हमें चाहने वाले मित्र

28 अगस्त 2015

गहलोत और सचिन पायलट सहित 8 लोगों पर CBI ने दर्ज किया गबन का केस

पूर्व सीएम अशोक गहलोत(बाएं) और सचिन पायलट - फाइल फोटो
पूर्व सीएम अशोक गहलोत(बाएं) और सचिन पायलट - फाइल फोटो
जयपुर। राजस्थान में 108 एंबुलेंस सेवा में 2.56 करोड़ रुपए के गबन मामले में राज्य सरकार की सिफारिश पर सीबीआई ने आठ के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। इनमें पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पूर्व केन्द्रीय मंत्री सचिन पायलट के अलावा पूर्व चिकित्सा मंत्री दुर्रु मियां, पूर्व केंद्रीय मंत्री वायलार रवि के पुत्र रवि कृष्णा, केरल सरकार के पूर्व आर्थिक सलाहकार शफी मातेर, पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम के पुत्र कार्तिक चिदंबरम, एनआरएचएम के तत्कालीन निदेशक व जिगित्सा हेल्थ केयर कंपनी की सीईओ श्वेता मंगल भी हैं। सीबीआई ने शुक्रवार को जिगित्सा कंपनी के मुंबई और जयपुर में झालाना स्थित ऑफिस में सर्च कार्रवाई की और दस्तावेज जब्त किए।

सभी 8 लोगों को सीबीआई ने गबन का आरोपी मानते हुए आईपीसी की धारा 420, 467, 468, 471 और 120 बी में मामला दर्ज किया है। यह मामला आठ माह से केन्द्र सरकार के पास विचाराधीन था। इस बीच सीबीआई ने इस प्रकरण की एक इंटरनल रिपोर्ट तैयार की और केन्द्र सरकार को राज्य सरकार की मंशा पर तथ्यों से अवगत कराया था। कुछ दिनों पहले दिल्ली सीबीआई ऑफिस के अधिकारियों ने जयपुर ऑफिस से अशोक नगर थाने में दर्ज एफआईआर की कॉपी मांगी थी। इसके बाद केन्द्रीय कार्मिक मंत्रालय ने सीबीआई को आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज करने के आदेश दिए थे। सीबीआई के प्रवक्ता आरके गौड़ ने मामला दर्ज होने की पुष्टि की है।

ललित गेट प्रकरण के दौरान सरकार सक्रिय
ललित गेट प्रकरण के कारण राज्य सरकार जुलाई में इस मामले को लेकर सक्रिय हो गई थी। इस संबंध में एसीएस होम ने राज्य सरकार की मंशा पर केन्द्र सरकार को मामले में जल्दी कार्रवाई को लेकर एक महीने पहले लेटर लिखा था।
सीबीआई को सौंपने की वजह
108 एंबुलेंस सेवा की फंडिंग केंद्र सरकार की स्कीम के तहत की गई थी। आरोप है कि मुख्य रुप से केंद्रीय मंत्रियों के कार्यालयों का मिस यूज हुआ है। इसमें उनके रिश्तेदार भी शामिल हैं। कंपनी का एक निदेशक एनआरआई है और इंटरपोल से मदद के लिए सीबीआई ही नोडल एजेंसी है। स्थानीय पुलिस एजेेंसी इस मामले की जांच करने की स्थिति में नहीं है।
बदले की भावना से कार्रवाई : पायलट
सीबीआई यह सब वसुंधरा सरकार के इशारे पर कर रही है। यह सब बदले की भावना से हो रहा है। भाजपा कुछ सालों से मामले की जांच करवा रही है, पर कुछ हाथ नहीं लग रहा। मुझे फंसाने की कोशिश की जा रही है। कंपनी से मेरा सरोकार नहीं है। - सचिन पायलट, प्रदेशाध्यक्ष, कांग्रेस
मुख्यमंत्री खुद के बेटे की भी जांच कराएं : गहलोत
लोगों का ध्यान हटाने के लिए और राजनीतिक दुर्भावना से ये सब किया जा रहा है। मुख्यमंत्री और उनके बेटे दुष्यंत पर गंभीर आरोप हैं। मुख्यमंत्री खुद के साथ बेटे पर लगे आरोपों की भी सीबीआई जांच की सिफारिश करें।- अशोक गहलोत, पूर्व मुख्यमंत्री

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...