हमें चाहने वाले मित्र

22 फ़रवरी 2016

राम मंदिर बनाने की परमीशन के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंचे स्वामी, कल सुनवाई



सुब्रमण्यम स्वामी (फाइल फोटो)
सुब्रमण्यम स्वामी (फाइल फोटो)
नई दिल्ली. अयोध्या में राम मंदिर बनाने की परमीशन के लिए बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने सुप्रीम कोर्ट में पिटीशन फाइल की है। स्वामी ने अपनी पिटीशन में कहा है कि यह साबित हो चुका है कि वहां राम मंदिर था। स्वामी ने कहा है कि राम मंदिर को किसी और जगह पर नहीं बनाया जा सकता क्योंकि यह हिंदुओं की परंपरा और आस्था से जुड़ी हुआ मामला है। सुप्रीम कोर्ट मंगलवार को इस पिटीशन पर सुनवाई करेगा...
स्वामी की याचिका में क्या है?
- सुब्रमण्यम स्वामी ने सोमवार को अयोध्या में विवादित स्थल पर राम मंदिर निर्माण के संबंध में CJI की अध्यक्षता वाली बेंच के सामने यह पिटीशन फाइल की है।
- पिटीशन में कहा गया है कि सड़क बनाने जैसे जनता से जुड़े मुद्दों को लेकर कई इस्लामी देशों में मस्जिदों को शिफ्ट किया जाता रहा है, लेकिन मंदिरों को एक बार बन जाने के बाद नहीं हटाया जाता।
- स्वामी ने कहा कि अयोध्या में विवादित ढांचे को सरयू नदी के पास से कहीं और शिफ्ट नहीं किया जा सकता।
- सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि राम मंदिर-बाबरी मस्जिद कंट्रोवर्सी से संबंधित अन्य मामलों की सुनवाई कर रही बेंच ही इस मामले की भी सुनवाई करेगी।
स्वामी का दावा- दिवाली तक शुरू हो जाएगा मंदिर निर्माण
- शनिवार को आरएसएस के एक कार्यक्रम में स्वामी ने दावा किया कि राम मंदिर बनाने का काम इस साल दिवाली के बाद शुरु हो जाएगा।
- वे आरएसएस के प्रचार विभाग की तरफ से ऑर्गनाइज किए प्रोग्राम 'राम जन्मभूमि उभरता परिदृश्य' को एड्रेस कर रहे थे।
- स्वामी ने दावा किया कि इलाहाबाद हाई कोर्ट में पेश किए गए सभी सबूत इस तरफ इशारा करते हैं कि विवादित जगह पर बाबरी मस्जिद से पहले कभी भगवान राम का मंदिर था।
- उन्होंने इसी जगह पर राम मंदिर का निर्माण होना जरूरी बताया। उन्होंने यह भी कहा- मैंने सुप्रीम कोर्ट में इस मामले की रोज सुनवाई किए जाने के लिए भी अर्जी डाल दी है जिस पर फैसले का इंतजार है।
- स्वामी ने मांग की कि दूसरे पक्ष को जमीन के उस टुकड़े पर दावा बंद कर देना चाहिए।
- उन्होंने कहा- मैं कभी हिंसा के दम पर इसे हासिल नहीं करना चाहता।
राम मंदिर मुद्दा, यह है मौजूदा स्थिति
- 30 सितंबर, 2010 को इलाहाबाद हाईकोर्ट की जस्टिस सुधीर अग्रवाल, एस यू खान और डी.वी. शर्मा की बेंच ने मंदिर मुद्दे पर अपना फैसला भी सुनाते हुए विवादित परिसर को तीन हिस्सों में बांटने को कहा था।
- हाई कोर्ट ने अयोध्या की विवादित 2.77 एकड़ जमीन को तीन बराबर हिस्सों में बांटने का आदेश दिया था। बेंच ने तय किया कि जिस जगह पर रामलला की मूर्ति है उसे रामलला विराजमान को दे दिया जाए। राम चबूतरा और सीता रसोई वाली जगह निर्मोही अखाड़े को दे दी जाए। बचा हुआ एक- तिहाई हिस्सा सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड को दिया जाए।
- हाईकोर्ट के इस फैसले के बाद अयोध्या की विवादित जमीन पर दावा जताते हुए रामलला विराजमान की तरफ से हिन्दू महासभा ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की।
- दूसरी तरफ, सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड ने भी हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी। इसके बाद कई और पक्षों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिकाएं दायर की।
- इन सभी याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने 9 मई, 2011 को हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगा दी और अब ये पूरा मामला सुप्रीम कोर्ट में पेंडिंग है।
- सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा कि इसमें काफी समय लग सकता है। केस से जुड़े हजारों कागजात हैं। इनमें अरबी, फारसी और संस्कृत के कागजात भी शामिल हैं। इनका अनुवाद भी किया जाना है। कागजातों के डिजिटलाइजेशन में भी लंबा वक्त लगता है।
स्वामी ने दिया था ऑफर
- दिल्ली युनिवर्सिटी में जनवरी, 2016 में हुए प्रोग्राम के दौरान स्वामी ने विशेष समुदाय के लोगों को एक ऑफर दिया था।
- उन्होंने ट्वीट कर लिखा था- "हम हिंदू मुस्लिमों को भगवान कृष्ण जैसा ऑफर पेश करते हैं। हमें तीन मंदिर दे दीजिए, अपने पास 39,997 मस्जिदें रखिए।
- "हमें उम्मीद है कि मुस्लिम नेता दुर्योधन जैसा बर्ताव नहीं करेंगे।"
- उन्होंने कहा था, "हमारी संस्कृति फिर से जीवित करने के लिए अयोध्या में राम मंदिर बनाना जरूरी है।
- पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने पर्सनली मुझसे कहा था राम मंदिर बनेगा।
- पार्टी के विरोध के बाद भी राम जन्मभूमि उन्होंने बाबरी मस्जिद के दरवाजे खुलवाए। टीवी पर रामायण सीरियल दिखाया।
- 1989 के चुनाव अभियान में वे कहते थे कि देश में रामराज्य लाएंगे।
- स्वामी ने कहा "मुझे उम्मीद है कि मंदिर निर्माण के लिए कांग्रेस न केवल आगे आएगी, बल्कि समर्थन भी करेगी। मंदिर बनाना सिर्फ हमारी नहीं बल्कि देश की मांग है।"

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...