हमें चाहने वाले मित्र

25 अक्तूबर 2015

देश में नरेंद्र मोदी की चमत्कारिक कामयाबी के बाद हर वर्ग ,,हर जाती ,,हर समाज में एक विशेष सिंड्रोम ,,मानसिक रोग की बीमारी पनप रही है

हमारे देश में नरेंद्र मोदी की चमत्कारिक कामयाबी के बाद हर वर्ग ,,हर जाती ,,हर समाज में एक विशेष सिंड्रोम ,,मानसिक रोग की बीमारी पनप रही है और देश में वर्तमान में विकास की डोर थम जाने के पीछे यही सिंड्रोम ,,मानसिक रोग है ,,,एक वर्ग गौरवान्वित होकर यह समझने लगा है के ,,हम जो चाहेंगे कर लेंगे ,,क़त्ल भी करेंगे हम तो हमारा मुंसिफ हमे बचा लेगा ,,राज हमारा तो मनमर्ज़ी हमारी ,,,ना कोई क़ानून ,,ना कोई मर्यादा ,,,ना कोई सलीक़ा ,,,,बस इसी लिए इस बीमारी ,,इस सिंड्रोम से ग्रसित लोग सड़को पर ,,चौराहों पर ,,गलियों में ,,गांव में हर जगह नंगा नाच कर रहे है ,,,यह वर्ग इस सिंड्रोम के तहत खुद को पूरी तरह से सुरक्षित किसी भी तरह की क़ानूनी कार्यवाही से मुक्त मानने लगा है ,,,,,दूसरी तरफ वोह वर्ग है जिसे असुरक्षा का सिंड्रोम हो गया है ,,,ज़रा सी बात पर वोह बढ़ी चिंता प्रकट कर रहा है ,,,उसे सुरक्षित सिंड्रोम के उत्पातियों से खतरा लगने लगा है और असुरक्षित सिंड्रोम के मरीज़ डरे ,सहमे से हो गए है उनके मन में देश के संविधान ,,देश के क़ानून ,,देश की पुलिस ,,देश की सरकार से भरोसा उठा हुआ है वोह सोचते है के सुरक्षित सिंड्रोम के मरीज़ ,,असुरक्षित सिंड्रोम के मरीज़ों के साथ जो भी चाहे कर लेंगे उनका कुछ नहीं बिगड़ेगा ,,इसके लिए यह लोग उदाहरण भी देते है ,,,दोस्तों इस सुरक्षित और असुरक्षित सिंड्रोम की बीमारी से देश लगातार पिछड़ रहा है ,,देश में विकास के मुद्दे तार तार हो गए है ,,,प्रधानमंत्री नरेदंर मोदी इस सिंड्रोम के लिए ज़िम्मेदार नहीं है ,,यह अचानक पनपा सिंड्रोम है लेकिन यह बिमारी लाइलाज नहीं है इसका इलाज सम्भव है और इसका कोई विशेषज्ञ डॉक्टर कोई मनोचिकित्सक नहीं खुद डॉक्टर नरेंद्र मोदी होंगे ,,अगर वोह सुरक्षित सिंड्रोम के लोगों को यह बता दे के क़ानून तोड़ने पर कोई भी दुनिया की ताक़त उन्हें नहीं बचाएगी क़ानून अपना काम करेगा और अपना पराया का भेद भुलाकर अगर कुछ लोग जेल में चले जाए तो उनका यह सुरक्षित सिंड्रोम मानसिक रोग की बीमारी ठीक हो जायेगी ,,इधर असुरक्षित सिंड्रोम को डॉक्टर नरेंद्र मोदी यह विश्वास दिलाये के कानून अपना काम कर रहा है ,,किसी को घबराने की ज़रूरत नहीं ,,देश का क़ानून सभी के लिए है देश में क़ानून का राज है जंगल राज नहीं ,,,निश्चित तोर पर कुछ अराजकता तो फैलेंगी लेकिन एक बार इस नुस्खे से देश के हालात बदल जाएंगे और सच नरेंद्र मोदी एक लोकप्रिय नेता के साथ लोकप्रिय मनोचिकित्स्क भी बन जाएंगे ,,,,,,,,लेकिन क्या नरेंद्र मोदी हिंदुस्तान की एकता , ,,अखंडता ,,,,सहिष्णुता ,यहां के विकास ,,सुख शांति के लिए ऐसा कर सकेंगे ,,इसका इन्तिज़ार है ,,,हमने तो भाई इस मुल्क की नब्ज़ देखकर नुस्खा बता दिया ,,बीमारी बता दी ,,इलाज बता दिया अब डॉक्टर नरेंद्र मोदी इलाज करे तो ठीक नहीं तो फिर अराजकता के इस माहोल में तीन साल तो और जीना ही है फिर नए डॉक्टर आएंगे उनसे दरख्वास्त करेंगे और क्या ,,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...