हमें चाहने वाले मित्र

21 अक्तूबर 2015

शहीदों की बेवाओं ने

☞शहीदों की बेवाओं ने शालें लौटा दीं।
☞फौजियों ने मेंडल लौटा दिए।
☞लेखकों ने साहित्य सम्मान लौटा दिए।
☞पड़ौसी मुल्को ने मुह फेर लिया।
☞मित्र राष्ट्रों ने पाकिस्तान को सैन्य सहायता देदी।
☞ बलात्कार के मामले बढ़ गए।
☞ दंगे 10 गुना तक बढ़ा दिए गए।
☞भ्रष्टाचार चरम पर है।
☞महंगाई आसमान पर है।
☞किसान सूली पर है।
बस मन की बात रेडियो पर है
बीफ पर बैन है पर एक्सपोर्टर नंबर 1 पर है।
गुंडागर्दी चरम पर है।
यही हैं अच्छे दिन। मौज करो......

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...