हमें चाहने वाले मित्र

04 जुलाई 2018

धीरज गुप्ता ,,अपने मुखर तेज के साथ प्रेसक्लब के ऐतिहासिक विकास ,निर्माण के साक्षी रहे है

धीरज ,संयम के साथ तेजस्वी होकर अपने तेज से ,पत्रकारिता की नेतृत्व दुनिया के अंगद रहे भाई धीरज गुप्ता का निर्भीक लेखनी ,,पत्रकारों की समस्याओं के समाधान मामले में त्वरित संकटमोचक के रूप में कोई दूसरा मुक़ाबिल नहीं है ,,धीरज गुप्ता का आज जन्म दिन है ,पत्रकारिता की दुनिया में प्रेसक्लब कोटा की नींव की ईंट बनकर समर्पण भाव से कार्य कर रहे भाई धीरज गुप्ता लगातार रक्तदान ,महादान के नारे के साथ ,रक्तदान करते रहे ,है ,वोह कई दर्जन बार रक्तदान करने के कारण रेडक्रॉस कोटा सहित सभी चिकित्स्कीय ,समाजसेवी संस्थाओ से सम्मानित भी हुए है ,,एक छोटे से समाचार पत्र विश्वमेल सांध्य दैनिक से अपनी पत्रकारिता का सफर शुरू करने वाले धीरज गुप्ता प्रेस ट्रस्ट ऑफ़ इण्डिया न्यूज़ एजेंसी के सक्रिय पत्रकार है ,वोह भास्कर में उपसंपादक ,,जननायक से सहयोगी प्रकाशक सम्पादक ,भी रह चुके है ,कई समाचार पत्रों से जुड़कर वोह अपनी लेखनी का जोहर दिखाते रहे है ,जबकि इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में भी भाई धीरज एक संयमित पत्रकार रहे है ,धीरज गुप्ता वर्तमान में सोशल मीडिया से जुड़कर भी मर्यादित सोशल मीडिया के ऐतिहासिक बदलाव के प्रयासों में जुटे है ,,भाई धीरज को उनके जन्म दिन पर बधाई ,मुबारकबाद ,,,कोटा प्रेस क्लब की धरती पर रचनात्मक कार्यों और विकसित हुनरमंदी के साथ ,,अपनी कार्यशैली ,,कार्यव्यवहार और लोकप्रियता से अंगद की तरह पैर जमाकर ,प्रेस क्लब की नींव से लेकर कंगूरा बनाने तक भाई धीरज गुप्ता ,,अपने मुखर तेज के साथ प्रेसक्लब के ऐतिहासिक विकास ,निर्माण के साक्षी रहे है ,,उनके नेतृत्व ने कभी प्रेसक्लब के सम्मान को गिरने नहीं दिया ,, भाई धीरज गुप्ता वर्तमान में जर्नलिस्ट जार एसोसिएशन में राष्ट्रीय सचिव के रूप में पत्रकारों के दुखदर्दो को बाँट रहे है ,,उनकी समस्याओं के समाधान के प्रयासों में जुटे है ,,,,,,करारी मूंछे ,,रोबदार चेहरा ,,हंसमुख स्वभाव ,,तार्किक क्षमता ,,निर्भीकता और विश्वास से भरे भाई धीरज अपने दोस्तों में हर दिल अज़ीज़ है और इनके इसी स्वभाव के कारण इनके दुश्मन भी इनकी तारीफ़ किये बगैर चूकते नहीं ,,,,,,,,भाई धीरज गुप्ता जिन्हे लोग यारों का यार कहते है ,,किसी को भी प्रभावित करने की क्षमता रखते है वोह कोटा प्रेस क्लब में जुड़ने के बाद सर्वप्रथम महासचिव पद पर ,मेरे मुक़ाबिल निर्वाचित हुए और फिर भवन निर्माण में महासचिव की हैसियत से अध्यक्ष और टीम के साथ जुट गए ,,,,कामयाबी मिली ,,फिर प्रेस क्लब को खेल गतिविधियों से जोड़ा ,,लगातार प्रेस क्लब की प्रतिष्ठा बढ़ाई ,,कई कार्यशालाएं ,,,शिविर ,,सेमिनार ,,,प्रेस से मिलिए कार्यक्रम आयोजित किये ,,सेमिनारें आयोजित की ,,और फिर महासचिव कई साल रहने के बाद अध्यक्ष पद के उमीदवार बने ,,तब से दस वर्षो , तक लगातार धीरज गुप्ता प्रेस क्लब के एक स्वच्छ लोकतांत्रिक प्रणाली के तहत होने वाले चुनाव में अध्यक्ष निर्वाचित होते , रहे ,, वर्तमान में वोह राष्ट्रिय पत्रकार नेतृत्व के हिस्सेदार होकर काम कर रहे है ,,,,,,प्रेस क्लब के अध्यक्ष की हैसियत से बुज़ुर्गों का सम्मान ,,,पत्रकारों को सम्मान ,,पत्रकारों को सुविधाएं उपलब्ध कराने का काम हुआ ,,,,है ,सांसद कोष से कोटा प्रेस क्लब के भवन का विस्तार ,,पुस्तकालय भवन की स्थापना ,,,कम्पुयटरीकरण ,,,तीसरी मंज़िल का विस्तार असम्भव से काम थे ,,जो धीरज गुप्ता ने अपनी टीम के साथ सम्भव कर दिखाया है ,,,धीरज गुप्ता पत्रकार संघ जार के भी प्रदेश अध्यक्ष रहे है और लगातार राज्य और राष्ट्रीय स्तर की कई पत्रकारिता से संबंधित सेमिनारें करवाई है ,,,जो कामयाब सार्थक और रचनात्मक रही है ,,,,,मन से कवि ,,कुशल वक्ता ,,भाई धीरज गुप्ता कई सालों से अपनी हुनरमंदी की वजह से महारानी राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा सिंधिया के पत्रकार रणनीतिकारों में से है और वोह झालावाड़ से सांसद दुष्यंत सिंह के प्रेस अटेची का काम पूरी वफादारी से देख रहे है वोह कई सालों से रेल यात्री समिति ,,,टेलीफोन सलाहकार समिति सहित कई राजकीय और गैर राजकीय समितियों में जुड़े है , वर्तमान में धीरज गुप्ता समस्याओं से घिरी जनता को इंसाफ दिलाने के लिए सरकार द्वारा बनाई गयी जन अभाव अभियोग समिति के कोटा संभाग प्रभारी सदस्य भी है ,,गुप्ता ,,कई समाजसेवी संस्थाओं से जुड़े है ,,,,गर्व की बात यह है के सभी वरिष्ठ सियासी लोगों और अधिकारीयों से मृदुल विश्वास के सम्बन्ध होने पर भी इनके खिलाफ भ्रष्टाचार या पक्षपात का एक भी आरोप नहीं है , प्रेस क्लब नेतृत्व में उन्होंने प्रतिपक्ष को उनके विचार रखने की खुली स्वतंत्रता दी ,कोई तानाशाही ,,कोई मनमानी नहीं की ,सभी के विचारो का उन्होंने सम्मान कर लोकतान्त्रिक व्यवस्था बनाये रखी ,,,,एक मज़े की बात यह है के पंजाब के एक मुण्डे को इनकी मूंछे और मर्दानगी पसंद आ गयी और वोह पुरुष होते हुए भी इनका दीवाना हो गया बढ़ी मुश्किल से इन्होें उससे पीछा छुड़ाया ,,,,कोटा प्रेस क्लब बहतरीन हाथों में है और टीम भाव से भाई धीरज जल्द ही कोटा प्रेस क्लब के सदस्यों के कल्याण ,,विकास ,,पत्रकारिता रचनात्मक कार्यों के लिए कई कार्य योजनाये तय्यार कर इन योजनाओ को अंतिम रूप देने वाले है ,,खुदा इन्हे कामयाब करे ,,भाई धीरज को उनके जन्म दिन पर एक बार फिर बधाई ,,मुबारकबाद ,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...