हमें चाहने वाले मित्र

09 अप्रैल 2016

नारोँ से याद आया

नारोँ से याद आया कि भारत मे दिये जाने वाले अधिकतर नारोँ का वजुद ...
* "मादरे वतन भारत की जय" का ये नारा 'अज़ीम उल्ला ह ख़ाँ' ने 1857 मे दिया था..
* "जय हिन्द" का नारा आबिद हसन 'साफ़रानी' ने दिया था..
* "इंक़लाब ज़िँदाबाद" का नारा 'हसरत मोहानी' ने दिया था...
* "भारत छोड़ो" (Quit India) का नारा "युसुफ़ मेहर अली" ने दिया था और इंन्होने ही 'साईमन गो बैक' (Simon Go Back) का नारा दिया था..
और हाँ "सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल मे है" बिहार के लाल 'बिसमिल अज़ीमाबादी' ने 1921 मेँ लिखा था ....
आख़िर मे इक़बाल का लिखा "तराना-ए-हिन्दी" तो याद होगा ही ??
सारे जहाँ से अच्छा, हिन्दोस्ताँ हमारा।
अगर याद नही है तो किसी भी ट्रेन पर चढ़ जाईये हर दरवाज़े के ऊपर " हिन्दी हैं हम वतन हैं, हिन्दोस्ताँ हमारा।। सारे..." लिखा हुआ मिल जाएगा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...