हमें चाहने वाले मित्र

21 अक्तूबर 2016

65 लाख ATM कार्ड के डेटा चोरी होने की आशंका, केंद्र ने बैंकों से मांगी रिपोर्ट; लौटाए जा सकते हैं कस्टमर्स के पैसे



नई दिल्ली. डेटा चोरी के दायरे में आए एटीएम-डेबिट कार्डों की संख्या लगातार बढ़ रही है। साइबर सिक्युरिटी एक्सपर्ट्स ने यह संख्या 65 लाख से ज्यादा होने की आशंका जताई है। देश के इतिहास के सबसे बड़े एटीएम-डेबिट कार्ड फ्रॉड के बावजूद किसी भी बैंक ने अभी एफआईआर नहीं करवाई। न ही सरकार को कोई आधिकारिक रिपोर्ट दी। जिन ग्राहकों के खातों से पैसे निकाले गए हैं, बैंक अब उन्हें पैसे लौटाने पर विचार कर रहा है। महाराष्ट्र साइबर क्राइम सेल ने बैंकों से मांगी डिटेल...
- मीडिया रिपोर्ट्स के आधार पर अब महाराष्ट्र साइबर क्राइम सेल ने बैंकों से डिटेल मांगी हैं।
- इसी बीच केंद्र सरकार ने सख्ती दिखाते हुए प्रभावित बैंकों और भारतीय रिजर्व बैंक से पूछा कि यह सब कैसे हुआ और इससे निपटने की तैयारी क्या है।
- वहीं, वित्तमंत्री अरुण जेटली ने आश्वासन दिया कि लोगों को नुकसान नहीं होने दिया जाएगा।
- सूत्रों के अनुसार बैंक प्रभावित ग्राहकों के नुकसान का आकलन कर रहे हैं। साथ ही जांच में फॉरेंसिक और साइबर एक्सपर्ट्स की भी मदद ली जा रही है।
- नेशनल पेमेंट कॉर्पोरेशन के अनुसार 19 बैंकों के 641 ग्राहकों के खातों से 1.3 करोड़ रुपए निकाले गए।
- यह रकम चीन और अमेरिका में निकाली गई है। करीब 90 एटीएम से यह गड़बड़ होने का शुरुआती अनुमान है।
- डेटा चोरी की यह घटना हिताची पेमेंट सर्विस के नेटवर्क वाले एटीएम से हुई।
बैंकों के शेयर पर असर

- डेटा चोरी का असर शेयर बाजार पर भी दिखा। एक्सिस बैंक के शेयर में -2.26, बैंक ऑफ बड़ौदा के शेयर में 0.89 और एसबीआई के शेयर में 0.60 फीसदी की गिरावट देखी गई।
- उधर, आर्थिक मामलों के सेक्रेटरी शक्ति कांत दास ने कहा, डेटा चोरी से घबराने की जरूरत नहीं है। विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। मिलते ही उपयुक्त कार्रवाई की जाएगी। हैकिंग कंप्यूटर के जरिये हुई है। इसकी तह तक आसानी से पहुंचा जा सकता है।
साढ़े तीन महीने पहले बैंकों को दी गई थी वॉर्निंग
- ऑनलाइन ठगी-धोखाधड़ी-साइबर अटैक इत्यादि से निपटने के लिए आईटी मंत्रालय के तहत काम करने वाला संगठन सर्ट-इन करीब साढ़े तीन महीने से डाटा चोरी की आशंका जता रहा था।
- संस्था का दावा है कि उसने 1 जुलाई को ही आरबीआई और बैंकों को साइबर हमले की चेतावनी दी थी। इसके बाद 12 और 24 अगस्त को भी अलर्ट भेजकर डाटा चोरी से आगाह किया था। सिस्टम में हुई चूक और उससे सुरक्षा के उपाय भी बताए गए थे।
- वहीं, सितंबर 20 को संस्था ने येस बैंक से चीन में उसके एटीएम में संदिग्ध लेन-देन की पड़ताल करने को कहा था।
आगे की स्लाइड्स में पढ़िए किसने खतरे के बारे में बताया और कैसे हुई हैकिंग...
SBI ने रिकॉल किए 6 लाख कार्ड...
 
