हमें चाहने वाले मित्र

12 जून 2016

छात्र छात्राओं को अपना कैरियर ,,माँ बाप ,,शिक्षक ,,कोचिंग गुरु और खुद की इच्छा शक्ति के बाद क्यों का जवाब तलाशने के बाद ही करना चाहिए ,पंकज चौधरी,,

छात्र छात्राओं को अपना कैरियर ,,माँ बाप ,,शिक्षक ,,कोचिंग गुरु और खुद की इच्छा शक्ति के बाद क्यों का जवाब तलाशने के बाद ही करना चाहिए ,,छात्र जो लक्ष्य प्राप्ति का संकल्प ले उसके लिए सभी प्रयास अगर वह सूक्ष्म तरीके से करेगा तो उसे कामयाबी मिलेगी ,,,कोटा के छात्र ,,छात्राओं के कोचिंग गुरु ,,प्रशासन ,,कौंसिलर ,,छात्र छात्राओं की इच्छा शक्ति लक्ष्य और अभिभावकों के समन्वय के अभाव के कारण ही छात्र छात्राओं में निराश का दौर शुरू हुआ है और नतीजा छात्र छात्राओं बेवजह आत्महत्याओं का दौर है ,,इसे कुशल प्रबंधन और जागरूकता कार्यक्रमों से नियंत्रित किया जा सकता है ,,,,प्रदेश क्राइम कंट्रोल ब्यूरो के पुलिस अधीक्षक भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी पंकज चौधरी ने आज कोटा प्रेसकलब में प्रेस से रूबरू होने के बाद उक्त विचार व्यक्त किये ,,,पंकज चौधरी कोटा में सहायक पुलिस अधीक्षक प्रशिक्षु आई पी एस के रूप में भी काम कर चुके है वह पिछले दिनों जैसलमेर में कांग्रेस के विधायक की आपराधिक गतिविधियों को लेकर उनकी हिस्ट्री शीट खोलने और फिर बूंदी पुलिस अधीक्षक कार्यकाल के दौरान ,,नैनवा क्षेत्र में आपराधिक तत्वों की साम्प्रदायिक ताक़तों की साज़िशें नाकाम करने में सख्त कार्यवाही को लेकर चर्चित रहे है ,,वह तेज़ तर्रार ,दबंग ,,क़ानूनी प्रावधान और जनता के प्रति कर्तव्यों के निर्वहन के कारण सरकार की आँख की हमेशा किरकिरी बने रहे है ,,लेकिन पंकज चौधरी है के अपने कर्तव्यों के प्रति सजग और सतर्क रहकर जंगजू सिपाही की तरह सम्पर्पण भाव से अपनी सेवाएं दे रहे है ,,,पंकज चौधरी आज कोटा में एडवांस क्लासेज़ कोचिंग द्वारा आयोजित पुलिस भरी परीक्षा के लिए छात्रों में मोटिवेशन सेमिनार में मुख्य अतिथी बनकर आये थे ,,पंकज चौधरी ने कहा के छात्र छात्राओं को सबसे पहले अपने लक्ष्य के चयन में क्यों का जवाब ढूँढना चाहिए ,,वह इस लक्ष्य को क्यों हासिल करना चाहता है ,,क्या उसकी योगयता इस लायक है ,,क्या उसके पास ऐसे संसाधन है तब उसे अपने लक्ष्य का चयन कर ,,परीक्षार्थी बनना चाहिए ,,पंकज चौधरी ने कहा के पुलिस भर्ती के लिए सेवाभाव से जाना चाहिए ,,इसके लिए पहले नोटिफिकेशन को पूरी तरह से कई बार पढ़ना चाहिए ,,,फिर समझकर पढ़ाया और शारीरिक दक्षता के प्रशिक्षण कोचिंग में लग जाना चाहिए ,,,,,उन्होंने एडवांस क्लासेज़ के प्रतियोगी भागीदारों को पुलिस परीक्षा में पास होने के टिप्स भी सिखाये ,,,पंकज चौधरी ने कहा के कोटा में छात्र छात्राओं के वर्तमान आत्महत्या के माहौल में ,,छात्र ,,छात्राएं ,,,उनके अभिभावक ,,कोचिंग गुरु ,,मीडिया ,,प्रशासन की सामूहिक ज़िम्मेदारी है ,,,अभिभावकों को