हमें चाहने वाले मित्र

13 जुलाई 2016

अपना ध्वज फहराने की कोशिशों में जुटे अलगाववादियों ने

हमारे देश के राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे को हटाकर ,,अपना ध्वज फहराने की कोशिशों में जुटे अलगाववादियों ने देख लिया है ,,समझ लिया है ,,उनके लोगो को वह चाहे जितनी बढ़ी कुर्सी पर बिठा दे ,,लेकिन हमारे देश के लोग ,,हमारे देश का संविधान ,,ऐसे लोगो द्वारा प्रशिक्षित लोगो को भी ,,तिरंगे के गुणगान पर मजबूर कर देता है ,,उनके हाथो से ही तिरंगे को लहरवाता है और फिर इन बेचारे अलगाववादियों के सपने ,,तिरंगे को हटाकर अपना ध्वज फहराने के सपने ,चकनाचूर हो जाते है ,,,हमारा देश ,,हमारे देश के लोग ,,हमारे देश के संस्कार ,,हमारे देश की संस्कृति इसीलिए ज़िंदाबाद कहलाती है ,,,यहां तिरंगे को कोई नहीं बदल सकता ,,यहाँ ,,धर्मनिरपेक्षता को ,,क़ौमी एकता को कोई छिन्न भिन्न नहीं कर सकता ,,अलगाववादियों जितनी ताक़त तुम देश को तोड़ने में ,,देश का तिरंगा बदलने में लगा रहे हो ,,उससे एक चौथाई ताक़त भी राष्ट्र निर्माण ,,नफरत का वातावरण बदल कर मोहब्बत का बातावरण बनाने में खर्च करोगे तो सच यह देश स्वर्ग बन जाएगा ,,सच यह मेरा भारत महान बन जाएगा ,,,कुछ चंद नामाकूल लोगो के खातिर पुरे लोगो को दोष देकर वातावरण मत बिगाड़ो यार ,,कभी अपने पड़ोस में रह रहे लोगो को भी नापो तोलो ,,,हर शख्स यु बेवफा नहीं होता ,,तुम सभी खराब नहीं ,,कुछ लोग है जो तुम्हे सभी को खराब कहलवा रहे है ,,और वह गलत है ,,जो अच्छे है वह आदरणीय है ,,हम सब खराब नहीं है ,,कुछ खराब है जो सभी खराब कहलवा रहे है ,,यह भी गलत है ,,ज़रा सोचो ,,समझो यह देश हमारा अपना है ,,यह तिरंगा हमारा अपना है फिर क्यों हम ,,इसे हटाकर एक नया ध्वज लाना चाहते है ,,, फिर चाहे वह हरा हो या फिर केसरिया ,,,तिरंगा ज़िंदाबाद ,,हिंदुस्तान ज़िंदाबाद ,,जय हिन्द ,,जय भारत ,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...