हमें चाहने वाले मित्र

08 दिसंबर 2017

राजस्थान के गृहमंत्री के ग्रह संभाग में पागलपन की हदें पार की गयी सार्वजनिक हत्या इस लोकतंत्र पर ,,इस सरकार पर ,,इस सिस्टम पर घिनोना दाग

राजस्थान के गृहमंत्री के ग्रह संभाग में पागलपन की हदें पार की गयी सार्वजनिक हत्या इस लोकतंत्र पर ,,इस सरकार पर ,,इस सिस्टम पर घिनोना दाग है ,,देश के टी वी चैनल ,,अख़बार ,,,,मीडिया ,,सोशल मिडिया ने पुलिस की गैरज़िम्मेदाराना कारगुज़ारियों के चलते हुए देश के सिस्टम में ,,देश के नोजवानो के दिमागों में ,,आम लोगो में परस्पर नफरत का माहौल गर्म कर दिया है ,,कुर्सी के लिए कुछ भी करेगा ,,के नारे के साथ नफरत की इस फैक्ट्री में निरंतर बन रहे फार्मूलों को ,,पुलिस ,,क़ानून व्यवस्था और देश के सर्वोच्च क़ानूनविद ,,क़ानून की पालना करने वाली संस्थाए मूकदर्शक बनी ,है ,,,,हत्याओं को नज़रअंदाज़ कर उन्हें जस्टिफाइड करने में लगे लगो ,,देश को अराजकता के माहौल में जंगलराज की तरफ ले जा रहे है ,,बहुत आसान है इन हथकंडो से ,,देश की सत्ता ,,देश की कुर्सी तक पहुंचना ,,कुर्सी पर बने रहना ,,लेकिन देश की संभ्यता ,,देश की संस्कृति में जो मानवता का नाश हम लोग कर रहे है ,,यह देश यह समाज ,सदियों तक हमे माफ़ नहीं करेगा ,,हम सदियों पुराने जंगलराज की तरफ जा रहे है ,,जिसकी लाठी उसी की भैंस ,,न क़ानून न क़ायदा ,,बस भीड़ तंत्र ,,पागलपन ,सनक ,,,इस देश के लिए दीमक बनती जा रही है ,,शर्मसार होना चाहिए सिस्टम से जुड़े लोगो को ,,समाज सेवको को ,सियासी पार्टियों से जुड़े लोगो को यह माहौल ,,एक्शन ,,रिएक्शन का अगर बनता गया तो हमारा समाज किस दिशा में जाएगा ,,अभी भी कुछ नहीं बिगड़ा है ,,देश से ,,देश की जनता से ,,नफरत बाज़ों ,नफरत के सौदागरों ,,टी वी चेनलो ,,बिकाऊ पत्रकारों को माफ़ी मांगना चाहिए ,,किसी भी समाज ,,किसी भी सियासी पार्टी से जुडी कितनी ही बढ़ी शख्सियत अगर नफरत फैलाने ,,नफरत बाज़ों को बचाने ,,उनके कारनामो को दबाने की बात करते है ,तो उन्हें सार्वजनिक रूप से बेनकाब करने का वक़्त है ,देश के लिए ,,ओरिजनल देशभक्ति का वक़्त है ,,हमे खुद को बदलना होगा ,,,,मूकदर्शक बनकर बैठे रहने की आदते बदलना होंगी ,हमारा क्या ,है हमे क्या लेना देना की सोच से हमे राष्ट्रभक्ति की सोच पर प्रमोट होना होगा ,,ऐसे लोग जो देश में ,,देश के माहौल में ,युवाओ ,,बुज़ुर्गो ,,महिलाओं ,,आम लोगो के दिमागों में नफरत ,गुस्सा भर रहे है ,,ऐसे लोगो को हमे बेनक़ाब करना होगा ,,यह मानसिक रोगी जिनका राष्ट्र ,,राष्ट्रभकित ,,धर्म ,,मज़हब से कोई लेना देना नहीं ,सिर्फ और सिर्फ यह लोग अपना मतलब हल करना चाहते है ,उन्हें हमे सबक़ तो सिखाना होगा ,,,क्या हम इसके लिए तैयार है ,अगर हां तो अभी से ही ,हम इस काम में जुट जाए ,,बदल दे हमारे इस देश के बिगड़े माहौल को फिर से सँवारे ,,सुधारे ,,देश में हम फिर से गंगा जमनी तहज़ीब ,प्यार मोहब्बत का माहौल बनाये ,,,,,,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्था

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...