हमें चाहने वाले मित्र

20 दिसंबर 2015

DDCA विवाद: कीर्ति आजाद और केजरीवाल पर मानहानि का केस करेंगे जेटली

प्रेस कॉन्फ्रेंस में डीडीसीए में घोटाले का दावा करते कीर्ति आजाद।
प्रेस कॉन्फ्रेंस में डीडीसीए में घोटाले का दावा करते कीर्ति आजाद।
नई दिल्ली. डीडीसीए में कथित स्कैम को लेकर बीजेपी सांसद कीर्ति आजाद ने रविवार शाम को हुए खुलासे के बाद अरुण जेटली ने 'आप' पर पलटवार किया है। फाइनेंस मिनिस्टर अरुण जेटली ने ट्वीट कर कहा है कि वे केजरीवाल समेत आप के कुछ नेताओं के खिलाफ मानहानि (सिविल एंड क्रिमिनल डेफेमेशन) का केस करेंगे। वे कीर्ति आजाद पर भी केस करेंगे।
और किन नेताओं के खिलाफ जेटली करेंगे केस?
आप के नेता-संजय सिंह, आशुतोष, कुमार विश्वास, राघव चड्ढा और दीपक वाजपेयी के खिलाफ जेटली कोर्ट जाएंगे।
दिल्ली सरकार ने बनाया कमीशन ऑफ इनक्वॉयरी
डीडीसीए घोटाले में जांच के लिए दिल्ली सरकार ने कमीशन ऑफ इनक्वॉयरी बनाने का एलान किया है। इसके लिए सीएम अरविंद केजरीवाल ने सीनियर एडवोकेट गोपाल सुब्रह्मण्यम को इसका हेड बनाने के लिए लेटर लिखा है। गोपाल सुब्रह्मण्यम इसे हेड करने को राजी हो गए हैं।
कीर्ति आजाद ने कहा- 14 फर्जी कंपनियों के जरिए हुआ घोटाला
कीर्ति आजाद ने रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उसमें आजाद ने कहा, ''मैं किसी का व्यक्तिगत विरोध नहीं कर रहा। मैं करप्शन के खिलाफ हूं।'' उन्होंने वीडियो दिखाकर दावा किया कि 14 फर्जी कंपनियों के जरिए करोड़ों का घोटाला किया गया।
प्रेस कॉन्फ्रेंस में क्या हुआ?
- कीर्ति बोले-मैं पीएम नरेंद्र मोदी का बहुत बड़ा फैन हूं। वे करप्शन खत्म करना चाहते हैं। मोदी की भ्रष्टाचार विरोधी मुहिम का सपोर्ट करता हूं।
- कीर्ति ने विकीलिक्स फॉर इंडिया द्वारा बनाए गए एक वीडियो को प्रेस कॉन्फ्रेंस में दिखाया।
- वीडियो में डीडीसीए को लेकर कई स्कैम की बात की गई।
- वीडियो में दावा- कई कंपनियों के नाम पर डीडीसीए में करोड़ों रुपए का करप्शन हुआ।
- जांच में कंपनियों के फर्जी पते पाए गए। इस दौरान 14 कंपनियों के फर्जी होने का दावा किया गया।
- लैपटॉप-प्रिंटर की खरीद-फरोख्त में फर्जीवाड़ा सामने आया। 16900 रुपए एक लैपटॉप का किराया दिया गया।
क्या हैं कीर्ति के आरोप?
- आजाद का कहना है कि DDCA में पिछले 10 साल के दौरान 400 करोड़ रुपए से ज्यादा की हेराफेरी हुई।
- रीजनल डायरेक्टर ए.के. चतुर्वेदी और दिल्ली के कंपनी रजिस्ट्रार डी. बंदोपाध्याय ने इसकी जांच के नाम पर सिर्फ लीपापोती की।
- बंदोपाध्याय कोलकाता में 9 साल तक कंपनी रजिस्ट्रार रहे। उन्हीं के समय में वहां सारदा घोटाला हुआ।
- आजाद के मुताबिक, उन्होंने जेटली को डीडीसीए अफसरों के करप्शन पर 200 से ज्यादा चिट्ठियां लिखीं, लेकिन जेटली ने उनका कोई जवाब नहीं दिया।
-आरोप है कि स्टेडियम कन्स्ट्रक्शन में 24 करोड़ रुपए खर्च होने थे, लेकिन 130 करोड़ रुपए खर्च होने के बाद भी काम पूरा नहीं हो सका।
- अक्टूबर 2012 में कई पूर्व क्रिकेटरों ने भी डीडीसीए में भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। बिशन सिंह बेदी, मनिंदर सिंह, सुरिंदर खन्ना, गुरशरण सिंह जैसे पूर्व क्रिकेटर कीर्ति आजाद के आरोपों के समर्थन में धरने पर भी बैठ चुके हैं।
कीर्ति का नाम लिए बिना बोले जेटली- सोनिया से मिले हैं, मुझे निपटाना चाहते हैं
घोटाले का आरोप झेल रहे वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा, ''पार्टी के एक सांसद सोनिया गांधी से मिले हैं। दोनों में मुझे फिक्स करने को लेकर बात हुई है।'' हालांकि, जेटली ने आजाद का नाम नहीं लिया है।
जेटली ने क्या कहा?

