हमें चाहने वाले मित्र

12 सितंबर 2015

बेटा बने डॉक्टर इसलिए पुलिस अफसर ने रट डाली मेडिकल की किताबें

बेटा बने डॉक्टर इसलिए पुलिस अफसर ने रट डाली मेडिकल की किताबें
सीकर. यूं तो राजस्थान पुलिस में डीएसपी हैं रामचंद्र मूंड, लेकिन एक खास बात उन्हें अन्य पुलिस वालों से अलग करती है। अपने दो बेटों को डॉक्टर बनाने के लिए उन्होंने खुद इतनी लगन से पढ़ाई की कि बेटे कहते हैं अगर पिताजी परीक्षा दें तो पास होकर मेडिकल कॉलेज में भर्ती हो सकते हैं।
सफलता के लिए ललक ऐसी कि बेटों की परीक्षा के लिए खुद भी मेडिकल की किताबें व नोट्स पढ़ें। ताकि बेटे पढ़ाई करते-करते कहीं अटक जाएं तो टीचर की मदद नहीं लेना पड़े, पिता खुद ही उनकी परेशानी दूर कर दें। इसी जज्बे का नतीजा है कि लगातार तीन साल की पढ़ाई के बाद दोनों बेटे एआईपीएमटी में सफल हो गए हैं।

शुक्रवार को ही इंस्पेक्टर मूंड का डीएसपी के पद पर प्रमोशन हुआ है। वे झुंझुनूं सीकर डिस्कॉम में डीएसपी बनाए गए हैं। मूंड का 19 वर्ष का बड़ा बेटा भागीरथ जयपुर के एसएमएस मेडिकल कॉलेज और 17 वर्ष का छोटा बेटा गौरख बीकानेर के सरकारी मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस कर रहा है। 49 साल के मूंड ने पहले दो साल तक बड़े बेटे को तैयारी करवाई।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...