हमें चाहने वाले मित्र

11 जुलाई 2017

,,भारत के श्रद्धालु अमरनाथ यात्रियों के हौसले को सलाम ,

भारत सरकार ,,भारत के सुरक्षा जवान ,,भारत के श्रद्धालु अमरनाथ यात्रियों के हौसले को सलाम ,,,,कश्मीर के आतंकियों ,,पाक प्रायोजित आतंकवाद को धिक्कार ,,,,दोस्तों यह हमारा हौसला है ,,के आस्थाओ पर चोट करने वाले आस्तीन में छुपे सांपो के ज़हर के बाद भी हम ,हमारे श्रद्धालु, बिना किसी खौफ के ,,अपनी श्रद्धा और हौसले के साथ आस्था की यात्रा पर निर्भीकता से है ,,सलाम भारत सरकार को जो ,,ऐसी तुच्छ घटनाओ से निपटने के हौसले के साथ ,,श्रद्धालुओं को फिर सुरक्षा का विश्वास दिलाकर आस्था की यात्रा शुरू रखी ,,श्रद्धालुओं को आतंकवादियों के खौफ की परवाह नहीं ,,श्रद्धा के हौसले ने आतंकवादियों के हौसलों को पराजीत कर ,दिया ,,शर्मसार है वोह महमाननवाज़ी ,,जो कश्मीरियो की तहज़ीब कही जाती है ,कश्मीर में महमान श्रद्धालुओं ,,निहत्थे श्रद्धालुओं ,,महिलाओ पर गोलियां चलाने वाले ,,इंसान तो क़तई नहीं ,,मज़हबी क़तई नहीं ,कोई भी मज़हब निहत्थे महमानो पर धोखे से नृशंस हमले की इजाज़त नहीं देता ,,कश्मीरियों को खुद ऐसे जानवर ,,ऐसे राक्षसों को तलाश कर सरे आम गोलियों से भूनना होगा ,एक संदेश राष्ट्र के नाम देना होगा ,,राक्षसियत ,,हैवानियत ,,निहत्थों पर गोलियां चलाने की संस्कृति कश्मीरियों की क़तई नहीं है ,,हमे खुद को बदलना होगा ,,हमारी पत्रकारिता ,,हमारे न्यूज़ चैनल ,,मीडिया पत्रकारों को प्रशिक्षित करना होगा ,,देश में क्या चल रहा है ,,जवानो का सम्पूर्ण सुरक्षा प्लान ,,,सभी नक़्शे ,,सभी रास्ते पूर्व खतरों की घटनाओ की जानकारी के बावजूद भी एहतियात नहीं बरता जाता ,,सभी कुछ खोलकर ,,टी वी पर रोज़ बताया जाता है ,ऐसी खबरों से ,ऐसी रिपोर्टिंग से न्यूज़ चैनलों की टी आर पी तो नहीं बढ़ती ,,जनता को जानकारी नहीं मिलती ,,लेकिन सरकार की व्यवस्थाओ की शान में क़सीदे पढ़ते पढ़ते ,,यह चुगलखोर ,चमचे चैनल ,,,देश की सुरक्षा व्यवस्था ,,सुरक्षा प्लान ,,सभी कार्ययोजनाएं ,,आतंकवादियों ,,दुश्मनो के हवाले कर देते है ,आतंकवादी ,,ऐसी छीजत ,ऐसी मुखबीरी का पूरा फायदा उठाता है और घात लगाकर ,,पूर्व में जानकारी में लाये गयी सुरक्षा घेरे को भेदने के जतन करता है ,,नतीजन अमरनाथ यात्रियों की दर्दनाक घटना सामने आती है ,,,,हमलावर इंसान तो नहीं हो सकते ,,हमलावर ,,किसी धर्म मज़हब के भी नहीं हो सकते ,,भारतीय भी नहीं हो सकते ,,ऐसे जानवरो की खेती ,ऐसे जानवरो की पैदाइश ,,नापाक , पाकिस्तान में हो रही है और ऐसे आतंकवाद की जन्मस्थली को हमे मटियामेट कर ,,अमेरिका की मर्दानगी की तरह एक अंतर्राष्ट्रीय मर्दानगी का संदेश देना होगा ,,एक बार फिर श्रद्धालुओं ,,भारत सरकार और सुरक्षा जवानो के हौसले को इस यात्रा को निर्भीकता ,,निडरता ,,वही मज़हबी जोश ,,जयघोष के नारो के साथ शुरू रखने के लिए सेल्यूट ,सलाम ,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...