हमें चाहने वाले मित्र

28 जून 2015

बिहार: दो स्टूडेंट की लाशें मिलीं, गुस्साए लोगों ने डायरेक्टर की आंख निकाली

बिहार: दो स्टूडेंट की लाशें मिलीं, गुस्साए लोगों ने डायरेक्टर की आंख निकाली
पटना (बिहार). नालंदा में एक स्कूल के हॉस्टल में रहने वाले दो बच्चों के शव मिलने के बाद अागबबूला भीड़ ने रविवार को स्कूल के निदेशक देवेंद्र प्रसाद सिन्हा की पीट-पीटकर हत्या कर दी। देवेंद्र जिले के जगदीशपुर गांव में डीपीएस (देवेंद्र प्रसाद सिन्हा) नाम से रेसीडेंशियल स्कूल चलाते थे। स्थानीय लोगों ने बताया कि हॉस्टल के चार बच्चे शनिवार से गायब थे। रविवार को दो की लाश मिली। इसके बाद लोग भड़क गए।
स्कूल में जमकर तोड़फोड़ और आगजनी की। स्कूल के दो वाहनों को फूंक दिया। इसी बीच, देवेंद्र पर नजर पड़ते ही भीड़ उन पर टूट पड़ी। बेरहमी से पिटाई के बाद उनकी एक आंख भी निकाल ली। बाद में इलाज के लिए पीएमसीएच ले जाने के क्रम में रास्ते में निदेशक की मौत हो गई। लोगों के आक्रोश को देखते हुए पुलिस मूकदर्शक बनी रही।
चार थानों की फोर्स पहुंची तब भीड़ पर काबू पाया जा सका। मृत बच्चों की पहचान राजगीर के लहुआर गांव के श्यामकिशोर प्रसाद के 10 वर्षीय पुत्र सागर कुमार और पचवारा के मोहन प्रसाद के 11 वर्षीय पुत्र रवि कुमार के रूप में हुई है। ग्रामीणों ने कहा कि स्कूल में बच्चों के साथ यौन शोषण के आरोप लगते रहे हैं।
मौत से पहले की गई थी बच्चों की पिटाई
आरोप है कि चार बच्चे शनिवार दोपहर से ही गायब थे। लेकिन, स्कूल प्रशासन ने कोई कार्रवाई नहीं की। पुलिस को भी इसकी सूचना नहीं दी गई। दोनों बच्चों के शवों को देखकर लग रहा है कि मौत से पहले उनकी काफी पिटाई की गई है। दोनों बच्चों के नाक-कान से खून भी निकलने की बात कही जा रही है। दोनों शव स्कूल के पीछे ही मिले।
पहले भी लग चुका है स्कूल में यौनाचार का आरोप
कुछ साल पहले ही खुला यह स्कूल शुरू से ही बदनाम रहा है। निदेशक पर पंद्रह-बीस दिन पहले ही एक लड़की से रेप का आरोप लगा था। ग्रामीणों का कहना है कि इस केस को निदेशक ने किसी तरह दबा दिया। इस दौरान स्कूल में काफी हो-हल्ला मचा था। छह महीने पहले कहा था कि एक बच्चे की मौत सांप काटने से हुई। इसपर भी काफी विवाद हुआ था।
उग्र ग्रामीणों ने पुलिस और फायरब्रिगेड को भी खदेड़ा
छात्रों की मौत की खबर फैलते ही आसपास के ग्रामीण स्कूल पहुंच गए। देवेंद्र को दोषी ठहराते हुए उनकी पिटाई की। पुलिस ने रोकने का प्रयास किया, तो उसपर भी पथराव किया। आग पर काबू पाने पहुंची फायरब्रिगेड को भी खदेड़ दिया।
निदेशक देवेंद्र की बेटी बोली- सीबीआई जांच हो
देवेंद्र की बेटी स्वर्णलता ने सीएम से मामले की सीबीआई जांच की मांग की है। कहा, मेरे पिता को पुलिस ही बुलाकर ले गई थी। पुलिस के सामने ही भीड़ ने उनकी हत्या कर दी।
मामले की छानबीन शुरू कर दी गई है। मृतक के परिजन के बयान पर मामला दर्ज किया जाएगा। इसके साथ ही उपद्रवियों की पहचान कर उन पर भी प्राथमिकी दर्ज की जाएगी।
संजय कुमार, डीएसपी

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...