हमें चाहने वाले मित्र

27 जनवरी 2016

में तिरंगा हूँ

में तिरंगा हूँ
सब जानता हूँ , ,
मुझे ना बताओ
किसने
कितनी क़ुर्बानियाँ दी है
किसने कितनी
सियासत की है
में तिरंगा हूँ
सब जानता हूँ ,,
किसने नफरत भड़काई
किसने दिया है प्यार
में तिरंगा हूँ
सब जानता हूँ ,,
कभी दुरंगो ने
मुझे इस्तेमाल किया
कभी इक रंगियो ने
मुझे ललकारा है
मुझ पर मर मिटने वालों ने
मुझे हर वक़्त संभाला है
जिनके दिलों में
नहीं बचा है सम्मान मेरा
कई बार ऐसे लोगों ने ही
मुझे लहराया है
में तिरंगा हूँ
सब जानता हूँ ,,
सर्दी में ठिठुरते बच्चो ने
मुझे पुचकारा है
कई व्यापारियों ने
क्या है व्यापार मेरा
कई सरकारों ने
क्या है अनादर मेरा
में तिरंगा हूँ
में सब जानता हूँ ,,,,अख्तर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...