हमें चाहने वाले मित्र

26 जुलाई 2017

राजस्थान विधानसभा में टारगेट टू हंड्रेड ,,क्रियान्वित करने को लेकर ,,प्रदेश कांग्रेस को चुस्त ,,दुरुस्त

राजस्थान विधानसभा में टारगेट टू हंड्रेड ,,क्रियान्वित करने को लेकर ,,प्रदेश कांग्रेस को चुस्त ,,दुरुस्त ,,निर्गुट ,,सक्रिय करने के लिए राष्ट्रीय महासचिव अविनाश पांडे को जब से प्रदेश प्रभारी बनाया गया है ,,तब से प्रदेश में कांग्रेस में सक्रियता और गर्मागर्म माहौल है ,,लेकिन कुछ लोग है ,,कुछ जयचंद है जो अविनाश पाण्डे के खिलाफ लगातार ,,अखबारों को मिसफ़ीड कर नेगेटिव माहौल बनाने की कोशिशों में जुटे है ,,खासकर एक पोलिटिकल खबर देने वाले दैनिक अख़बार के पोलिटिकल रिपोर्टर को ,ऐसे जयचंदो ने अपने साथ शामिल किया है ,,यही वजह है के यह दैनिक अविनाश पाण्डे के कार्यभार संभालने से उनकी हर गतिविधि की प्रशंसा करने की जगह नकारात्मक खबरे दे रहा है ,,वैसे तो अख़बार की भाषा से ही साफ़ ज़ाहिर है के इन खबरों के पीछे किस तरफ के लोग है ,,लेकिन वक़्त रहते ऐसे जयचंदो पर लगाम नहीं कसी तो यह लोग ,अखबारी नकारात्मक खबरों से ,कांग्रेस के उत्साह के खिलाफ ,,निर्गुटता ,,सक्रियता के खिलाफ माहौल बनाकर ,,संगठन को नुकसान पहुंचा सकते है ,,अविनाश पाण्डे ने कार्यकर्ताओ ,,प्रकोष्ठो ,,विभागों का फीडबैक पहले दिल्ली में फिर जयपुर में प्रादेशिक स्तर पर ,लिए ,आवश्यक सूचनाएं ,संगठन को गति देने के लिए मांगी ,,सामान्य अनुक्रम में अधिकतम कम्प्यूटर कार्य ,,अंग्रेजी भाषा में फीड होते है ,,जिनमे नाम ,,पते ,,पद ,,मोबाइल नंबर होते है ,,ऐसे में उक्त जानकारी अंग्रेजी में देने के लिए कहा ,तो इस अख़बार के पोलिटिकल रिपोर्टर के जयचंद मित्र ने भड़का कर ,,नकारात्मक खबर छपवाई ,,राजस्थान में अंग्रेजी नहीं जानते ,,ऐसे में अंग्रेजी में सूचनाएं माँगना कार्यकर्ताओ को परेशानी में डालना है ,,कामयाब बैठकों के बाद ,,संगठन को निर्विवाद तरीके से ब्लॉक ,,बूथ स्तर तक रिचार्ज करने के लिए ,, राष्ट्रिय महासचिव अविनाश पाण्डे ने उत्तरप्रदेश के संगठन ढांचे के जानकर गणेश शंकर पांडे को राजस्थान प्रदेश कांग्रेस में संयोजक नियुक्त किया ,,,उक्त अख़बार के पोलिटिकल रिपोर्टर को फिर जयचंदो ने मिसफ़ीड कर ,,अखिल भारतीय राष्ट्रिय कांग्रेस के अध्यक्ष ,,सोनिया गाँधी ,,उपाध्यक्ष राहुल गाँधी की स्वीकृति नहीं होने को लेकर बतंगगढ़ बनाया ,,खबर छपवाई ,,,फिर खबरे छपी ,,अब दिल्ली में दो सो विधानसभा और ज़िलों के संयोजक नियुक्त कर उन्हें