 
- एक प्राइवेट बैंक के एटीएम नेटवर्क को मैनेज करने वाले पेमेंट सर्विस प्रोवाइडर के सिस्टम में हैकिंग हुई है।
- इसके बाद एसबीआई ने जहां 6 लाख डेबिट कार्ड रिकॉल किए हैं, वहीं बैंक ऑफ बड़ौदा, आईडीबीआई, सेंट्रल बैंक और आंध्र बैंक ने अपने कस्टमर्स के डेबिट कार्ड्स एहतियातन ब्लॉक करने के बाद बदल दिए हैं।
- आईसीआईसीआई, एचडीएफसी और यस बैंक ने अपने कस्टमर्स से एटीएम पिन नंबर्स बदलने को कहा है। एचडीएफसी बैंक ने अपने कस्टमर्स से कहा कि वह अपने ही बैंक के एटीएम का इस्तेमाल करें।
 
किसने खतरे के बारे में बताया
- एनडीटीवी प्रॉफिट की खबर के मुताबिक, एनपीसीआई ने कहा कि 19 बैंकों के 641 कस्टमर्स के कुल 1.3 करोड़ रुपए के विदड्रॉवल के बाद शक हुआ। इसी के बाद हैकिंग का खतरा सामने आया।
- हिताची पेमेंट सर्विसेस से 30 ATM से हुए 400 ट्रांजैक्शन्स की जांच करने को कहा गया।
- कार्ड नेटवर्किंग कंपनियों NPCI, Visa, Mastercard और RuPay ने कई बैंकों को हैकिंग के खतरे के बारे में बताया है। इसी वजह से कुछ कस्टमर्स के कार्ड ब्लॉक कर दिए गए हैं।
- आरबीआई के जुलाई डाटा के मुताबिक, देश में करीब 60 करोड़ डेबिट कार्ड हैं। अकेले एसबीआई के 20 करोड़ डेबिट कार्ड होल्डर हैं। 19 करोड़ कार्ड RuPay के हैं। बाकी वीसा और मास्टरकार्ड के हैं।
 
आगे की स्लाइड्स में पढ़ें सरकार ने क्या किया और क्या करें कि आपका अकाउंट रहे सेफ...
सरकार ने क्या कहा?
- सरकार ने बैंकों से रिपोर्ट मांगी है।
- फाइनेंशियल सर्विसेस डिपार्टमेंट के एडिशनल सेक्रेटरी जीसी मुरमू ने बताया कि सिर्फ 0.5% डेबिट कार्ड प्रभावित हुए हैं।
- बाकी 99.5% कार्ड पूरी तरह सेफ हैं। बैंक कस्टमर्स को घबराने की जरूरत नहीं है।
 
क्या करें ताकि सेफ रहें?
- अपने एटीएम पिन को फौरन बदलें।
- अपनी ही बैंक का एटीएम यूज करें।
- आरबीआई ने बैंकों को कहा है कि वह अपने सभी एटीएम-डेबिट कार्ड को मैग्नेटिक स्ट्रिप की जगह ईवीएम चिप में जनवरी 2017 तक कन्वर्ट करें। आप अपने बैंक को कार्ड रिप्लेस करने के लिए कह सकते हैं।
- अगर आपके अकाउंट से फ्रॉड हुआ है, तो बैंक को अलर्ट करें। बैंकिंग लोकपाल और पुलिस को शिकायत दें।
- फ्रॉड हो जाने के बाद एटीएम कार्ड ब्लॉक और रिप्लेसमेंट कराएं।
 
