वोह जिस ज़िले ,,जिस विधानसभा क्षेत्र में,,,, कार्यकर्ताओ के सम्मेलन में जाते है ,,वहां जनता का ,,,इन्हें भारी समर्थन मिलता है ,,,फूलमालाएं और साफों से ,,,इनका अभूतपूर्व स्वागत होता है ,,,हालात यह है के जनता के समर्थन का ,,,कार्यकर्ताओ के पक्ष में ,,निज़ाम कुरैशी ,,,उनका जवाब पूरी गर्मजोशी से ,,,उनका पारिवारिक सदस्य बनकर ,,हमदर्दी से देते है ,,कार्यकर्ताओ की कोई भी ,,,निजी समस्या हो ,,उनके क्षेत्र के ,,,आम लोगो की सार्वजनिक समस्या हो ,,निज़ाम कुरैशी,,, बिना किसी टालमटोल के,,, इस समस्या के लिए,,,, किसी भी ताक़त से टकरा जाते है ,,चाहे संगठन में प्रतीनिधित्व दिलवाने का सवाल हो ,चाहे ,उर्दू जुबांन को बचाने का फ़र्ज़ हो ,,रोज़गार योजनाए हो ,,पुलिस उत्पीडन के मामले हो ,शिक्षा जाग्रति कार्यक्रम हो ,, सामजिक सरोकार के कार्यक्रम हो ,,,,सभी में ,,निज़ाम कुरैशी ,,,,एक पारिवारिक सदस्य की तरह से ,,अपने पन के साथ शामिल होते है और वोह दिल से दिल की ,,मर्दो वाली बात कर ,,सभी को प्रभावित कर लेते है ,,,,हाल ही में,,, निज़ाम कुरैशी ने ,,मुस्लिम प्रतिनिधित्व और समस्याओ के मामले में,,, कोंग्रेस संगठन के बेरुखी मामले में ,,,कोंग्रेस संगठन की ,,,आन्तरिक प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में,,, ऐसे मुद्दे शेर दिली के साथ,,, बेबाकी से उठाये ,,,जो आज तक ,,,कोई भी अल्पसंख्यक लीडर ,,,संगठन में उठाने का साहस नहीं कर सका ,,राजस्थान के पीड़ित और उपेक्षित ,,,मुस्लिम समाज उन्हें इस दिलेरी के लिए शाबाशी देता है ,,ऐसे हमदर्द ,,,शेर दिल प्रतिनिधित्व को ,,जिन्होंने प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में ,,प्रदेश अध्यक्ष,,, .सह प्रभारी ,,प्रभारी के समक्ष ,,राजस्थान में मुस्लिम मुद्दों पर कोंग्रेस की उपेक्षा और प्रतिनिधित्व में उपेक्षा के मुद्दे उठाये ,,निज़ाम कुरैशी ने साफ़ तोर पर ,,,प्रभारी महोदय को कहा,,, के जनाब,,, हमारी उर्दू की समस्या हो ,,कोई नहीं बोलता ,,हमे खुद लड़ना पड़ता है ,,अल्सपंख्यक विभाग ने इस मामले में राजस्थान भर में विरोध प्रदर्शन कर हस्ताक्षर अभियान चलाये ,,निज़ाम कुरैशी ने कहा,,, हमारे लोगो को उचित प्रतिनिधत्व देने में कंजूसी है ,, कमी है ,,हमारे लोगो के मदरसों की जांच के नाम पर,,,, उन्हें प्रताड़ित किया जाता है ,,एक पांच साल के मासूम मदरसे के बच्चे से ,,,,,एक वर्दीधारी पुलिस कर्मी ,,,रुआबी आवाज़ में,,, उसका नाम पूंछता है ,,बदतमीज़ी से ,,,उसके बाप का नाम पूंछता है ,,फिर उसके बाप के ,,,आतंकवादी संगठन से ,,जुड़ा होने ,,,नहीं जुड़ा होने के बारे में ,,,सवाल करता है ,,इस गैरज़रूरी और दुखदायी जांच के मामले में,,, सभी को शिकायत मिलती है ,, लेकिन,,, हमारा कोई साथी,,, आवाज़ नहीं उठाता ,,विधानसभा में ,,,अल्पसंख्यक खासकर मुस्लिम समस्याओ के मुद्दे,,, हमारे विधायक नहीं उठाते है ,,संगठन की तरफ से,,, इनके संरक्षण में आवाज़ नहीं उठाई जाती है ,,निज़ाम कुरैशी ने कहा,,, के हमे सभी कोमो को साथ लेकर चलना है ,,यह चुनाव,,,, हर हाल में जीतना है ,,इसीलिए हमे ,,,अपने चरित्र में कथनी करनी में,,,, बदलाव करना होगा ,,निज़ाम कुरैशी के,,, बेबाक निर्भीक,,, इस अल्पसंख्यको के ,,दर्द को सुनकर ,,कोंग्रेस के एक दिग्गज ,,,अल्पसंख्यक नेता से ,,रहा नहीं गया और उन्हें ,शेर दिल ,,कहकर शाबाशी देने से वोह खुद को रोक नहीं सके ,,निज़ाम कुरैशी अब फिर से ,, राजस्थान भर में ,,,कोंग्रेस के पक्ष में प्रचार प्रसार को लेकर ,,प्रदेश कोंग्रेस अध्यक्ष ,,प्रभारी ,,सहप्रभारी ,,वरिष्ठ नेताओ ,,राष्ट्रिय अल्पसंख्यक विभाग के राष्ट्रिय अध्यक्ष से मार्गदर्शन लेकर ,,एक नया अभियान छेड़ने वाले है ,,जिसमे निज़ाम कुरैशी अपनी टीम के साथ,, दो सो विधानसभा क्षेत्रो के हर ब्लॉक ,,हर बूथ तक ,,,पहुंचकर अल्पसंख्यको को कोंग्रेस से ,,,,सो फीसदी जोड़ने का टारगेट अभियान चलाएंगे ,,,,,,,,,,,,,,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...