हमें चाहने वाले मित्र

07 जून 2017

में किसान हूँ ,

में वोट के वक़्त अन्नदाता कहा जाता हूँ ,,में किसान हूँ ,,कभी में खेती के वक़्त दवा यूरिया डालते वक़्त मर जाता हूँ ,, कभी धूप में लू लगने से ,,कभी कड़ाके की सर्दी में ,,सर्दी लगने से ,,कभी में बारिश में भीगजाने ,,,या फिर बहजाने से मर जाता हूँ ,,कभी में फसल खराब होने के सदमे में हार्ट अटेक से मर जाता हूँ ,,तो कभी में खुद ही अपना जीवन बर्बाद होते देख ,,आत्महत्या कर अपने ही हाथो मर जाता हूँ ,,कभी में ज़िंदा रहता हूँ ,,तो आंदोलन पर उतर आता हूँ ,,मुझ पर सियासत तो होती है ,,लेकिन कभी में राजस्थान के टोंक सोयला में ,,तो कभी में मध्य्प्रदेश में ,,अपनी ही सरकार के हाथो मर जाता हूँ ,,कभी में यहां मरता हूँ ,,कभी में वहां मारा जाता हूँ ,,, में सिर्फ चुनाव के वक़्त अन्नदाता कहलाता हूँ ,,में सिर्फ चुनाव के वक़्त सियासी वायदों का पिटारा कहलाता हूँ ,,,अख्तर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...