हमें चाहने वाले मित्र

31 मई 2017

,,एक लोकपाल क़ानून जिस के लिए

भाइयों में ठगा गया ,,,,,मेरे जैसे कई लोग ठगे गए ,,,एक लोकपाल क़ानून जिस के लिए ,,पिछली कांग्रेस सरकार ,,जिस पर वर्तमान में भ्रष्टाचार और भ्रष्टाचार के कई आरोप लगाए जाते है ,,,जिस सरकार में कई मंत्री आरोप लगते ही जेल भेजे गए ,,,जिस सरकार में भ्रष्ट सहयोगी दलों से सरकार गिरने का खतरा भी झेला ,,,उस सरकार ने अन्ना हज़ारे के कहने पर ,,एक लोकपाल क़ानून बनाया ,,जिसमे प्रधानमंत्री सर सहित सभी लोग ,,भ्रष्टाचार की जांच के दायरे में थे ,,क़ानून पारित हुआ ,क़ानून छापा गया ,और बुकसेलर ने ,,अदालतों में क़ानून बेचे भी ,,मेने और कई लोगो ने तीन सो रूपये का यह क़ानून खरीदा ,,सोचा लोकायुक्त बनेगा केंद्र सरकार के खिलाफ कई भ्रष्टाचार के मामले होते है ,,,काम आएगा ,,काम करेंगे ,,लेकिन ताज्जुब है ,,अन्ना हज़ारे के मार्गदर्शन पर बनी सरकार ,,अन्ना हज़ारे की कार्ययोजना के बाद बनी सरकार ,,अन्ना हज़ारे को केजरीवाल के खिलाफ इस्तेमाल करने वाली सरकार ,,,बाबा रामदेव के काला धन समझौते पर खामोश बैठे अन्ना हज़ारे की सरकार ,,,अनशन कर लोकपाल बिल बनवाने वाले अन्ना हज़ारे की यह सरकार ,तीन साल में लोकपाल भी नहीं बना सके ,,बहाना बनाया ,,संसद में प्रतिपक्ष के नेता के लिए संख्या पर्याप्त नहीं है इसलिए प्रतिपक्ष का नेता हमने बनाया नहीं ,,लोकपाल की नियुक्ति तो प्रतिपक्ष के नेता के साथ मिलकर होगी इसलिए लोकपाल नहीं बना रहे ,,,केजरीवाल ने दिल्ली में तीन विधायकों वाली शर्मसार पार्टी को ,,प्रतिपक्ष नेता का दर्जा देकर ,,प्रदेश लोकपाल बना दिया ,,,,,लोकपाल क़ानून ,,अन्ना के इशारे पर बनी इस सरकार ने जानबूझ कर नज़र अंदाज़ किया जिसमे साफ़ लिखा था ,,प्रतिपक्ष नेता न हो तो जो सबसे बढ़ी प्रतिपक्ष पार्टी है उसका नेता इस चयन में शामिल होगा ,,सुप्रीम कोर्ट ने दो माह पहले ,लोकपाल नियुक्त करने के लिए अन्ना हज़ारे की बनाई सरकार पर थू थू कर ,,लोकपाल नियुक्त करने के आदेश दिए ,,लेकिन अफ़सोस ,,अन्ना हज़ारे ,,बाबा रामदेव के इशारे पर बनी इस उन्तीस प्रतिशत वोटर वाली सरकार ने अभी तक केंद्र में ,,प्रधानमंत्री ,,केंद्रीय मंत्री और दूसरे मंत्रियों के खिलाफ कार्यवाही के लिए भ्रष्टाचार की जांच के लिए ,,अब तक लोकपाल नहीं बनाया है ,,,नतीजा सामने है ,,उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने ,,गडकरी मंत्री जी के विभाग की जांच सी बी आई से करवाने को क्या लिखा ,उन्हें डाँट कर खामोश कर दिया गया ,,लोकपाल है नहीं ,,अब व्यापम घोटाले ,,भावी डॉक्टरों की परीक्षा ,,प्रवेश ,,,नीट घोटाले ,,,बीफ मार्केटिंग घोटाले ,,,विदेश यात्रा घोटाले ,,उपवास ,,,नाश्ता खाना घोटालों की जांच कराने के लिए ,,ईमानदार साहिब ने ,,अन्ना जैसे समर्थित साहिब ने ,,तीन साल पहले बनाये गए संसद द्वारा पारित लोकपाल क़ानून के तहत ,,केंद्रीय लोकपाल की नियुक्ति अभी तक नहीं की है ,,आखिर साहिब लोकपाल नियुक्त नहीं कर ,,सरकार और अन्ना जी के कोनसे पाप छुपाना चाहती है क्योंकि ,,सोसाइटी भी उस दायरे में आती है ,,,,,,मेरा और दूसरे वकीलों के दफ्तर में तीन साल से रखा यह लोकपाल क़ानून कोई काम नहीं आ सका है इन अन्ना की चुप्पी और साहिब की भ्रष्टाचार मुक्त के नारे के साथ बेवफाई के कारण ,,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...