व्यवस्थित तरीके से कार्य समझाने के लिए कायकर्ताओं को ज़िम्मेदारी देकर दिल्ली बुलाया गया ,,तो इस अख़बार के पोलिटिकल रिपोर्टर से जयचंदो ने ,, आज फिर नकारात्मक खबर ,छपवाइ ,,खबर में बेवजह की बातें दिल्ली में बैठक क्यों बुलाई ,,जयपुर में क्यों नहीं बुलाई ,,,सी पी जोशी ,,अशोक गहलोत ,,कांग्रेस के लिए वसुंधरा से ज़्यादा नुकसानदायक साबित होंगे ,,कुल मिलाकर एक तरफ अविनाश पाण्डे संगठन का जाल हर ,,ज़िले हर विधानसभा क्षेत्र ,,हर ब्लॉक ,,हर भाग संख्या ,,बूथ संख्या तक फैलाने के लिए ज़मीन आसमान एक कर रहे है ,,कड़ी महनत कर रहे है ,,एक तरफ विभागों ,,प्रकोष्ठो को रिचार्ज किया गया ,,दूसरी तरफ प्रदेश संगठन की चुनावी तैयारियां ,,चार सहयोगी ,,सचिव तरुण कुमार ,,विवेक वंसल ,,क़ाज़ी निज़ामुद्दीन ,,देवेंद्र यादव ,,का कार्यविभाजन उनका हर ज़िले में जाकर सक्रिय माहौल बनाना ,,दूसरी तरफ संगठन के प्रदेश पदाधिकारी उनके जिला प्रभारियों ,,अध्यक्षों को सक्रियता के निर्देश ,,फिर क्रॉस चेकिंग के लिए प्रदेश संयोजक ,,जिला संयोजक ,,विधासभा क्षेत्रों में संयोजकों की नियुक्ति ,,हर वर्ग ,हर गुट के लोग इसमें शामिल किये गये ,,तो अल्पसंख्यको ,दलितों ,,महिलाओं को कांग्रेस संविधान के अनुसार 33 प्रतिशत महिला 20 प्रतिशत दलित अल्पसंख्यको को प्रतिन्धित्व नहीं देने ,,एक व्यक्ति को ही सभी पद देने और जो लोग अपने क्षेत्र में विधानसभा चुनाव लड़ना चाहते है ,,उन्हें दूसरी विधानसभाओ में भेजकर उनके क्षेत्र को कमज़ोर करने की खबरे अखबारों में छपवायी गयी ,,,सभी जानते है अविनाश पांडेय और उनकी टीम द्वारा कार्यभार ग्रहण करने के बाद ,,प्रदेश कांग्रेस कमेटी में भी सचिन पायलेट के नेतृत्व में जोश बढ़ा है ,,सचिन पायलेट खुद हर बैठक में मौजूद रहकर कांग्रेस के सारथी बनकर हर कार्ययोजना को सफल बना रहे है ,फिर ऐसे में जयचंदो द्वारा दुष्प्रचार ,,नकारात्मक खबर के पीछे उनका मतव्य समझा जा सकता है वोह कांग्रेस के तो नहीं हाँ कांग्रेस में भाजपा के एजेंट ज़रूर लगते है ,,जो अंदरूनी खबरों को बाहर पोलिटिकल रिपोर्टर को बताकर छपवा रहे है ,अगर इस अख़बार के पोलिटिकल रिपोर्टर के मोबाइल की कॉल डिटेल निकाली जाए ,,तो ऐसी खबरों के प्रकाशन के पूर्व ,प्रकाशन के बाद सर्वाधिक बात करने का रिकॉर्ड जिस नेता जी से हो उसे इन खबरों का जनक और कांग्रेस का जयचंद मानकर कठोर अनुशासनात्मक कार्यवाही उनके खिलाफ करना ही होगी ,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...