हमें चाहने वाले मित्र

05 मई 2016

पत्रकारिता कितना जोखिम भरा काम

दुखद परंतु सच, पत्रकारिता कितना जोखिम भरा काम है। पत्रकार खुद सबसे बड़ी खबर है, लेकिन दुनिया उसके दर्द से बेखबर है, वो किसी अख़बार की सुर्खी नहीं बनता, वो दूसरों को सुर्ख़ियों में लाता है, खुद भूखा रहता है, भूखे के लिए खबर लिखता है, खुद दुखों में रहता है, हर दुखी को खबर में जगह देता है, खुद प्यासा है, हर प्यासे का सहारा है, हर घटना पे सबसे पहले जाता है, हर दंगे में खुद को घुटता पाता है, खुद कोई बयां दे नहीं पाता, दूसरों के बयानों को दिखाता है, खुद सवाल उठाता है, कइयों को कटघरे में लाता है, और खुद को एक वक़्त पर, स्वयं कटघरे में खड़ा पाता है, कोई बैंक कोई सरकार उसे लोन नहीं देती, तमाम उम्र एक मोटर साइकिल के सहारे बिताता है, बीवी बच्चों माँ बाप को कहीं घुमा नहीं पाता है, मॉल के महंगे कपडे और रेस्टोरेंट में जाने से कतराता है, किसी ब्रांडेड शर्ट और जीन्स के दामों के बराबर, पूरे महीने की तनख्वाह पाता है, पूरा दिन खबर की तलाश में बिताता है, शाम को जब होता है परिवार संग बिताने का समय, तो वो मुस्तैदी से दफ्तर पहुँच जाता है, दिन भर तलाश की गयी खबर को, और धारदार बनाता है। पत्रकारो को लिखने/खबरे दिखाने की आजादी हमेशा बनी रहे यही शुभकामना है

1 टिप्पणी:

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...