हमें चाहने वाले मित्र

17 जून 2020

बहनों ,भाइयों , मित्रों , भक्तों के जवाब ,, आज की जो भी समस्याएं ,है वोह सभी नेहरू जी ,इंद्रा जी ,,राजीव जी ,राहुल जी ,सोनिया जी की हैं ,,बेरोज़गारी ,,गरीबी , भुखमरी , कोरोना , पेट्रोल के दामों में वृद्धि सभी कुछ के लिए ज़िम्मेदार यही लोग है ,, ऐसी बेहूदा बातें करने का वक़्त अभी नहीं है ,

बहनों ,भाइयों , मित्रों , भक्तों के जवाब ,, आज की जो भी समस्याएं ,है वोह सभी नेहरू जी ,इंद्रा जी ,,राजीव जी ,राहुल जी ,सोनिया जी की हैं ,,बेरोज़गारी ,,गरीबी , भुखमरी , कोरोना , पेट्रोल के दामों में वृद्धि सभी कुछ के लिए ज़िम्मेदार यही लोग है ,, ऐसी बेहूदा बातें करने का वक़्त अभी नहीं है , आरोप प्रत्यारोप , नफरत ,सियासत , कुर्सी के लिए कुछ भी करेगा ,का वक़्त अभी नहीं है ,अभी हमारे देश को हमारी ज़रूरत है ,अभी हमारी फौज ,हमारे सैनिकों ,शहीद सैनिकों के परिवारों को , हमारे सभी के हौसले ,की  एक जुटता की ज़रूरत है ,, एक तरफ पाकिस्तान की आतंकवादी गतिविधियां ,दूसरी तरफ नेपाल जैसे मुंग और मसूर की ताल की बेहूदा हरकते ,तीसरी तरफ ,चीन का हमारे सेनिको पर हमला ,, लेकिन सेल्यूट ,है  हमारे देश की सीमा के इन रक्षकों को ,जिन्होंने चीन की सीमा पर , चीनी सैनिकों को किसी भी सूरत में क़ब्ज़ा करने नहीं दिया , निहत्थे लड़े ,,निडर होकर ,लड़े  देश के लिए खुद शहीद ,हुए तो अकेले नहीं ,, शहीद होते होते भी हमारे भारत के इन रक्षकों ने बढ़ी बहादुरी से , इन चीनी सैनिकों के भी टेंटुए दबाये है ,,, अब चिंतन का वक़्त  है ,सर्वदलीय बैठकों का वक़्त  है ,पूर्व रक्षा विशेषज्ञों ,पूर्व रक्षा मंत्रियों के साथ ,अनुभवों को बांटने का वक़्त है ,, कुछ कर गुज़रने का वक़्त ,है , स्थाई समाधान के कड़े फैसले लेने का वक़्त है ,, चीन जो सिर्फ और सिर्फ हमारे टुकड़ों पर पलटा ,है चीन जिसका रोज़गार हम है ,,चीन अगर यह समझता है ,के हमारे देश के फ्रीडम फाइटर , लोहपुरुष सरदार वल्ल्भ भाई पटेल की मूर्ति ,चीन में बनने से , चीन ने हज़ारो करोड़ रूपये भारत से कमाए है और वोह राशि वोह भारत पर ही खर्च कर ,विवादों को बनाये रखेगा तो , यह उसकी भूल ,है ,उसे पता नहीं यह भारत है ,, यह महान यूँ ही नहीं है ,, इस भारत की महानता यही ,है के हम खूब लड़ते है ,एक दूसरे पर इलज़ाम लगाते है ,, एक दूसरे की सरकारें गिराते है ,,, दंगे ,फसाद भी कर लेते है , लेकिन जब बात देश की होती ,है ,जब बात भारत की होती है , तो हम सब अपने आपसी भेदभाव भूलकर सिर्फ भारत के लिए संघर्ष करते है ,,, हमारी एक जुटता ,, हमारा स्वाभिमान ,हमारा संघर्ष , चीन की तबाही के लिए काफी है , अभी प्रारंभिक तोर पर ही देख लीजिये ,हमारे निहत्थे सैनिकों ने देश की सीमाएं सुरक्षित रखने के लिए खुद की शहादत के साथ ,दुश्मन देश चीन के भी कई गुना ज़्यादा सैनिकों को मार गिराया है ,यह हमारे लिए स्वाभिमान ,सम्मान की बात है ,, लेकिन इसके लिए हमे राजा को ,, हिम्मत  देना होगी , राजा के राजधर्म को भी भारतवासियों के स्वाभिमान की रक्षा के लिए , एक के बदले दस सर की बहादुरी के संदेश को बुलंद करने के लिए , चीन के कमसे कम बीस सैनिकों के बदले ,दो सो सैनिकों के सर तो हमे चाहियें ही सही , आज हमारे देश के मित्र देशों खासकर अमेरिका की मित्रता की भी  परीक्षा की घड़ी है ,, वोह हमारे देश को इस मामले में मदद के लिए किस तरह के हथियार ,किस तरह की सैनिक मदद देता ,है यह परीक्षण की घडी है , लेकिन यक़ीनन यह राष्ट्र ऐसे मौक़ों पर एक ,है एक जुट है ,, चीन की दस पीढ़ियां भी अगर भारत की एक इंच दबाने का सपना भी देखेंगी तो वोह बेमानी है ,भारत के सैनिक ,भारत के प्रधानमंत्री जिनके हाथ में परमाणु बम का रिमोट है ,भारत के ,गृह मंत्री ,रक्षा मंत्री ,अजीत ढाबोल , पूर्व सैन्य अध्यक्ष सलाहकार ,जैसी हस्तियां हमारे पास है ,,हमारे सैनिकों का हौसला , बहादुरी हमारे पास है ,,सभी को ,प्रतिपक्ष को एक जुट होकर इस संकट की  घडी में ,आरोप प्रत्यारोप , सियासत को ताक में रखकर एक जुट हो जाना होगा ,चीन को अब बातचीत से नहीं ,,चीन के गले हाथ डालकर बातचीत से नहीं ,हमारे बीस सैनिकों के बदले उसे दो सो सैनिकों के सर हमे भारत लाना ही ,,होंगे चीन को सबक़ सिखाना ही होगा , लेकिन इसके लिए हमे एक जुट होना होगा ,, केंद्र सरकार की बहादुरी पर भरोसा रखना होगा ,अफवाहों से झूंठ से ,आरोप प्रत्यारोप से अलग रहना होगा ,,हमे हमारे देश , हमारी सरकार , हमारे प्रधानमंत्री , हमारे सैनिकों का हौसला बनना होगा ,, अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...