हमें चाहने वाले मित्र

08 अप्रैल 2020

कुछ अजीब नहीं लगती

*एक स्त्री के मन के उद्गार और उस पे लिखने वाले की पराकाष्ठा पर ज़रा अपनी नज़रें इनायत करें :::::*
तुम खता करके भी
ख़ामोश रहो
मैं बेगुनाही की भी
मांग लूं माफी
कुछ अजीब नहीं लगती
तुम्हें यह ज़िद तुम्हारी ?

तुम शर्तो के घेरे में
कैद कर दो मुझे
मै बेशर्त मगर हर बात
मान लूं तुम्हारी
कुछ अजीब नहीं लगती
तुम्हें यह जरूरत तुम्हारी ?
तुम नज़रअंदाज़ कर दो
मेरी हर ख्वाइश
मैं पूरी करती रहूं मगर
हर ज़िद भी तुम्हारी
कुछ अजीब नहीं लगती
तुम्हें यह नीयत तुम्हारी ?
तुम कोशिश भी न करो
मुझे मनाने की
मैं रूठ कर भी मगर
मनाती रहूं तुम्हे ही
कुछ अजीब नहीं लगती
तुम्हें यह हठ तुम्हारी ?
तुम बढ़ते रहो नित
नये रास्तो पर
मैं ठहरी रहूं बस
उसी मोड़ पर
कुछ अजीब नहीं लगती
तुम्हें यह चाल तुम्हारी ?
तुम बदलो कितना ही
रंग, चेहरा अपना
मैं चाहती रहूं सदा
एक जैसा तुम्हें
कुछ अजीब नहीं लगती
तुम्हें यह उम्मीद तुम्हारी ?
तुम न पढ़ो न समझो
कोई सवाल मेरे
मै तुम्हारी खामोशी में ही
ढ़ूढ़ती रहूं जवाब अपने
कुछ अजीब नहीं लगती
तुम्हें यह आदत तुम्हारी ?
,जितेंद्र,
*एक स्त्री के मन के उद्गार और उस पे लिखने वाले की पराकाष्ठा पर ज़रा अपनी नज़रें इनायत करें :::::*
तुम खता करके भी
ख़ामोश रहो
मैं बेगुनाही की भी
मांग लूं माफी
कुछ अजीब नहीं लगती
तुम्हें यह ज़िद तुम्हारी ?

तुम शर्तो के घेरे में
कैद कर दो मुझे
मै बेशर्त मगर हर बात
मान लूं तुम्हारी
कुछ अजीब नहीं लगती
तुम्हें यह जरूरत तुम्हारी ?
तुम नज़रअंदाज़ कर दो
मेरी हर ख्वाइश
मैं पूरी करती रहूं मगर
हर ज़िद भी तुम्हारी
कुछ अजीब नहीं लगती
तुम्हें यह नीयत तुम्हारी ?
तुम कोशिश भी न करो
मुझे मनाने की
मैं रूठ कर भी मगर
मनाती रहूं तुम्हे ही
कुछ अजीब नहीं लगती
तुम्हें यह हठ तुम्हारी ?
तुम बढ़ते रहो नित
नये रास्तो पर
मैं ठहरी रहूं बस
उसी मोड़ पर
कुछ अजीब नहीं लगती
तुम्हें यह चाल तुम्हारी ?
तुम बदलो कितना ही
रंग, चेहरा अपना
मैं चाहती रहूं सदा
एक जैसा तुम्हें
कुछ अजीब नहीं लगती
तुम्हें यह उम्मीद तुम्हारी ?
तुम न पढ़ो न समझो
कोई सवाल मेरे
मै तुम्हारी खामोशी में ही
ढ़ूढ़ती रहूं जवाब अपने
कुछ अजीब नहीं लगती
तुम्हें यह आदत तुम्हारी ?
,जितेंद्र,

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...