हमें चाहने वाले मित्र

10 अप्रैल 2020

पति पोंछा लगाते हुए मन ही मन

पति पोंछा लगाते हुए मन ही मन सोचकर खुश हुए जा रहे थे - "अच्छा! कोई बात नहीं। अब 5-6 दिन ही रह गया है। किसी तरह काट लेना है इसे। उसके बाद जश्न होगा, जश्न! बस लाॅक डाउन खत्म हो जाए, फिर काहे का चौका-बर्तन, काहे का झाङू-पोंछा!!" 😊
***
उधर सामने सोफे पर बैठी पत्नी उनके चेहरे की मुस्कुराहट को देख मन ही मन मुस्कराते हुवे सोच रही थीं - "तुम्हारे अंदर की खुशी जो हिलोरे मार रही है न, वो मैं अच्छी तरह से समझ रही हूँ। ऐसे ही खुश हो लो 5-6 दिन। वो मोदी है ...एक बार फिर से आएगा TV पर"

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...