हमें चाहने वाले मित्र

25 जुलाई 2015

राजस्थान में पढ़ना चाहती हैं बेटियां पढ़ाने वाला कोई नहीं – हुसैन


सरकारी स्कूलों में बेटियों में पढने की ललक है, पर टीचर लगाने में भाजपा सरकार विफल
कोटा 25 जुलाई राजस्थान के राजकीय बालिका उच्य माध्यमिक विध्यालों में पढने वाली बेटियों में पढने की ललक तो है पर इन्हें पढ़ने के लिए स्कूलों में पर्याप्त टीचर तक भाजपा सरकार देने में नाकाम हो रही है ऐसे में बेटी बचाओ बेटी पढाओ जैसी मुहीम का क्या मतलब जब सरकार ही बेटियों की नहीं सुन रही आम आदमी पार्टी पर्वक्ता पार्षद मोहम्मद हुसैन ने इस मामले में वसुंधरा सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा की जब स्कूल में शिक्षक ही नहीं होंगे तो छात्राओं के परिणाम कैसे अच्छे होंगे यही वजह है की राजस्थान भारत में एक ऐसा प्रदेश बनता जा रहा है जहाँ सबसे ज्यादा बेटियां
आठवीं के बाद अपनी पढाई छोड़ देती है जिसका एक सामाजिक पहलु भी है अगर बेटियां पढाई छोडती हैं तो नाबालिग उम्र में ही उनकी सादी कर दी जाती है जबके आर टी आई के नियमों के तहद 35 बच्चों पर एक शिक्षक होना चाहिए लेकिन जमीनी हकीक़त कुछ और ही है हुसैन ने कहा की शिक्षकों की यह कमी रातों रात नहीं आई यह सरकार की लापरवाही का नतीजा है जिसके कारण कोटा सहित प्रदेश भर में बेटियां सिक्षा के अधिकार व टीचर बढाने की मांग को लेकार जगह जगह सड़कों पर उतर रहीं है हुसैन ने राजस्थान सरकार को चेताते हुए कहा की बेटियों की सिक्षा को लेकर
सरकार जल्द ही कोई ठोस कदम उठा कर शिक्षकों की कमी पूरी नहीं करेगी तो राज्य भर में आम आदमी पार्टी का कार्यकर्त्ता सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतरेगा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...