हमें चाहने वाले मित्र

25 सितंबर 2016

नर्स नाश्ते में बटर-ब्रेड लाई तो तिहाड़ से एम्स पहुंचा 80 साल का आसाराम बोला- तुम खुद मक्खन जैसी, गाल कश्मीरी सेब जैसे



Asaram
दिल्ली से जांच कराकर शनिवार को जोधपुर लौटे आसाराम को एयरपोर्ट से बाहर निकलने के लिए भी व्हील चेयर का सहारा लेना पड़ा। वह उठ नहीं पा रहा था इसलिए आठ हाथों के सहारे बमुश्किल धकेलते हुए उसे वज्र वाहन में बैठाया।
जोधपुर. नाबालिग स्टूडेंट के सेक्सुअल हैरेसमेंट का आरोपी आसाराम 80 साल का है। इतना बीमार कि चल तक नहीं पाता। लेकिन सोच कैसी है, यह एम्स की एक नर्स के साथ बातचीत से पता चलता है। खड़ा भी नहीं हो पाता और नर्स देखते ही बोल पड़ा- तुम तो खुद मक्खन जैसी हो...
- दिल्ली एम्स में मेडिकल जांच कराने तिहाड़ जेल से पहुंचे आसाराम को खड़े रहने के लिए आधा दर्जन पुलिस व मेडिकल स्टाफ का सहारा लेना पड़ रहा था। जांच से पहले डॉक्टरों ने नाश्ता कराने को कहा तो एक नर्स बटर और ब्रेड ले आई।
- आसाराम उसे देखते ही बोल पड़ा- तुम तो खुद मक्खन जैसी हो, ब्रेड के साथ मक्खन लाने की क्या जरूरत है? तुम्हारे गाल भी सेब जैसे लाल हैं। तुम कश्मीर की होगी। तभी तुम्हारे गाल वहां के सेब-टमाटर जैसे हैं।
पहले जैसा जवान बनना चाहता है आसाराम
- आसाराम से यह सब सुनते ही नर्स झेंप गई। आसाराम यहीं नहीं रुका। डॉक्टरों से कहा कि मैं तो बीमारी से 80 साल का हो गया हूं।
- बुढ़ापा आ गया है। डॉक्टर साहब! मेरा इलाज कर दो, इतनी जांचें कर ली, अब तो मुझे पहले जैसा जवान बना दो।
- आसाराम की जांच कराने साथ गए अधिकारियों ने बताया कि आसाराम बार-बार उन्हें वीडियोग्राफी से भी रोक रहा था।
- उसका कहना था कि तुम वीडियो बनाकर मुझे क्यों टॉर्चर कर रहे हो।
इस कारण इलाज के लिए ले गए थे दिल्ली

- आसाराम ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर कर केरल में आयुर्वेद पद्धति से इलाज कराने के लिए अंतरिम जमानत मांगी थी।
- सुप्रीम कोर्ट ने उनकी याचिका खारिज कर दी, लेकिन दिल्ली स्थित एम्स से हेल्थ टेस्ट कर मेडिकल रिपोर्ट पेश करने का ऑर्डर दिया था।
- इस पर आसाराम की ओर से कहा गया कि वे ट्रेन से यात्रा करने की स्थिति में नहीं है। उन्हें फ्लाइट से ट्रैवल करने की परमिशन दी जाए।
- सुप्रीम कोर्ट के ऑर्डर पर उसे दिल्ली लेकर जाया गया। उसके साथ पुलिस अफसर भी थे।
सपोर्टर्स की वजह से बिगड़ गया था प्लेन का बैलेंस
- जब आसाराम को दिल्ली ले जाया जा रहा था, फ्लाइट की 70 में से 35 सीटों पर आसाराम के सपोर्टर्स बैठे थे। जो टेकऑफ से लैंडिंग तक लगातार हंगामा करते रहे।
- एक बार तो सभी सपोर्टर्स अचानक खड़े हो गए, जिससे प्लेन हवा में डोलने लगा। एयर होस्टेस के समझाने पर भी आसाराम के सपोर्टर्स नहीं माने।
- फिर जब पायलट ने वॉर्निंग दी कि प्लेन का बैलेंस बिगड़ रहा है, तब सपोर्टर्स बैठे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...