हमें चाहने वाले मित्र

11 अप्रैल 2020

अभी तो दूर बहुत है तू पास हो कर भी

भवेश दिलशाद मूलतः शिवपुरी म०प्र०....
:::::::रुबाई:::::
कभी तो सामने आ बे-लिबास हो कर भी
अभी तो दूर बहुत है तू पास हो कर भी
तेरे गले लगूँ कब तक यूँ एहतियातन मैं
लिपट जा मुझ से कभी बद-हवास हो कर भी
तू एक प्यास है दरिया के भेस में जाना
मगर मैं एक समुंदर हूँ प्यास हो कर भी
तमाम अहल-ए-नज़र सिर्फ़ ढूँढते ही रहे
मुझे दिखाई दिया सूरदास हो कर भी
मुझे ही छू के उठाई थी आग ने ये क़सम
कि ना-उमीद न होगी उदास हो कर भी

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...