-जेटली ने कहा, '' इसलिए उन लोगों के मामले को सीरियस फ्रॉड ऑफिस (SFIO) को दे दिया गया। 2013 में SFIO ने एक रिपोर्ट दी थी, जिसमें कंपनी के प्रॉसेस में गड़बड़ियां बताई गई थीं, लेकिन फर्जीवाड़े का कोई मामला नहीं बना था। मेरे मामले में कुछ मेंबर्स उनकी इन खामियों के जिम्मेदार हैं। मुझे लेकर यह मामला है ही नहीं।''
जेटली के सपोर्ट में आए सहवाग-गंभीर-इशांत
आरोप झेल रहे वित्त मंत्री अरुण जेटली का पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग और गौतम गंभीर ने सपोर्ट किया। सहवाग ने रविवार को ट्वीट कर कहा, ''जेटली मुश्किल वक्त में खिलाड़ियों का साथ देते थे। सही खिलाड़ियों का सिलेक्शन होता था।'' आप ने जेटली पर घोटाले के साथ ही दिल्ली टीम में खिलाड़ियों के सिलेक्शन पर भी सवाल उठाया था।
सहवाग ने क्या किया ट्वीट?

- डीडीसीए में जेटलीजी हमेशा खिलाड़ियों के सपोर्ट में रहते थे। मुश्किल वक्त में साथ देते थे।
- कहीं भी गलती होने की शिकायत की जाने पर वे तुरंत उसे ठीक कराते थे। जो खिलाड़ी डिजर्व करता था उसे इंसाफ मिलता था।
- मेरे वक्त में अगर डीडीसीए में कोई भी सरप्राइजिंग सिलेक्शन होता था मैं उन्हें इसके बारे में बताता। वे उसे ठीक कराते थे।
गौतम ने भी किए ट्वीट्स

- ''DDCA में भ्रष्टाचार को लेकर अरुण जेटली पर आरोप लगाना गलत है। जेटली तो वो इंसान हैं जिन्होंने टैक्स देने वाले लोगों के पैसे खर्च किए बिना दिल्ली को बेहतरीन स्टेडियम दिया।''
- ''कुछ पूर्व क्रिकेटरों द्वारा DDCA में हुई गड़बड़ियों के लिए अरुण जेटली को दोषी बताना मुनासिब नहीं है। जबकि वो लोग अरुण के चलते ही DDCA में अच्छे पदों पर बैठे हैं।''
इशांत शर्मा ने भी किया सपोर्ट
- टीम इंडिया के तेज गेंदबाज इशांत शर्मा ने जेटली का सपोर्ट किया है। उन्होंने कहा, ''जेटली हमेशा फेयर रहे हैं। वे खिलाड़ियों के लिए काफी मददगार रहे हैं।'' बता दें कि इशांत भी दिल्ली से खेल चुके हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...