हमें चाहने वाले मित्र

03 जून 2018

एक चंद्रशेखर ,,देश को आज़ाद कराने के जंगजू सिपाही रहे है

एक चंद्रशेखर ,,देश को आज़ाद कराने के जंगजू सिपाही रहे है जबकि हमारे छोटे भाई ,यह चंद्रशेखर ,अपने अल्फ़ाज़ों की तेज़ धार ,,अपनी निष्पक्ष रिपोर्टिंग के तीखे सवालों ,,तीखे त्रिशूल से ,,देश में नफरत का माहौल खत्म कर मोहब्बत कैसे क़ायम हो ,देश खुशहाल ,,,कामयाब कैसे बने इसी जुनून में पत्रकारिता से जुड़े है ,,जी हाँ दोस्तों में बात कर रहा हूँ कभी कोटा में हमारे साथ जननायक में पत्रकारिता की ऊँगली पकड़ कर चलने वाले चंद्रशेखर ,,चंद्रशेखर से चंद्रशेखर त्रिशूल बने ,एक सफल ,,निष्पक्ष पत्रकार बने ,प्रिंट मिडिया से इलेट्रॉनिक मिडिया में ,,न्यूज़ इण्डिया 24x7 में बेहतरीन ऐंकर ,बेहतरीन ,रिपोर्टर के रूप में सिस्टम से जुड़े सियासी लोग ,,अधिकारीयों से जलते हुए सवाल पूंछकर समाज के हालातों के प्रयासों में जुटे है ,,,,मेरे अनुज चंद्रशेखर त्रिशूल ,,,कोटा में दैनिक समाचार पत्र के अनुभव के बाद ,मासिक पत्रिका में कार्यरत रहे ,समाजसेवा क्षेत्र से जुड़े ,कोटा प्रेस क्लब गतिविधियों में सक्रिय रहे ,फिर कवि के रूप में अपनी अभिव्यक्तियाँ ज़ाहिर कर वाहवाही लूटते रहे ,लेकिन इनकी आज़ादी छीनने ,इनके पर कतरने के बाद ,यह हमारी बहु के इशारे पर गंभीर हो गए ,यह अब समाजसेवा के साथ चिंतक होकर देश के हालातों को तराशने में जुटे है ,हालातों से खिन्न होकर ,,अपने चैनल के माध्यम से तीखे सवालों के त्रिशूल छुपा कर ज़िम्मेदार सियासी लोगो के ज़मीर को ललकार रहे है ,त्रिशूल विवेकानंद के विचारो को युवा के लिए आगे बढ़ाना चाहते है ,बस इसीलिए चंद्रशेखर राजस्थान की राजधानी में रोज़ मुद्दे तराशते है ,न्यूज़ इंडिया के ज़रिये ,,लोगों की अंतर्रात्मा को अपने ज्वलंत सवालों से झकझोर रहे है ,,चंद्रशेखर आई आई सी डी ई पी के निदेशक भी है जबकि ब्रह्मपुत्र बचाओ ,देश बचाओ ,आन्दोलन के मुखर प्रवक्ता भी है ,इनकी कविताये ,,इनके चुटकुले मौलिक होते है ,हालातों की अक्कासी करते ,है मातृत्व प्रेम ,पारिवारिक ज़िम्मेदारियों के साथ देश के हालातों की एक तस्वीर होते है ,,,भाई चंद्रशेखर अपने इस फन में कामयाब हो ,देश के हालातों को वोह पत्रकारिता के माध्यम से बदलने का जो सपना लेकर जूझ रहे है ,,अल्लाह ,ईश्वर ,,खुदा ,,वाहेगुरु ,जीसस ,उन्हें कामयाब करे ,,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...