हमें चाहने वाले मित्र

04 नवंबर 2016

पत्नी को जिंदा जलाया, 5 दिन तक शहरभर में लाश के टुकड़े फेंके; अब अरेस्ट


 पत्नी को जिंदा जलाया, 5 दिन तक शहरभर में लाश के टुकड़े फेंके; अब अरेस्ट
  • अलवर में पत्नी को काटकर उसके अंग-अंग यूं बिखेर दिए शहरभर में।
अलवर (राजस्थान). शहर के गली-मोहल्लों में पिछले 5 दिन से एक महिला की लाश के हिस्से मिल रहे थे। इस कत्ल की गुत्थी शुक्रवार को पुलिस ने सुलझाने का दावा किया। मर्डर का आरोपी महिला का पति ही निकला। उसे गिरफ्तार कर लिया गया। पूछताछ में उसने मर्डर की कहानी सुनाई। पुलिस को शक है कि आरोपी के उसकी भाभी से अवैध रिश्ते हैं। इसी वजह से धनतेरस की रात उसने पत्नी का मर्डर कर दिया था। यूं चला पांच दिन घटनाक्रम...
- रविवार को दिवाली की रात मृतक महिला के अंगों का मिलना शुरू हुआ था। सबसे पहले दो अलग-अलग जगह पैर मिले।
- सोमवार को कोतवाली थाना इलाके में पुलिस को एक कटा हुआ हाथ मिला।
- बुधवार को पुलिस ने धड़ बरामद किया था। इसकी खाल जली हुई थी।
- गुरुवार को भी शरीर के बाकी हिस्सों के टुकड़े मिले।
- पांच दिन से चल रही यह सनसनीखेज घटना से पूरे अलवर में लोग दशशत में थे।
पत्नी चीखती रही वो वार करता रहा
- पुलिस के मुताबिक, योगेश और उसकी पत्नी आरती के बीच आए दिन झगड़ा होता था।
- धनतेरस की रात भी पड़ोसियों ने उनके घर से झगड़े होने और रोने की आवाजें सुनीं।
- आए दिन ऐसा होता था, इसलिए उन्होंने इस पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया।
- झगड़ा इतना बढ़ा कि योगेश ने पत्नी पर केरोसिन डालकर आग लगा दी।
- फिर योगेश ने धारदार हथियार से उसकी बॉडी के टुकड़े-टुकड़े कर दिए।
- कटे हुए अंगों को उसने अलग-अलग थैलियों में भरा और घर के कोने में छिपा दिया।
ऐसे फेंके लाश के टुकड़े
- योगेश ने दिवाली वाली रात हाथ-पांव के टुकड़ों वाला थैला उठाया और रंगभरियान की गली में बिखेर आया।
- अगली रात धड़ वाला थैला उठाया और यहां मालन की गली में पटक आया।
- अगले दिन मंगलवार को बॉडी के कुछ और पार्ट्स यहां-वहां बिखरे नजर आए।
- बुधवार को पुलिस को कंपनी बाग के सामने सिर भी मिल गया।
आखिर कैसे चढ़ा पुलिस के हत्थे
- पुलिस के दौरान सक्कापाड़ी के कुछ लोगों ने पुलिस को बताया कि आरती नामक महिला धनतेरस की रात से ही नजर नहीं आ रही।
- पुलिस उसके घर पहुंची तो योगेश ताला लगाकर कहीं भाग चुका था। मोबाइल की लोकेशन से पुलिस ने गुरुवार रात उसे दिल्ली रोड से गिरफ्तार कर लिया।
- योगेश की चार साल की एक बेटी है, जिसे वह घर से भागते समय रिश्तेदारों के यहां छोड़ आया था।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...