हमें चाहने वाले मित्र

27 मार्च 2016

उत्तराखंड में लगा प्रेसिडेंट रूल, कांग्रेस बोली- डेमोक्रेसी का मर्डर हुआ



हरीश रावत। (फाइल)
हरीश रावत। (फाइल)
नई दिल्ली/देहरादून. उत्तराखंड में प्रेसिडेंट रूल लग गया है। केंद्र सरकार ने इसकी सिफारिश की थी जिसे प्रणब मुखर्जी ने मान लिया। 9 कांग्रेसी विधायकों के बागी होने के बाद ये हालात बने हैं। हरीश रावत की अगुवाई वाली कांग्रेस सरकार को 28 मार्च को बहुमत साबित करना था। फिलहाल असेंबली को सस्पेंड किया गया है। हरीश रावत ने कहा- धमका रही है बीजेपी, जनता के बीच जाउंगा...
- इससे पहले सीएम हरीश रावत ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बीजेपी पर धमकी देने और हॉर्स ट्रेडिंग का आरोप लगाया था। कहा, ''हम जनता के बीच जाएंगे।''
- रावत ने आरोप लगाया, 'बीजेपी लगातार धमकी दे रही है। एक छोटे से सीमांत राज्य में प्रेसिडेंट रूल लगाने की बात कही जा रही है।'
- 'मैं इसे लोकतंत्र और संविधान की हत्या के रूप में देखता हूं। केंद्र में सत्तारूढ़ दल ने उत्तराखंड में दल-बदल करवाया।'
- 'मैं राज्य की जनता से अपील करना चाहता हूं कि वे इन सब बातों को देखें। अगर कोई धमकी देता है तो ये धमकी अर्थपूर्ण हो जाती है।'
- 'आप सरकार बदलना चाहते हैं। यानी आप जनता नहीं पैसे पर विश्वास कर रहे हैं।'
- 'आप धनबल से राज्य की राजनीति को प्रभावित करेंगे। इसे स्वीकार नहीं किया जाएगा।'
- 'राज्य के हर इंस्टीट्यूशंस को रन डाउन किया जा रहा है। जिस कथित स्टिंग को क्रेडिबिलिटी बताया जा रहा है, मैं बताना चाहता हूं कि 50 साल उत्तराखंड की खाक छानी है।'
- 'करोड़ों लोगों से संवाद किया है। 24-25 साल से लेजिस्लेचर में जनता की आवाज उठाता रहा हूं।'
- 'एक स्टिंग से मेरी छवि वो लोग खराब कर रहे हैं जिनपर खुद धोखाधड़ी का आरोप लगा है।'
- 'वो किस तरह के लोग हैं, उनका भी डीएनए जांचने की जरूरत है। मेरा डीएनए, लोगों का डीएनए है। उसे दूसरों की तरह इम्पोर्ट नहीं किया गया है।'
- 'इस मामले को लेकर हम जनता तक जाएंगे। गवर्नर को हटाने की मांग को किसी भी तरह से सही नहीं ठहराया जा सकता।'
किसने क्या कहा?
- कांग्रेस के आरोप पर वित्त मंत्री अरुण जेटली बोले कि लोकतंत्र की हत्या 18 तारीख को हुई।
- जेटली ने कहा, ''कांग्रेस को अपनी ऑर्गनाइजेशन और अपने लीडर्स को ब्लेम करना चाहिए ना कि बीजेपी को।''
- बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, ""अगर इस तरह की हॉर्स-ट्रेडिंग करके कोई बहुमत साबित करेगा तो ये प्रजातांत्रिक नहीं गिरोह की सरकार होगी।''
- "गिरोह की सरकार से बचाने और प्रजातंत्र का सम्मान करने के लिए प्रेसिडेंट रूल लगाया गया।''
- बीजेपी के श्याम जाजू ने कहा, ""पूरे देश ने देखा कि सीएम माइनॉरिटी गवर्नमेंट को मेजॉरटी में बदलने के लिए किस हद तक जा सकते थे।''
- "हमने राष्ट्रपति से मिलकर उत्तराखंड संकट का समाधान करने की अपील की थी। हमें इसी की उम्मीद थी।''
- कांग्रेस नेता मनु सिंघवी ने ट्वीट कर कहा, ''यह डेमोक्रेसी का मर्डर है। न तो स्पीकर की सुनी गई न विधानसभा में बहुमत साबित करने दिया गया।''
