हमें चाहने वाले मित्र

11 सितंबर 2015

राजनाथ ने पाक रेंजर्स से कहा- पाकिस्तान से ज्यादा इस्लामिक तो हिंदुस्तान है

शुक्रवार को केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात करने पहुंचे पाकिस्तान रेंजर्स के डीजी मेजर जनरल उमर फारूख बुर्की।
शुक्रवार को केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात करने पहुंचे पाकिस्तान रेंजर्स के डीजी मेजर जनरल उमर फारूख बुर्की।
नई दिल्ली/जम्मू. केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को उनसे मिलने आए पाकिस्तान रेंजर्स के डीजी मेजर जनरल उमर फारूख बुर्की को कई मुद्दों पर खरी-खरी सुनाई। राजनाथ ने पहले कहा कि पाकिस्तान से ज्यादा इस्लामिक देश तो हिंदुस्तान है, क्योंकि आपके मुल्क से ज्यादा मुसलमान तो यहां रहते हैं। राजनाथ ने यह भी कहा कि भारत कभी पाकिस्तान पर पहले गोली नहीं चलाएगा। राजनाथ की दोटूक बातें सुनने के बाद पाकिस्तान रेंजर्स के डीजी बैकफुट पर आ गए। उन्होंने माना कि हिंदुस्तान महान और बड़ा है। यह भी कहा कि चूंकि वे नेता नहीं हैं, इसलिए कोई कमिटमेंट नहीं दे सकते।
राजनाथ और पाक रेंजर्स के डीजी के बीच क्या हुई बातचीत?
- राजनाथ : भारत पाकिस्तान सहित सभी पड़ोसियों से अमन चाहता है। यही वजह थी कि मोदीजी ने शपथ ग्रहण पर सभी पड़ोसी देशों के नेताओं को बुलाया। अटलजी भी कहा करते थे कि हम दोस्त बदल सकते हैं, पड़ोसी नहीं। हम कभी आप पर पहले गोली नहीं चलाएंगे। लेकिन घुसपैठ रोकना आपकी जिम्मेदारी है।
- बुर्की : मैं सिर्फ एक फोर्स का डीजी हूं। मैं आपकी तरह लीडर नहीं हूं। इसलिए मैं कोई कमिटमेंट नहीं दे सकता। लेकिन आपका मैसेज पाकिस्तान की लीडरशिप तक जरूर पहुंचा सकता हूं। हमारा मुल्क भी अमन चाहता है। कभी-कभी गलतफहमी के चलते फायरिंग हो जाती है।
- राजनाथ : हिंदुस्तान में पाकिस्तान से ज्यादा मुस्लिम आबादी है। हमारे यहां मुस्लिमों के 72 फिरके हैं। इतने फिरके (सेक्शन) किसी और देश में नहीं हैं।
- बुर्की : आपका मुल्क काफी बड़ा और महान है। हम आपसे अच्छे रिश्ते चाहते हैं।
24 घंटे भी नहीं टिकी फायरिंग रोकने को लेकर बनी रजामंदी
भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर अमन कायम करने की रजामंदी 24 घंटे भी नहीं टिकी। गुरुवार को बीएसएफ के साथ बातचीत के बाद पाकिस्तानी रेंजर्स के अफसरों ने सूफी म्यूजिक और भारतीय जायके का लुत्फ उठाया था। लेकिन शुक्रवार सुबह ही पाकिस्तान की फौज ने एलओसी पर फायरिंग कर दी।
कहां हुई फायरिंग?
जम्मू-कश्मीर के राजौरी सेक्टर में एलओसी पर पाकिस्तान ने शुक्रवार सुबह 4 से 5 बजे के बीच फायरिंग की। जम्मू में डिफेंस स्पोक्सपर्सन लेफ्टिनेंट कर्नल मनीष मेहता ने बताया- पाकिस्तान ने बिना किसी उकसावे के फायरिंग की। इसके बाद इंडियन आर्मी ने भी मुंहतोड़ जवाब दिया।
क्या ये है सीजफायर तोड़े जाने की वजह?