यह देखना होगा के उनका बच्चा क्या चाहता है ,,क्या जो टारगेट उसे दिया जा रहा है वह उसे पूरा भी कर पाएगा या नहीं ,,,छात्र छात्राओं को किसी भी कोर्स में प्रवेश के बारे में वह ऐसा क्यों कर रहा है इसके जवाब को तलाशना होगा ,, उन्होंने खुद का उदाहरण देते हुए कहा के ,,मेने ट्वेल्थ में साइंस और मेथ्स में बराबर अंक हांसिल किये ,,माँ कहती थी डॉकटर बन ,,पिता कहते थे इंजीनियर बनो ,,लेकिन इतिहास और भूगोल पढ़ना चाहता था ,, इंजीनियरिंग की ,,फिर जब आई ऐ एस कोचिंग की इच्छा ज़ाहिर की तो पिता ने साफ कहा के अब हमने तुम्हे इंजीनियर बना दिया अब पॉकेट मनी बंद ,,,मेने खुद ने नौकरी की,,, फिर पढ़ाई की और इतिहास भूगोल जो में चाहता थो खूब पढ़ा और आई पी एस में चयनित हो गया ,, उन्होंने कहा के ,,छात्र छात्राओं को अपना लक्ष्य हांसिल करने के लिए अपनी सस्याए भी शेयर करना चाहिए ,,इसके लिए कोचिंग गुरु को लगातार नज़र रखना चाहिए ,,जबकि अभिभावकों को बार बार क्रॉस चेक करना चाहिए ,,वर्ना कई बच्चे लक्ष्य से भटक कर आपराधिक गतिविधियों में लग जाते है और फिर हालात बिगड़ जाते है ,,पंकज चौधरी ने कहा के कोटा कोचिंग माहौल को नियंत्रित करने के लिए प्रत्येक कोचिंग में सेमिनार होना चाहिए ,,,कौंसिलर होना चहिये ,,यहां तक के कोटा में कोचिंग मामलातो को नियंत्रित करने के लिए ,पृथक से कोचिंग थाना होना चाहिए जिसमे जुवेनाइल पुलिस यूनिट भी होना चाहिए ,,,,पंकज चौधरी ने कहा के पुलिस और प्रशासन को इसमें जो गाइडलाइन बनाई गई है उसकी क्रियान्विति की लगातार मासिक समीक्षा करना चाहिए जबकि मिडिया को भी सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ गाइडलाइन की क्रियान्विति के बारे में लोगो को सजग और सतर्क करना चाहिए ,,पंकज चौधरी ने कहा के छात्र छात्राओं की समस्याएं सुनने के लिए स्वंतंत्र कंट्रोल रूम ,,,वाट्सअप व् अन्य तरीके से उनकी शिकायतें रिकॉर्ड कर उनके समाधान पर भी ज़ोर देना चाहिए ,,पंकज चौधरी ने एक सवाल के जवाब में कहा के ,,हम अधिकारी लोग ,देश के संविधान और क़ानून की पालना को प्राथमिता देते है ,,कुछ इस पर कायम रहते है कुछ नहीं रह पाते ,,,,,उन्होंने कह के मिडिया को भी बदलाव लाना चाहिए ,,एक अपराधिक की खबर एक बुरे अधिकारी की खबर फॉलोअप बनाकर बार बार दिखाई जाती है ,,लेकिन एक अच्छे ईमानदार व्यक्ति ,,ईमानदार अधिकारी की खबर मीडिया में नहीं दिखाई जाती ,,जो बदलाव होना चाहिए ,,,,,,,,,,,प्रेस कल्ब में मीट प्रेस कार्यक्रम में प्रेस क्लब के सचिव हरिमोहन शर्मा ,,,उपाध्यक्ष जितेन्द्र शर्मा ,,कोषाध्यक्ष मालसिंह शेखावत ,कार्यकारिणी सदस्य अख्तर खान अकेला ,,असलम रोमी ,,गजेंद्र व्यास ,,सलिमुर्रहमांन खिलजी सहित कई पत्रकार मौजूद थे ,,अल्पसंख्य्क विभाग की तरफ से संभाग महासचिव तबरेज़ पठान ने भी पंकज चौधरी का स्वागत किया ,,,,,,,,,,,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...