हमें चाहने वाले मित्र

25 जुलाई 2015

सोशल मिडिया पर,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

सोशल मिडिया पर गुस्से और एक दूसरे के खिलाफ परस्पर बहसबाज़ी ,,छीटाकशी को खत्म कर प्यार बांटने की मेरी अपील के बाद एक जनाब ने मुंबई से बढ़े गुस्से में मुझे फोन किया ,,गुस्से में ही मुझ से राम राम की ,,सलाम किया और गुस्से में ही कहा के अख्तर साहब ,,में आपकी ,,आपकी लेखनी और विचारो की क़द्र करता हूँ ,,मेरी पत्नी भी आपके विचारों की फेन है ,,में भी आपका फेन हूँ ,,लेकिन जनाब ,,हाथी के पीछे कुत्ते क्यों भोंकते है ,,,,कुत्ते की दम सो साल नली में रखने के बाद भी टेडी की टेडी क्यों रहती है ,,कोई भी वैज्ञानिक इसका अर्थ नहीं जान पाया है ,,,इसलिए भाई कुत्तो की दुम काटना होगी ,,,,,,भोंकने वाले कुत्तो को क़ैद करना होगा ,,,,,वरना यह समाज जंगल हो जाएगा ,,,इन जनाब ने बढ़ी विनम्रता से कहा के हम आपकी यह बात मानने से इंकार करते है ,,क्योंकि जो हम पर पत्थर फेकेगा हम उस पर फूल नहीं फेंकेंगे ,,,,,,,,,,मुह तोड़ जवाब देंगे ,,में उनसे कुछ कहता इसके पहले ही उन्होंने शुक्रिया कहा और फोन काट दिया ,,अब वोह जनाब फोन नहीं उठा रहे है ,,,मेरा उनसे निवेदन है ,,,,प्यार की तलवार में नफरत की हर दीवार गिराने की ताक़त होती है ,,प्यार के फूलों में नफरत की हर गंदगी ,,हर बदबू खुशबु में बदलने की ताक़त होती है ,,रहा सवाल मज़हबों के खिलाफ ,,देवी ,,देवताओ ,,,भगवान ,,अल्लाह ,,,पैगम्बर मोहम्मद साहब रसूल्लल्लाह के खिलाफ लिखने का उनका अपमान करने का तो ऐसे लोगों के लिए क़ानून का रास्ता है ,,इनके लिए जेल के रास्ते खुले पढ़े है मज़ा तो जब हो जब अल्लाह और रसूल का अपमान हो तो फरियादी मेरे मुल्क का हिन्दू भाई हो अगर हिन्दू देवी देवताओ ,भगवान का अपमान हो तो ऐसे में फरियादी मेरे मुल्क का मुसलमान हो ,,,मेरे भाई अगर पढ़ रहे हो तो प्लीज़ ज़रा प्रतीक्रिया भी दीजियेगा ,,फिर में मुंबई फोन मिलाने की कोशिश कर रहा हूँ ,,,आप सही है ,,सो फीसदी सही है ,,लेकिन में भी गलत नहीं हु मेरे भाई ,,,,,गुस्सा थूक कर विनम्र भाव से क़ुरआन ,,हदीस ,,गीता ,,वेदों के नज़रिये से ,,भारतीय विनम्र संस्कृति के नज़रिये से देखेंगे ,,सोचेंगे तो शायद मेरी बात सही लगे ,,,,,,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...