हमें चाहने वाले मित्र

09 अगस्त 2016

छैनी-हथौड़े से काटी ट्रेन की छत और लूट ले गए रिज़र्व बैंक के 5 करोड़ रुपए



ट्रेन की छत भी आरी से नहीं, छैनी-हथौड़े से काटी गई।
नई दिल्ली.रिजर्व बैंक के 342 करोड़ रुपए लेकर सलेम से चेन्नई जा रही ट्रेन में पहले से घात लगाए कुछ अपराधियों ने लूट की घटना को अंजाम दिया है। बताया जा रहा है कि लुटेरे 5.78 करोड़ रु. ले गए। 2-3 बक्सों में लूट की घटना हुई है। लूट को अंजाम देने के लिए डकैतों ने छैनी-हथौड़े और कटर से ट्रेन की छत में करीब दो फुट का छेद किया था, ताकि वह आसानी से अंदर घुसकर पैसे लूट सकें। पुलिस का मानना है कि लूट की वारदात सलेम से वर्धाचलम रेलखंड के बीच हुई। क्योंकि वहां ट्रेन इलेक्ट्रिक रूट की बजाय डीजल लोको इंजन से चलती है। ऐसे में छत काटने में कोई परेशानी नहीं हुई। 228 बक्सों में चेन्नई भेजे जा रहे थे पुराने नोट...
- लूट का पता सुबह करीब 11 बजे चला जब एक वर्कर ट्रेन की बोगी में गया। अभी यह पूरी तरह से स्पष्ट नहीं हो सका है कि कितने रुपयों की लूट हुई है।
- इस ट्रेन से अलग-अलग बैंकों से जमा किए गए पुराने नोटों की 228 बक्से चेन्नई भेजे जा रहे थे, जिनकी कुल कीमत करीब 342 करोड़ रुपए आंकी गई है।
- गौरतलब है कि रिजर्व बैंक ने 2005 से पहले से नोट को 30 जून 2016 से पहले वापस लिया था।
किसी को भनक तक नहीं लगी
- इस घटना में सबसे चौंकाने वाला तथ्य यह सामने आ रहा है कि चलती ट्रेन में बदमाश वारदात करते रहे और किसी को इसकी भनक तक नहीं लगी।
- पुलिस मामले की जांच में जुटी है, लेकिन माना जा रहा है कि इसमें या तो रिजर्व बैंक के किसी कर्मचारी की मिलीभगत हो सकती है या रेलवे कर्मचारी भी इस वारदात से जुड़े हो सकते हैं।
रिजर्व बैंक का टिप्पणी से इनकार
जब रिजर्व बैंक के स्थानीय ऑफिस से इसके बारे में पूछा गया तो उन्होंने इस पर टिप्पणी करने से मना कर दिया। सूत्रों के अनुसार आरपीएफ ने एक केस भी फाइल कर दिया है और इस मामले की छानबीन सब इंस्पेक्टर विजय कुमार की देखरेख में की जा रही है। मौके पर फोरेंसिक अधिकारियों की टीम पहुंच चुकी है। अपराध स्थल पर सबूतों की जांच की जा रही है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...