हमें चाहने वाले मित्र

25 अक्तूबर 2015

नोजवानो को उकसाने और गुमराह करने वालों से बचना चाहिए वोह किसी एजेंसी के मुखबिर होकर अपराध करवाकर या फिर अपराध की साक्ष्य एकत्रित कर झूंठे मामलों में फंसा सकते है

मुस्लिम नोजवानो को उकसाने और गुमराह करने वालों से बचना चाहिए वोह किसी एजेंसी के मुखबिर होकर अपराध करवाकर या फिर अपराध की साक्ष्य एकत्रित कर झूंठे मामलों में फंसा सकते है ,,यह सीख आज कोटा इस्लामिक सेंटर में आयोजित ,,भारत का आतंकवाद से मुक्ति ,,अभियान के तहत मानवाधिकार कार्यकर्ता सुहेल के के ने कही ,,,,,,,,,,,सुहेल के के आतंकवाद में झूंठा फंसाने के मामले पर काफी शोधपत्र भी लिख चुके है और डॉक्यूमेंट्री फिल्मे भी बना रहे है वोह क़ुईल फाउंडेशन ऑफ़ इन्डिया के निदेशक ,,मानवाधिकार कार्यकर्ता ,,,है तथा मुस्लिम छात्र संगठन के राष्ट्रिय अध्यक्ष भी रह चुके है ,,,,,,,,,,सुहेल के के ने आज प्रगतिनगर नयापुरा स्थित खचाखच भरे इस्लामिक सेंटर में कहा के अंतर्राष्ट्रीय और स्थानीय स्तर पर आतंकवाद की घटनाये प्रायोजित भी होती है बेववजह भी होती है ,,उन्होंने कहा के अमेरिका ने इराक़ के खिलाफ रासायनिक हथियार के झूंठे साक्ष्य एकत्रित कर संयुक्त राष्ट्र संघ को कथित रूप से इराक़ को आतंकवादी बता कर उसे बर्बाद करने में राज़ी कर लिया लेकिन बाद में सभी साक्ष्य झूंठे निकले ,,ब्रिटेन ने इसकी तहक़ीक़ात करवाई तो सभी साक्ष्य झूंठे और मनघडन्त साबित हुए ,,,सुहेल ने कहा के न्यूयार्क में एक बांग्ला देश के मुस्लिम नौजवान को एक मोलवी जैसे आदमी ने बुलाया नमाज़ के लिए कहा ,,वोह नमाज़ नहीं पढ़ता था लेकिन उसे नमाज़ की शिक्षा दी ,,यह नौजवान नमाज़ पढ़ने लगा ,,हुलिया मुसलमान का बना लिया ,,उसे इस मोलवी ने अमेरिका के खिलाफ काफ़िर होने की वजह से जंग करने के लिए कहा वोह नौजवान तय्यार हो गया ,,इस नौजवान को आतंकवादी से मिलाया ,,बम प्लान हुए और जहाँ बम फ्टना था वहां नंबर दबाने के बाद भी बम नहीं फ्ता लेकिन एफ बी आई और नौजवान को बढ़ी आतंकवादी घटना के मामले में पकड़ लिया गया ,,इस नौजवान की हर तस्वीर विडिओ जांच एजेंसी ने जब अदालत में पेश की तो एक अख़बार की तहक़ीक़ात के बाद पता चला के वोह मोलवी एफ बी आई का एजेंट था वोह अातंकवाद का इस्लाम से संबंध जोड़ने के लिए साक्ष्य एकत्रित करने के लिए इस नौजवान को उकसाकर ऐसा कर रहा था ,,सुहेल खान ने कहा के भारत में करकरे की मोत के मामले में अगर घटनाये देखे तो साफ़ है ,,करकरे ने सभी अपराधियो को पकड़ कर अपनी जाँच में रिपोर्ट तय्यार कर ली थी के ,,अभिवन भारत के ज़रिये अमेरिका ,,इज़राइल और नेपाल मिल कर भारत में आतंकवादी हमले करवा रहे है और इस्लाम को बदनाम कर रहे है ,,अभिनव भारत के लोग इन देशो से दो हज़ार बीस तक भारत को हिन्दू राष्ट्र घोषित करवाने में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मदद चाहते थे ,,लेकिन इन देशो ने हथियार तो दिए ,,नक़द मदद दी लेकिन हिन्दू राष्ट्र मामले में चुप्पी साध गए ,,,उन्होंने कहा यह दस्तावेजी सुबूत है ,,,संसद पर हमले के मामले में अफज़ल गुरु के लिए अदालत ने खुद लिखा है इनके खिलाफ कोई सीधी साक्ष्य नहीं है लेकिन जनता की संतुष्ठी के फांसी देना ज़रूरी है ,,अफज़ल गुरु को भी जांच एजेंसी के एक अधिकारी ने पहले किसी को बुलाकर दिल्ली छोड़ने के लिए कहा फिर उसे साक्ष्य के नाम पकड़वा दिया ,,उन्होंने कहा के मुखबिर बनाकर ,,मुखबिर बनकर ,,या फिर जांच एजेंसिया हमारे अपने लोगों का हुलिया बनाकर आती है ,,नोजवानो को उकसाती है और जो नौजवान उकसाने में आजाता है फिर उसके खिलाफ साक्ष्य के साथ उसे पकड़वा देते है ,,,उन्होेन कहा के हमले अाखिर विवाद के वक़्त क्यों होते है ,,संसद में ताबूत घोटाला चल रहा था ,,हमला हो गया ताबूत घोटाला गायब ,,,उन्होंने कहा मुंबई बम ब्लास्ट करकरे जांच के किसी नतीजे पर पहुंच रहे थे ,,आतंकवादी घटना हुई करकरे की मोत ,,,अभिनव भारत के खिलाफ मिडिया चुप ,,कोई जांच पड़ताल नहीं सब बंद ,,उहोने कहा के हम मुसलमान है इस्लाम से ताल्लुक़ रखते है ,,हमारा आतंकवाद से कोई संबंध नहीं है ,,हमे हमारे अखलाक़ , ,आचरण ,,दूसरे समाज के लोगों से दोस्ताना व्यवहार के साथ उनका विश्वास जीतना होगा ,, जो लोग हमे भड़काते है उनके भड़कावे में नहीं आये दूसरे सभी समाजो के साथ उठे बैठे हिलमिल कर रहे ,,उनपर विश्वास करे उनका विश्वास जीते ,,इस मुल्क की अमन ,,, ,,सुकून की ज़िम्मेदारी हमारी है ,,इस मुल्क के लिए हम अपनी ज़िम्मेदारी समझे ,,उन्होंने कहा के हम हमारे नौजवान ऐसे बहकाने वालो से दूर रहे जो उकसा कर इस्लाम की तस्वीर बदनाम करना चाहते है ,,,उन्होंने कहा के हमे भारत में जो लोग अपराधिक घटनाओ से जुड़े है ,,जो लोग आतंकी घटनाओ से जुड़े है उनसे अलग थलग होकर ,,भारत को आतंकवाद मुक्त ,,देश घोषित करवाने में मदद करना है ,, सेमीनार में कोटा शहर क़ाज़ी अनवार अहमद,,,,गुलशेर अहमद ,,,गफ्फार मिर्ज़ा ,,अज़ीज़ अंसारी ,, अब्दुल रशीद क़ादरी ,,,तबरेज़ पठान मदनी सहित कई प्रबुद्ध लोग मौजूद थे ,,,, ,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...