हमें चाहने वाले मित्र

03 अप्रैल 2016

रामदेव ने क्यों कहा- कानून का सम्मान करते हैं, नहीं तो काट देते अनगिनत सिर



रोहतक में सद्भावना रैली के दौरान रामदेव। योगगुरु ने इस मौके पर 'भारत माता की जय' को लेकर जारी विवाद पर बयान दिया।
रोहतक में सद्भावना रैली के दौरान रामदेव। योगगुरु ने इस मौके पर 'भारत माता की जय' को लेकर जारी विवाद पर बयान दिया।
रोहतक. योग गुरु बाबा रामदेव ने हैदराबाद के सांसद और एआईएमआईएम के नेता असदुद्दीन ओवैसी का नाम लिए बिना उन पर पलटवार किया है। रामदेव ने रविवार को रोहतक में कहा- "हम कानून का सम्मान करते हैं, नहीं तो अनगिनत सिर धड़ से अलग कर देते।" बता दें कि बीते दिनों ओवैसी ने कहा था, "अगर मेरी गर्दन पर चाकू रख दो तो भी मैं भारत माता की जय नहीं बोलूंगा।" और क्या कहा रामदेव ने...

- रामदेव रोहतक की नई अनाज मंडी में स्टेट लेवल सद्भावना रैली मेें पहुंचे थे।
- उन्होंने कहा, ‘‘एक आदमी टोपी पहनकर कहता है कि चाहे जो कर लें, लेकिन भारत माता की जय नहीं बोलूंगा।"
- "उसे यह जान लेना चाहिए कि हम संविधान में आस्था रखते हैं। कानून का सम्मान करते हैं, नहीं तो अनगिनत धड़ों से सिर काट देते।’’
ये हस्तियां हुईं सद्भावना रैली में शामिल
- रैली में योग गुरु बाबा रामदेव, कुश्ती खिलाड़ी योगेश्वर दत्त, क्रिकेटर जोगेन्द्र शर्मा, संग्राम सिंह शामिल हुए।
- इसके अलावा कबड्डी खिलाडी दीपक नरवाल, संदीप नरवाल, बॉक्सर परमजीत, राजेश्वर आश्रम से शंकराचार्य, जैन मुनि तरुण सागर, स्वामी अवधेशानद, अभिनेता रणदीप हुड्डा और अनुराधा बेनीवाल, गायिका हिमानी भी मौजूद थे।
- जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान हुए नुकसान के मद्देनजर यह रैली रखी गई थी।
ओवैसी ने दिया था भागवत को जवाब
- जेएनयू कैम्पस में भारत विरोधी नारेबाजी से पैदा विवाद के बीच 3 मार्च को आरएसएस चीफ मोहन भागवत ने कहा था कि नई पीढ़ी को भारत माता की जय के नारे लगाना सिखाया जाना चाहिए।
- इसके बाद हैदराबाद से लोकसभा सांसद ओवैसी ने लातूर जिले की उदगीर तहसील में 14 मार्च को एक सभा में कहा था, ‘‘मैं यह नारा नहीं लगाता। आप क्या करने जा रहे हैं, भागवत साहब?’’
- ओवैसी ने कहा, ‘‘अगर आप मेरी गर्दन पर चाकू भी रख देंगे तब भी मैं यह नारा नहीं लगाऊंगा।’’
- ‘‘कॉन्स्टिट्यूशन में कहीं भी यह नहीं लिखा है कि भारत माता की जय बोलना जरूरी है।’’

1 टिप्पणी:

  1. बाबा रामदेव अपना योग गुरु का स्तर भूलकर योगी आदित्यनाथ के स्तर पर उतर आए हैं। इसके पीछे ऊनकी राजनीतिक महत्वाकांक्षा हो सकती है।

    उत्तर देंहटाएं

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...