- शकील अहमद ने कहा, ''सत्ता में आने के बाद मोदी सरकार कांग्रेस शासित राज्यों के साथ ऐसा कर रही है। अरुणाचल के बाद बीजेपी की केंद्र सरकार ने अब उत्तराखंड के साथ ऐसा किया है।''
रावत के कहने पर स्पीकर ने बागी एमएलए से मांगा था जवाब
- सीएम हरीश रावत ने स्पीकर गोविंद सिंह कुंजवाल से मुलाकात कर दल-बदल कानून के तहत 9 बागी विधायकों को बर्खास्त करने की मांग की थी।
- कुंजवाल ने इन विधायकों को कारण बताओ नोटिस जारी किए थे।
- जवाब देने की मियाद शनिवार को खत्म हो गई।
- स्पीकर संतुष्ट नहीं हुए और बागी विधायकों को अयोग्य करार दे दिया।
स्टिंग में फंसे थे सीएम रावत
-इससे पहले रविवार को हरीश रावत के खिलाफ बागी विधायकों ने एक स्टिंग जारी किया।
- इसमें सीएम और एक शख्स के बीच पैसे के लेन-देन की भी बातचीत होने का दावा किया जा रहा है।
- बागी हरक सिंह रावत का आरोप है कि उन्हें और उनके साथियों को जान से मारने की भी धमकी दी जा रही है।
- बागी एमएलए हरक सिंह रावत का आरोप है कि कांग्रेस के नौ बागियों और कुछ बीजेपी विधायकों की खरीद-फरोख्त की कोशिश की जा रही है।
- हरक सिंह ने कहा, ''हमें जान से मारने की धमकी भी मिल रही है। हमने भारत सरकार से सिक्युरिटी का अरेंजमेंट करने की अपील की है।''
- आरोपों पर उत्तराखंड कांग्रेस का कहना है कि स्टिंग फर्जी है और इसकी जांच की जानी चाहिए।
- जांच में जो भी दोषी हो, उस पर कार्रवाई की जाए।
- बता दें कि हरीश रावत सरकार संकट में है। उनकी पार्टी के 9 विधायक बीजेपी के साथ मिल चुके हैं।
- गवर्नर ने रावत से 28 मार्च को बहुमत साबित करने के लिए कहा है।
आरोपों पर क्या बोले थे हरीश रावत?
-सीडी सामने आने के बाद सीएम ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके आरोपों को सिरे से नकार दिया।
- रावत ने उस पत्रकार की रेप्युटेशन पर ही सवाल उठाया, जिसका नाम इस सीडी के पीछे बताया जा रहा है।
- सीएम ने आरोप लगाया कि बागी विधायक पहले पार्टी से बीजेपी में पैसे के लिए गए और पैसे के लिए ही वे बातचीत करना चाहते हैं।
क्यों हुआ रावत का विरोध?
- कांग्रेस के बागी विधायक हरीश रावत के कामकाज से नाराज हैं।
- विधायकों का आरोप है कि सरकार में बड़े पैमाने पर करप्शन हो रहा है और राज्य बर्बादी की ओर जा रहा है।
- हालांकि, सूत्रों का कहना है कि बगावत के पीछे विजय बहुगुणा का रोल अहम है।
- बहुगुणा रावत को सीएम बनाने को लेकर कई बार खुलकर अपनी नाराजगी जता चुके हैं।
- वे पार्टी में बड़ी जिम्मेदारी की मांग करते आ रहे थे। हरीश रावत खेमा उन्हें जिम्मेदारी देने के विरोध में था।
असेंबली में अभी क्या है स्थिति?
- 70 सीटों वाली उत्तराखंड असेंबली में कांग्रेस के 36, बीजेपी के 28, निर्दलीय 3, बीएसपी के 2 और यूकेडी का 1 विधायक है।
- कांग्रेस से 9 विधायक बागी हैं। इससे कांग्रेस के पास 27 विधायक रह जाते हैं। उसे पीडीएफ के 6 मेंबर्स का सपोर्ट हासिल है।
- अगर स्पीकर कांग्रेस के नौ बागियों को दल-बदल कानून के तहत अयोग्य करार देते हैं तो विधानसभा 61 सीटों की रह जाएगी।
- तब बहुमत के लिए 31 की जरूरत होगी। ऐसे में, रावत कांग्रेस के 27 और पीडीएफ के 6 मेंबर्स के बूते सरकार बचा सकते हैं

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...