हमें चाहने वाले मित्र

13 अगस्त 2015

धाक.


एक-दो पे नहीं,
मेरी सैंकड़ों में थी !
और..
गिनती भी मेरी शहर
के बड़ों-बड़ों में थी ।

दफ़न..
छःफ़ीट के गड्ढे में
कर दिया मुझको !
जब कि..
ज़मीन मेरे नाम
तो एकड़ों में थी ।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...