आगे की स्लाइड्स पर पढ़ें किन जगहों पर है खतरा और बैंकों ने क्या कहा...
इन जगहों पर खतरा ज्यादा
- सिंगल डे इवेंट में जैसे कोई शो, आईपीएल मैच, क्रिकेट मैच, दूसरे फंक्शन जहां पर टेम्पररी स्टॉल होते हैं, वहां क्लोनिंग का खतरा ज्यादा है।
- पब्लिक वाई-फाई के इस्तेमाल पर हैकिंग का खतरा रहता है। होटल, रेस्टोरेंट, पेट्रोल पंप में कार्ड यूज करते वक्त सर्विसमैन को पासवर्ड नहीं बताएं।
- ऑनलाइन शॉपिंग या पेमेंट करते समय साइबर कैफे के इस्तेमाल से बचें।
 
बैंकों ने क्या कहा?
1# एसबीआई
- बैंक की डिप्टी मैनेजिंग डायरेक्टर और चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर मंजू अग्रवाल ने कहा- "हमें इस बारे में जानकारी है। हम अपने कस्टमर्स को रिस्क में नहीं डाल सकते। इसलिए उन्हें नए कार्ड दिए जा रहे हैं। सिक्युरिटी में सेंध मई से जुलाई के बीच लगी। इसका पता सितंबर में चला।"
- उन्होंने बताया कि इसी वजह से एहतियातन कदम उठाए गए हैं। हमने कस्टमर्स से पिन नंबर भी बदलने को कहा है। निर्देशों के बावजूद 7% कस्टमर्स ने ही पिन नंबर बदले थे। इसी वजह से कार्ड रिकॉल का फैसला लिया गया। नए कार्ड बिना किसी चार्ज के जारी होंगे।
 
2# कैनरा बैंक
- बैंक ने कहा है कि कस्टमर्स तुरंत अपने पिन बदलें। जो पिन नहीं बदलेंगे, उनके एटीएम कार्ड 21 अक्टूबर के बाद ब्लॉक कर दिए जाएंगे।
 
अन्य बैंकों ने क्या कहा आगे की स्लाइड्स पर पढ़ें...
3# यस बैंक
बैंक के मैनेजिंग डायरेक्टर और चीफ एग्जीक्यूटिव राणा कपूर ने कहा कि हमें आउटसोर्सिंग पार्टनर्स के मामले में और ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है।
 
4# एक्सिस बैंक
- बैंक के प्रवक्ता ने कहा कि हमने कस्टमर्स से पिन कार्ड बदलने को कहा है। हमारे एटीएम का नेटवर्क पूरी तरह सिक्योर है। हमने हमारे कस्टमर्स से एक्सिस बैंक के नेटवर्क एटीएम का ही इस्तेमाल करने को कहा है।
 
5# बैंक ऑफ बड़ौदा
- बैंक के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर मयंक मेहता ने कहा, ''हमें पता चला कि विदेशों में हमारे कस्टमर्स के कार्ड्स से कुछ संदिग्ध ट्रांजैक्शन हुए हैं। हमने कार्ड रिकॉल की प्रॉसेस पूरी कर ली है।''
 
6# सेंट्रल बैंक
- बैंक के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर आरसी लोढ़ा ने कहा कि कुछ कस्टमर्स ने चीन में उनके कार्ड से ट्रांजैक्शन होने की शिकायत की थी। जबकि ये कस्टमर्स न तो विदेश में थे, न उनके पास पासपोर्ट हैं।
 
7# वीजा
- कंपनी की तरफ से जारी बयन के मुताबिक, "हम डोमेस्टिक डेबिट एटीएम ट्रांजैक्शन प्रॉसेस नहीं करते। लेकिन हमें भी विदेशों में ट्रांजैक्शन्स के बारे में शिकायत मिली थी।"
 
8# मास्टरकार्ड
कंपनी ने कहा कि हम इन्वेस्टिगेशन कर रहे हैं। अभी मास्टरकार्ड पूरी तरह सिक्योर हैं।

आरबीआई का अलर्ट
- आरबीआई बैंकों को अलर्ट कर चुका है। उसने बैंकों से जनवरी 2017 तक सभी मैग्नेटिक चिप वाले एटीएम-डेबिट कार्ड को ईवीएम चिप के कार्ड से रिप्लेस करने को कहा है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...