हमें चाहने वाले मित्र

21 अप्रैल 2016

प्रणव मुखर्जी सर को अब तो खुद ही इस्तीफा दे देना चाहिए

आदरणीय राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी सर को अब तो खुद ही इस्तीफा दे देना चाहिए ,,,देश के सर्वोच्च पद पर बैठे ,राष्ट्रपति महोदय को चाहे किसी भी पार्टी ने उम्मीदवार बनाकर इस लायक बनाया हो ,,लेकिन उन्हें राजधर्म निभाना चाहिए था ,,संविधान के संरक्षक आदरणीय राष्ट्रपति महोदय ,,के कार्यालय में कई दर्जन विशेषज्ञ क़ानून विद कार्यरत है ,,,उत्तराखंड में निर्वाचित सरकार को गिराकर वहां राष्ट्रपति शासन के परवाने पर हस्ताक्षर करने के पहले उन्हें पूर्ण सावधानी बरत कर क़ानून की मर्यादा का ध्यान रखना था ,,लेकिन अफ़सोस थोड़े से दबाव में ,,उत्तराखंड में सरकार गिरा कर लोकतंत्र का गला घोट दिया गया ,,अब राष्ट्रपति भवन की प्रक्रिया से नियुक्त आदरणीय हाईकोर्ट जज साहब ने इस आदेश को अवैध मानकर खारिज कर दिया है ,,,राष्ट्रपति महोदय के इस आदेश की फजीहत के बाद ,,खुद ही आदरणीय राष्ट्रपति को मर्यादाओ के आचरण के तहत अपनी कुर्सी से इस्तीफा दे देना चाहिए ,,वर्ना इन हालातों में लोकतंत्र और संविधान की मर्यादाओं पर प्रश्न चिन्ह लग सकता है ,,,,,,,,,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...