दिल्ली में बीएसएफ और पाकिस्तान रेंजर्स के बीच बातचीत चल रही है। ये दोनों सिक्युरिटी फोर्स इंटरनेशनल बॉर्डर पर तैनात है। वहीं, इंडियन आर्मी और पाकिस्तानी फौज की तैनाती एलओसी पर है। पाकिस्तानी आर्मी हमेशा से भारत के साथ किसी भी तरह की बातचीत के खिलाफ रही है। मीडिया रिपोर्ट्स में यही कहा जा रहा है कि पाकिस्तानी आर्मी नहीं चाहती कि डीजी लेवल की बातचीत में कोई कामयाबी हासिल हो।
फायरिंग नहीं करने पर गुरुवार को ही बनी थी रजामंदी
दिसंबर 2013 के बाद बीएसएफ और पाकिस्तान रेंजर्स के बीच दिल्ली में बातचीत हो रही है। गुरुवार को इसका पहला दिन था। पाकिस्तान रेंजर्स के डीजी मेजर जनरल उमर फारूख बुर्की की अगुआई में 16 मेंबर्स का डेलीगेशन भारत आया है। भारतीय डेलीगेशन की अगुआई बीएसएफ चीफ देवेंद्र कुमार पाठक ने की। गुरुवार शाम को खबर आई कि दोनों देश बॉर्डर पर फायरिंग बंद करने को लेकर रजामंद हो गए। ढाई साल में चौथी बार ऐसा फैसला हुआ था।
पहले कब-कब बनी थी ऐसी रजामंदी?
- जनवरी 2013 : दोनों देशों के बीच तय हुआ था कि वे एक-दूसरे पर फायरिंग नहीं करेंगे। कई दिनों की फायरिंग के बाद भारत-पाकिस्तान की आर्मी के बीच यह सहमति बनी थी। लेकिन बाद में पाकिस्तान सीजफायर तोड़ता रहा।
- जुलाई 2014 : भारत-पाकिस्तान के डीजी मिलिट्री ऑपरेशन्स के बीच एक बार फिर इसी तरह की रजामंदी बनी।
- अगस्त 2014 : बीएसएफ और पाकिस्तान रेंजर्स की एक यूनिट चिनाब रेंजर्स के बीच 35 मिनट की मीटिंग हुई। इसमें तय हुआ कि एक-दूसरे पर फायरिंग नहीं की जाएगी।
- सितंबर 2015 : जुलाई-अगस्त के दौरान भारत-पाकिस्तान के बीच भारी तनाव के बाद दिल्ली में बीएसएफ-पाक रेंजर्स के बीच मीटिंग हुई। इसमें भी फायरिंग नहीं करने पर सहमति बनी।
मीटिंग शुरू होने से एक दिन पहले तक पाकिस्तान ने की थी फायरिंग
डीजी लेवल की बातचीत शुरू होने से ठीक एक दिन पहले बुधवार को भी पाकिस्तान ने सीजफायर तोड़ा था। जम्मू की कृष्णा घाटी और पुंछ एरिया में सीमापार से फायरिंग हुई। जवाब में बीएसएफ ने भी फायरिंग की थी।
जो कल तक कर रहे थे फायरिंग, उन्होंने सुना सूफी म्यूजिक, लिया भारतीय जायका
मीटिंग के लिए भारत आए पाकिस्तानी रेंजर्स ने शुक्रवार दिनभर बीएसएफ के साथ बातचीत के बाद शाम को सूफी संगीत और शानदार भारतीय खाने का लुत्फ उठाया। पाकिस्तानी मेहमानों के लिए बीएसएफ ने एक म्यूजिकल इवनिंग रखी थी। इस मौके पर कई आर्टिस्ट्स ने परफॉर्म किया। मशहूर सिंगर हंसराज हंस ने पंजाबी लोक गीत पेश किए। सूफी म्यूजिक के साथ-साथ पाॅपुलर हिंदी फिल्मी गाने भी पेश किए गए। पाकिस्तानी रेंजर्स के डीजी मेजर जनरल उमर फारूक बुर्की सहित बाकी अफसरों के लिए हुए इस प्राेग्राम के एक दिन पहले तक पाकिस्तान ने सीजफायर तोड़ा था।
वेज, नॉनवेज दोनों परोसे गए
म्यूजिकल प्रोग्राम के बाद पाक मेहमानों को इंडियन खाना परोसा गया। इसमें वेजिटेरियन और नॉन वेजिटेरियन, दोनों ऑप्शन थे। इस खाने को पैरामिलट्री फोर्सेज के बेहतरीन शेफ की एक टीम ने तैयार किया था। इससे पहले, पाक रेंजर्स ने होम मिनिस्टर राजनाथ सिंह से भी मुलाकात की। शनिवार को ज्वाइंट रिकॉर्ड ऑफ डिस्कशन साइन करने के बाद पाक रेंजर्स वतन लौट जाएंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...