हमें चाहने वाले मित्र

23 अप्रैल 2020

गूँगे लफ़्ज़ों का ये बे-सम्त सफ़र मेरा है

गूँगे लफ़्ज़ों का ये बे-सम्त सफ़र मेरा है
गुफ़्तुगू उस की है लहजे में असर मेरा है
मैं ने खोए हैं यहाँ अपने सुनहरे शब ओ रोज़
दर-ओ-दीवार किसी के हों ये घर मेरा है
मेरा अस्लाफ़ से रिश्ता तो न तोड़ ऐ दुनिया
सब महल तेरे हैं लेकिन ये खंडर मेरा है
आती जाती हुई फ़सलों का मुहाफ़िज़ हूँ मैं
फल तो सब उस की अमानत हैं शजर मेरा है
मेरे आँगन के मुक़द्दर में अँधेरा ही सही
इक चराग़ अब भी सर-ए-राहगुज़र मेरा है
दूर तक दार-ओ-रसन दार-ओ-रसन दार-ओ-रसन
ऐसे हालात में जीना भी हुनर मेरा है
जब भी तलवार उठाता हूँ कि छेड़ूँ कोई जंग
ऐसा लगता है कि हर शाने पे सर मेरा है

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...