हमें चाहने वाले मित्र

01 मई 2018

ऐसी जगह खर्च करो जहां ,,शोषित ,,उत्पीड़ित ,,मिस्कीन ,बेवाओं ,,बीमारों को ज़्यादा से ज़्यादा फायदा हो

,जो कमाओ उसमे से कुछ खुदा की राह में खर्च करो ,,,ऐसी जगह खर्च करो जहां ,,शोषित ,,उत्पीड़ित ,,मिस्कीन ,बेवाओं ,,बीमारों को ज़्यादा से ज़्यादा फायदा हो ,,इसीलिए मोहम्मद मिया ठेकेदार अपनी समाजसेवा खुदा की राह में समर्पण भाव से करते ,है ,हाल ही में मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा सिंधिया के आगमन पर कोटा के कैंसर रोगियों को सुविधाएं देने के लिए बनाये जा रहे अस्पताल के लिए मोहम्मद मिया ने पचास लाख रूपये की मदद देकर इस अस्पताल की राहें आसान कर दी हैं ,,मोहम्मद मिया के लिए इस तरह की मदद का जज़्बा कोई नया नहीं हैं इसके पहले भी मोहम्म्मद मियाँ ऐसे सहभागिता कामों में दिल से मदद करते रहे है ,,इसीलिए खुदा की नवाज़िश उनके साथ है ,अपने इन कामों के बदले प्रतिफल में उन्हें दुआओं के सिवा कुछ नहीं चाहिए वोह किसी पब्लिसिटी के मोहताज नहीं ,,किसी जी हुज़ूरी के मोहताज नहीं ,बस खुदा की राह में खर्च कर दिया ,,खुदा की इबादत के लिए सर झुका लिया और खुदा ने उनसे ख़ल्क़ ऐ खिदमत का काम ले लिया ,,मोहम्मद मिया उर्फ़ भाभा शाह ,,उर्फ़ समाजसेवक ,,उर्फ़ खिदमत गार न जाने क्या क्या लक़ब उनकी खिदमात के है बस ,,अल्लाह उन्हें नवाज़ता रहे और नेक कामो में वोह जनहितकारी मामलों में खर्च करते रहे खुदा से यही बस एक दुआ है ,
ईमानदारी से अपना व्यवसाय करो ,,जो कमाओ उसमे से कुछ खुदा की राह में खर्च करो ,,गरीबो ,,,मिस्कीनों ,,शिक्षा ,,मदरसा ,,बीमारों के इलाज सहित ख़ल्क़ ऐ खिदमत के कामो में भी खर्च करो ,,ज़िंदगी में सादगी और ख्यालातों में बुलंदी रखो ,,नमाज़ी रहो ,परहेज़गार बनो ,,खुदा हर महनत कश की नवाज़िश करेगा ,,टोंक के मूल मोहम्मद मियाँ ठेकेदार ,,जो कोटा में तिजारत और व्यवसाय को आये थे वोह ,खुदा के इसी फरमान ,,हुज़ुर स अ व की तालीम पर क़दम ब क़दम चलकर ,,अल्लाह के फ़ज़्लो करम से आज बुलंदियों पर भी है ,,, माशा अल्लाह ,,,सकीदातार भी बने है ,वोह कामयाबी की उंचाइयो पर पहुंच कर भी फ़क़ीर की तरह लोगो की दुआए ले रहे है ,,मोहम्मद मिया ठेकेदार ,,एक ईमानदार ,,महनतकश पेंटिंग की ठेकेदारी के इरादे से ,,कोटा पहुंचे थे ,,उन्होंने ईमानदारी ,,कढ़ी मेहनत ,से कोटा में ठेकेदारी की शुरआत की ,फिर मज़बूत इरादों के साथ रियल स्टेट ,प्रॉपर्टी ,,पेट्रोल पम्प व्यवसायी के रूप में माशा अल्लाह ,,दिन दूनी रात चौगुनी तरक़्क़ी करते रहे ,,मज़दूर का पसीना ,,सूखने से पहले उनकी मज़दूरी चुकता करना ,,,,बुज़र्ग़ो ,,बेवाओं ,,मिस्कीनों ,मरीज़ों ,,शोषित ,उत्पीड़ित ,लोगो के मददगार बनना ,,इस हाथ से देकर दूसरे हाथ को भी पता नहीं लगने देना ,,इनकी खासियत रही है ,,जी हाँ दोस्तों सुबह उठना फज्र की नमाज़ के बाद ,,परिंदो के दानापानी का इंतिज़ाम करना ,,फिर अपने व्यवसायिक कार्यों में जुट जाना ,,योजनाबद्ध तरीके ,से ,गरीब ,,मिस्कीनों ,,छात्र छात्राओं ,,,मुदर्रिस ,मदरसों ,,मदरसों में पढ़ रहे बच्चो की मदद करना ,,इनकी खूबी है ,,,परिंदो के लिए बाजरा ,,ज्वार ,,ट्रक भर कर मंगाए जाते है ,,अपने व्यवसाय के साथ सामाजिक सरोकारों से इनका जुड़ाव होने से हर ,,कार्यक्रम के यह भामाशाह भी रहते हैं ,,,मोहम्मद मियाँ ,,जैसा नाम वैसा काम ,,हुज़ूर स अ व की सीरत के जलसे करवाना ,,उनके बताये हुए रास्ते पर चलकर खिदमत ऐ ख़ल्क़ करने का पैगाम देने के लिए आलिमो की भी यह मदद करते है ,समाजसेवा सरोकार में ज़ात ,,पात ,,धर्म के भेदभाव को भुलाकर ज़रुरत मंदो की भी यह खूब मदद करते है ,,इनकी पत्नी ,इनके तीन पुत्र ,,परिवार के सभी सदस्य इनके इस इरादे को बुलंदियों पर बनाये रखने के लिए मददगार रहते हैं ,,,अल्लाह का दिया हुआ सब कुछ ,,लेकिन कोई गुरुर ,,कोई तकब्बुर नहीं ,,छोटा हो या बढ़ा ,सभी के साथ मुस्कुरा कर खुलूस से मिलना ,,कारोबार का जूनून अपनी जगह ,,,,लेकिन कामयाबी के जश्न में सभी शामिल रखकर ,,लोगो की खिदमत ,में खुशियों ,,सुख ,,दुखः में शामिल होना यह अपनी पहली ज़िम्मेदारी समझते है ,,ग्रामीण क्षेत्र बारां रोड सहित कुछ क्षेत्रो में पानी की समस्या जब इनके सामने रखी गयी ,,तो भामाशाह बनकर ,,मोहम्मद मिया ने एनीकट बनवाये ,,,इनके बनाये हुए एनीकट आज ग्रामीण क्षेत्रो में पेयजल ,,जानवरो की प्यास बुझाने ,,सहित ,,किसानो की खुशहाली की वजह बने हुए है ,,झालवाड़ ,बारां ,,बूंदी ,,कोटा सहित कई ग्रामीण क्षेत्रो में इनके एनीकट ,जलभराव कार्यक्रम प्रशसनीय है ,इन्हे जिला प्रशासन द्वारा भी इनके अनुकरणीय कार्यो के लिए सम्मानित किया है ,, अपनी बेशक़ीमती कृषि भूमि पर ,मोहम्मद मिया ने ,,पर्यावरण संरक्षण को ध्यान में रखकर ,हर्बल पौधे के अलावा चालीस हज़ार सागवान के पेड़ लगाए है ,,इनके इस सागवान के बगीचे में ,,चिड़ियों की चहचहाट ,,,कोयल की कूक ,,कबूतरों की गुटरगूं ,,मोर की पीहू पीहू है तो दूसरे परिंदो ,तीतरो की किलकारियां ,खरगोशो की अठखेलियाँ है ,,,इनके पालन के लिए मोहम्मद मिया पानी का इंतिज़ाम करते है तो दाना पानी भी दिलफ़रियादी के साथ ,ट्रक भरवाकर मंगवाते है ,,,,मोहम्मद मियाँ ठेकेदार ,,पैगाम ऐ मोहम्मद ,,मोहब्बत और खिदमत का पैगाम लोगो तक अपनी सीरत ,,अपने आचरण ,अपने खुलूस के साथ पहुंचा रहे है ,,मोहम्मद मिया को इनकी क़ाबलियत देखकर पिछली भाजपा सरकार ने इन्हे ,,राजस्थान हाउसिंग बोर्ड में निदेशक भी बनाया था ,,लेकिन सियासत में मोहम्मद मियां जैसा दरियादिल ,,सिद्धांतवादी ,,ईमानदार ,,महनतकश लोगो की ज़रुरत कहाँ है ,बस कमोबेश मोहम्मद मियाँ ने इसीलिए सियासत से किनारा कर लिया ,और खिदमत ऐ ख़ल्क़ का पैगाम देने के लिए सामाजिक सरोकार के कार्यक्रमों का दामन थाम लिया ,,खुदा ऐसे नेकदिल ,इबादतगार ,,निष्कलंक ,,निर्विवाद ,,महनतकश ,कद्दावर समाजसेवक ,,मोहम्मद मिया को और कामयाबी ,,,तरक़्क़ी दे ,,इनकी दरियादिली के लिए खुदा इन्हे और नवाज़ता रहे ,,,आमीन सुम्मा आमीन ,,ऐसी शख्सियत को एक सेल्यूट ,,एक सलाम तो बनता ,है ,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...