हमें चाहने वाले मित्र

23 नवंबर 2020

जिन्हे मांगों पर चर्चा करना ,, मांगों को मानकर फैसला लागू करने के बीच का फ़र्क़ पता नहीं

 

जिन्हे मांगों पर चर्चा करना ,, मांगों को मानकर फैसला लागू करने के बीच का फ़र्क़ पता नहीं , वोह सिर्फ लॉलीपॉप ही खा सकते है ,तहज़ीब की जुबान उर्दू , के मामले में जांबाज़ी जंग से उनका दूर का भी रिश्ता समझना बेमानी है ,,,, प्रायमरी शिक्षा के लोग भला कभी सेकेंडरी , हायर सेकेंडरी , कॉलेज शिक्षा में उर्दू का फैसला कर सकते है , वोह तो चर्चा एक दिन क्या ,,कई सालों तक कर सकते है , यही तो फ़र्क़ है, ,गुर्जर भाइयों में , और आप भाइयों में ,, खेर मदरसा पैराटीचर्स की फ़ाइल बजट सेशन मार्च से भी छ महीने , आगे सितंबर 2021 वोह भी दो माह ऊपर नीचे ,, 18000 रूपये आज से ही देने की झूंठी बात , बजट कहाँ से आता छः करोड़ प्रतिमाह का ,, खेर तुम हार गए ,तक गए , तो क्या तुम पुरे ठेकेदार तो नहीं , जंग तो जारी रहेगी ,तुम्हारी चर्चाये तुम करो ,,, अरे चर्चा भी , सरकार के किसी मंत्री से ही कर लेते , मुख्यमंत्री से नहीं हो पा रही थी तो , चलो अगर हो जाए तो सरकार की वॉल पर घोषणाएं पढ़कर ,उसका स्क्रीन शॉट लेकर आपको भेजेंगे , आप भी हमे भेजना ,, जनाब उर्दू किसी व्यक्ति ,किसी मज़हब की मोहताज जुबां नहीं ,, आज भी आरक्षण नियमों के तहत , और कॉम्पिटिशन में वरीयता नियमों के तहत ,पैराटीचर्स , उर्दू के टीचर्स में ,,हमारे हिन्दू भाई भी सरकारी नौकरी में है , उनके साथ तो चर्चा के नाम पर गुमराही नहीं ,,, अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...