हमें चाहने वाले मित्र

26 नवंबर 2010

पानी से कुछ सीखो यारों ...

में जब भी
पानी को देखता हूँ
सोचता हूँ
इससे कुछ सीखूं
जब प्यास इससे
किस की बुझती हे
और प्यासे के चेहरे पर
ठंडक देखता हूँ
तो सोचता हूँ
काश में पानी होता
जहां जिस बर्तन में
जिस हालत में होता
हर हाल में
हर आकर में
केसे एडजस्ट होते हें
इस पानी से सीख लेता
आग अगर कहीं लगती
तो पानी को बुझाते देख
सोचता हूँ काश में पानी होता
बस यही सोचता हूँ
हर हाल में खुद को
केसे एडजस्ट करना हे
एक प्यारी सी सीख
इस पानी से में
सीख लेता .....?

3 टिप्‍पणियां:

  1. जीवन की भाव भंगिमाओं को सौम्यता से सहेजे हुए जल क्या कुछ नहीं सिखाता!

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह! बेहतरीन दृष्टिकोण्…………सार्थक रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  3. जल के नैसर्गिक गुणों को सरल, सहज एवं तरल शब्दों में उकेरती, दिल की गहराईयों को छूने वाली, गहन संवेदनाओं की बेहद मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...