हमें चाहने वाले मित्र

27 दिसंबर 2010

मेरा पढने में नहीं लागे दिल

मेरा पढने में
नहीं लागे
अब दिल ,
मेरे लियें
अब
पढाई हुई मुश्किल ,
क्यूंकि
पहले तो
मुन्नी
बदनाम हुई थी
और अब
खुद ही देख लो
शीला
जवान हो गयी हे ।
इसलियें छोड़ों
किताबें
उठो
मेरे साथ
और कहो
एक साथ
मेरा पढने में
नहीं लागे दिल ।
अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...