हमें चाहने वाले मित्र

05 जुलाई 2015

इस भागती दौड़ती दुनिया में ,,,,रोज़े इफ्तार

दोस्तों इस भागती दौड़ती दुनिया में ,,,,रोज़े इफ्तार ,,,,,के सियासीकरण का भी सोशल मिडिया करण हो गया है आधुनिकता के इस युग में अब रोज़े इफ्तार के कार्ड सोशल मिडिया पर दावतनामे के बतौर प्रकाशित किये जा रहे है ,,,,,रोज़े इफ्तार पर टेलीफोन पर सुचना देने ,,या निजी तोर पर कार्ड भेजने की परम्परा खत्म हो गई है ,,क्योंकि सियासी रोज़े इफ्तार कार्यक्रमों में एक बुलाओ सो आते है वाली परम्परा होने से अब रोजेदारों ,,महमानों को बुलाने की तहज़ीब भी मर गई है ,,,,,आधुनिकता की इस साइबर दौड़ में महमाँनन वाज़ी खासकर रोजेदारों की मेहमाननवाज़ी में इस बदलाव को देखकर तकलीफ तो होती है ,,,,,,,,,,,,हम शुक्रगुज़ार है मंज़ूर तंवर ,,,गुड्डू धनवा ,,,पंकज मेहता ,,,अल्पसंख्यककर्मचारी महासंघ सहित उन भाइयों के जिन्होंने दावतनामे की इस तहज़ीब को मरने नहीं दिया और निमंत्रण की तहज़ीब को ज़िंदा रखा है ,,,,,,,,,,,,अख्तर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...